• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • GOPALGANJ 86 PRISONERS CORONA INFECTED IN GOPAALGANJ CHANAVE JAIL SHIFT IN ISOLATION WARD BRVJ

बिहार: गोपालगंज जेल में 86 कैदी कोरोना संक्रमित, कारा प्रशासन में मचा हड़कंप!

गोपालगंज मंडल कारा में 86 कैदी हुए कोरोना पॉजिटिव

Gopalganj news: जेल अधीक्षक अमित कुमार ने बताया कि मंडल कारा में साफ-सफाई के साथ संक्रमण को रोकने के लिए पर्याप्त कदम उठाए गए हैं. बता दें कि गोपालगंज में कोरोना का खतरनाक संक्रमण गोपालगंज सदर और कुचायकोट प्रखंड में है.

  • Share this:
गोपालगंज. बिहार में बढ़ते कोरोना संक्रमण के बीच बड़ी खबर यह है कि गोपालगंज के चनावे मंडल कारा में 86 कैदी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं. सभी संक्रमित कैदियों को आइसोलेशन वार्ड में शिफ्ट कर इलाज शुरू कर दिया गया है. बताया जा रहा है कि ट्रूनेट जांच के लिए डेढ़ सौ कैदियों का सैंपल लिया गया था, इनमें से 86 कैदी संक्रमित मिले. इतनी बड़ी संख्या में कैदियों के संक्रमित होने से प्रशासनिक महकमें में हड़कंप है. फिलहाल हथुआ अस्पताल में बने डेडिकेटेड सेंटर में अभी 49 और आइसोलेशन सेंटर में 32 मरीजों का इलाज चल रहा है.

जेल में कैदियों के संक्रमित होने की खबर सामने आने के बाद डॉ. शत्रुंजंय कुमार के नेतृत्व में स्वास्थ्य विभाग की टीम मंडल कारा में पहुंच कर इलाज शुरू कर दिया है. सभी संक्रमित कैदियों को मेडिसिन किट दिए गए हैं. सोमवार की इसकी रिपोर्ट आने के बाद कारा प्रशासन ने एहतियात के कई कदम उठाए हैं.

थावे के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. अविनाश कुमार ने बताया कि ट्रूनेट जांच के लिए डेढ़ सौ कैदियों का सैंपल लिया गया था जिनमें 86 कैदी संक्रमित मिले. प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी ने बताया कि मंडल कारा के तीन सौ कैदियों को वैक्सीन की पहली डोज दी जा चुकी है.

वहीं, जेल अधीक्षक अमित कुमार ने बताया कि मंडल कारा में साफ-सफाई के साथ संक्रमण को रोकने के लिए पर्याप्त कदम उठाए गए हैं. सभी संक्रमितों का मुस्तैदी से इलाज किया जा रहा है. वैक्सीन से वंचित सभी कैदियों को टीका देने की कोशिश की जा रही है ताकि उनमें कोरोना संक्रमण का खतरा कम हो.

बता दें कि गोपालगंज में कोरोना का खतरनाक संक्रमण गोपालगंज सदर और कुचायकोट प्रखंड में सबसे अधिक एक्टिव है. स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी किये गये आंकड़ों के अनुसार सदर प्रखंड में 316 तो कुचायकोट में 200 संक्रमित मरीज एक्टिव हैं. वहीं सबसे कम एक्टिव मरीज की संख्या वाला प्रखंड कटेया, थावे, विजयीपुर है.
Published by:Vijay jha
First published: