लाइव टीवी

कोरोना महामारी के बीच बिहार में डराने लगी गंडक! गोपालगंज के सारण बांध में शुरू हुआ कटाव
Gopalganj News in Hindi

Mukesh Kumar | News18 Bihar
Updated: May 21, 2020, 3:09 PM IST
कोरोना महामारी के बीच बिहार में डराने लगी गंडक! गोपालगंज के सारण बांध में शुरू हुआ कटाव
पानी का स्तर बढ़ने के साथ ही गंडक के किनारों में कटाव शुरू हो गया है.

गोपालगंज ( Goplaganj) को हर साल बाढ़ की त्रासदी झेलनी पड़ती है. जिले के आधा दर्जन प्रखंड बाढ़ (Flood) प्रभावित हैं. जिसमे कुचायकोट, सदर प्रखंड, बरौली, मांझा, सिधवलिया और बैकुंठपुर प्रखंड शामिल है.

  • Share this:
गोपालगंज. गंडक के जलस्तर बढ़ने के साथ ही तटबंधों पर जहां दबाव बढ़ गया है. वहीं बैकुंठपुर के सलेमपुर में गंडक (Ganak River) से कटाव शुरू हो गया है. कटाव की वजह से ग्रामीणों को बाढ़ (Flood) का खतरा सताने लगा है. बता दें कि अगले महीने करीब 15 जून मानसून के आने की संभावना जताई जा रही है. मानसून (Mansoon) से पहले ही गोपालगंज (Gopalganj) में गंडक नदी से तटबंधो की मजबूती को कार्य संपन्न करा लेने का दावा किया गया है. अगर 15 जून तक कटाव निरोधी कार्य संपन्न नहीं कराये गए तो जिले को दोबारा बाढ़ की समस्या से जूझना पड़ सकता है.

स्थानीय विधायक ने की पहल
इस बीच स्थानीय विधायक की पहल से जल संसाधन विभाग ने कटाव निरोधी कार्य शुरू करने के लिए डीपीआर तैयार करने की कवायद शुरू कर दी है. बैकुंठपुर के भाजपा विधायक व प्रदेश उपाध्यक्ष मिथिलेश कुमार तिवारी के मुताबिक एक तरफ पूरा देश कोरोना के संकट से जूझ रहा है. इन सबके बीच गोपालगंज का कहर देखने को मिल रहा है. यहाँ सलेमपुर में गंडक से भीषण कटाव शुरू हो गया है.

गोपालगंज में कटाव निरोधी कार्य शुरू



विधायक ने कहा कि इसको लेकर उन्होंने जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा से बात की थी. जल संसाधन मंत्री ने साढ़े तीन करोड़ रूपये का डीपीआर तैयार कर जल्द ही कटाव निरोधी कार्य शुरू करने का आश्वासन दिया है. भाजपा विधायक ने कहा की कोरोना काल में गोपालगंज में बाढ़ आता है. तो यहां के लोगो को कोरोना और बाढ़ की दोहरी मार झेलनी पड़ सकती है.



आधा दर्जन प्रखंडों में कहर बरपाती है गंडक
गौरतलब है कि गोपालगंज को हर साल बाढ़ की त्रासदी झेलनी पड़ती है. जिले के आधा दर्जन प्रखंड बाढ़ प्रभावित हैं. जिसमे कुचायकोट, सदर प्रखंड, बरौली, मांझा, सिधवलिया और बैकुंठपुर प्रखंड शामिल है. यहां हर साल बाढ़ से बचाव को लेकर जल संसाधन विभाग के द्वारा करोडो रुपये खर्च कर बांध की मजबूती का कार्य कराया जाता है. बावजूद इसके जिले में मानसून के आने से पहले ही कटाव होना किसी तरह शुभ संकेत नहीं माना जा सकता.

ये भी पढ़ें

VIDEO: 'कि हमर बेटा भुखले सुते हो राम'... राबड़ी देवी ने शेयर किया भावुक गीत, मचा सियासी बवाल

1 जून से बिहार के इन शहरों से चलेंगी ट्रेन, यहां देखें पूरी लिस्‍ट और जानें टिकट बुक करने का तरीका
First published: May 21, 2020, 3:05 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading