होम /न्यूज /बिहार /बिहार के इस जिले में जमीन के अंदर से निकलने लगा सोना-चांदी, पुलिस भी हुई हैरान! CRPF जवान निकला मास्टरमाइंड

बिहार के इस जिले में जमीन के अंदर से निकलने लगा सोना-चांदी, पुलिस भी हुई हैरान! CRPF जवान निकला मास्टरमाइंड

पुलिस ने रेलकर्मी के घर से लूटे गये सोना-चांदी के आभूषण को जमीन के अंदर से बरामद किया है.

पुलिस ने रेलकर्मी के घर से लूटे गये सोना-चांदी के आभूषण को जमीन के अंदर से बरामद किया है.

Bihar News: अगर आप जमीन खोदने लगे तो उसमें से अचानक सोने-चांदी के आभूषण निकलने लगे तो थोड़ी देर के लिए आप भी हैरान हो जा ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

पुलिस ने लूट का सामान किया बरामद, दो हथियार और कारतूस समेत पांच मोबाइल भी जब्त
13 सितंबर को नगर थाने के आजाद नगर मोहल्ले में हुई थी डकैती, बेतिया के निकले सभी डकैत

रिपोर्ट- गोविंद कुमार 

गोपालगंज. अगर आप जमीन खोदने लगे तो उसमें से अचानक सोने-चांदी के आभूषण निकलने लगे तो थोड़ी देर के लिए आप भी हैरान हो जाएंगे. बिहार में डकैती के एक मामले की जांच कर रही पुलिस के साथ कुछ ऐसा ही हुआ. दरअसल बिहार के गोपालगंज शहर में रिटायर्ड रेलकर्मी के घर हुए डकैती कांड का पुलिस ने खुलासा करते हुए बेतिया जिला के रहनेवाले पांच डकैतों को गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार डकैतों में एक सीआरपीएफ का सस्पेंड जवान भी शामिल है, जो पूरे घटना का मास्टरमाइंड निकला है. पुलिस ने रेलकर्मी के घर से लूटे गये सोना-चांदी के आभूषण को जमीन के अंदर से बरामद किया है. साथ ही मोबाइल समेत सभी सामान भी बरामद कर लिया गया है.

एसपी आनंद कुमार ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि पकड़े गए अपराधियों के पास से दो देशी पिस्तौल, तीन जिंदा कारतूस, पांच मोबाइल और दो लूटी गई बाइक बरामद किया गया है.
गिरफ्तार अपराधियों में छपरा के खैरा इलाके के रहनेवाले मो. इसलामुद्दीन मियां का पुत्र असलम मास्टरमाइंड निकला, जो सीआरपीएफ से 10 साल पहले सस्पेंड हुआ था.

जमीन के अंदर से निकला सोना-चांदी

पुलिस से बचने के लिए डकैतों ने लूटे गये माल को बेतिया में ले जाकर जमीन के अंदर गड्ढा खोदकर छिपा दिया था. अब इसे बेचने के लिए तैयारी चल रही थी, इससे पहले पुलिस ने छापेमारी कर लूटे गये माल को बरामद कर लिया. इस प्रकार आजाद नगर के डकैती में लूटे गए सभी आभूषण को बरामद करने में बड़ी सफलता मिली है.  एसपी ने बताया कि गिरफ्तार पांच अपराधियों में मो. असलम अपने को सीआरपीएफ में 15 वर्ष पूर्व जवान के रूप में कार्य करने को बताया है. जिसकी सत्यापन किया जा रहा है.  साथ ही बेतिया पुलिस से इन सभी के अपराधिक इतिहास के रिकॉर्ड मांगे गए हैं.

रेलकर्मी के घर किराए पर रहता था असलम 

मिली जानकारी के अनुसार असलम रेलकर्मी के घर पर ही किरायेदार के रूप में रहता था. उसने डकैती की पूरी प्लान बनाई और बेतिया से डकैतों को बुलाकर वारदात को अंजाम दिलाई. पुलिस ने असलम के साथ बेतिया जिला के शनिचरी थाने के दुलार पट्टी गांव निवासी केदार पांडेय के पुत्र दीपांशु पांडेय उर्फ सचिन, नौतन थाने के गहिरी मुरलिया टोला निवासी शंभू शर्मा के पुत्र राहुल कुमार, बरियारपुर गांव के मदन साह के पुत्र बुलेट कुमार और जयराम साह का पुत्र शिवलाल कुमार को भी गिरफ्तार किया है. मो. असलम ने अपने आधार कार्ड का पता भी बदलवा दिया था और बेतिया के मुफसिल थाने के बरबद सेना गांव का पता दिया है, ताकि पुलिस को चकमा दे सके.

जानें क्या है पूरा मामला

नगर थाना के आजाद नगर मोहल्ले के वार्ड 22 में रेलवे से सेवानिवृत सगीर आलम के घर से 13 सितंबर की रात डकैती हुई. डकैतों ने पूरे परिवार को बंधकर बनाकर सोना-चांदी समेत 10 लाख से ज्यादा की संपत्ति लूट लिया था. इसके बाद पुलिस ने फॉरेंसिंक जांच कराई. 50 से अधिक सीसीटीवी कैमरों की जांच कराई. तब तब पुलिस को पता चला कि भितभेरवा के पास किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने के लिए अपराधी एकत्रित हुए हैं. सदर एसडीपीओ संजीव कुमार के नेतृत्व में पुलिस ने छापेमारी कर पांचों अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया. गिरफ्तारी के बाद पूछताछ जाने पर डकैती कांड का खुलासा हुआ.

Tags: Gold theft, Gopalganj news, Gopalganj Police

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें