Bihar News : कोरोना के प्रकोप के बीच शादी बनी मातम, दो हफ्तों में दुल्हन का सुहाग उजड़ा

शादी के बाद दूल्हे की मौत से परिवार में मातम पसरा.

Bihar Lockdown News: कुछ राज्यों में निर्देश रहे कि लॉकडाउन में शादी समारोहों पर प्रतिबंध रहेंगे. बिहार सरकार और सीएम नीतीश कुमार ने भी इस तरह की अपील की, लेकिन जानिए कैसे इस सलाह को न मानना एक परिवार के लिए महंगा पड़ा.

  • Share this:
    गोपालगंज. कोरोना की दूसरी लहर के बीच शादी समारोह का आयोजन करना दूल्हे के लिए जानलेवा साबित हुआ और मेहंदी छूटने से पहले दुल्हन का सुहाग उजड़ गया. मृतक दूल्हा शिक्षक था, उसकी कोरोना से मौत हो गई. बिहार में वायरस का संक्रमण कम करने के लिए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने लोगों से शादी के सामूहिक आयोजनों को टालने की अपील की थी. लेकिन अपील और नियमों की परवाह किए बगैर ऐसे आयोजनों का सिलसिला जारी है.

    यह मामला कटेया के रुद्रपुर गांव का है. रुद्रपुर निवासी और ज्ञानेश्वरी हाई स्कूल गौरा बाजार में अतिथि शिक्षक दुर्गेश पांडेय की शादी 28 अप्रैल को पश्चिम चंपारण ज़िले के बगहा बनकटवा गांव की प्रियंका मिश्रा के साथ हुई थी. शादी के अगले दिन 29 अप्रैल को बारात लौटी, जिसके बाद से ही दुर्गेश को बुखार आने लगा.

    ये भी पढ़ें : अफवाहों का मकड़जाल या जागरूकता नहीं? टीके लगवाने नहीं पहुंच रहे ग्रामीण



    दुर्गेश का इलाज स्थानीय स्तर पर करवाया गया लेकिन उसकी गंभीर हालत को देखते हुए 5 मई को उसे गोरखपुर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया. इलाज के दौरान 15 मई को उसकी मौत हो गई. उसकी मौत की खबर सुनते ही परिजनों के साथ ही पूरे गांव में सन्नाटा पसर गया. स्थानीय मुखिया और परिजन आनन-फानन में गोरखपुर पहुंचे, लेकिन कोरोना प्रोटोकाल के तहत ही शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया.

    ये भी पढ़ें : हत्या समेत कई वारदातों में शामिल हार्डकोर नक्सली दासो घर से ही गिरफ्तार

    बताया जा रहा है कि नवविवाहिता प्रियंका की हालत भी खराब हो रही है. वहीं, पूरा परिवार विचलित है. साथ ही इलाके के जानकारों ने सलाह दी है कि बारात में शामिल सभी लोगों को कोरोना टेस्ट करवाना चाहिए और लक्षण दिखने पर आइसोलेट होना चाहिए.