लाइव टीवी

Lockdown में यहां कुत्ते खा रहे चिकन बिरयानी, खिचड़ी और खीर, दिन के हिसाब से तय है मेन्यू
Gopalganj News in Hindi

Mukesh Kumar | News18 Bihar
Updated: May 20, 2020, 8:23 AM IST
Lockdown में यहां कुत्ते खा रहे चिकन बिरयानी, खिचड़ी और खीर, दिन के हिसाब से तय है मेन्यू
बिहार के गोपालगंज में सड़कों पर घूमने वाले कुत्तों के लिए भोजन की व्यवस्था की गई है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

लॉकडाउन (Lockdown) की वजह से आम और खास सभी तबका परेशान है. वे बेजुबान जानवर (Animal) भी परेशान हैं, जो लावारिस सड़कों पर घूमते रहते थे.

  • Share this:
गोपालगंज. पूरे देश में कोरोना महामारी (Corona epidemic) को लेकर लॉकडाउन (Lockdown) है. इस लॉकडाउन की वजह से आम और खास सभी तबका परेशान है. इस महामारी में वे बेजुबान जानवर भी परेशान हैं, जो लावारिस सड़कों पर घूमते रहते थे. लॉकडाउन की वजह से सभी ढाबे होटल बंद हो गए है. लोगों का घरों से निकलना बंद हो गया है. इसकी मार अब बेजुबान लावारिस जानवरों पर देखने को मिल रही है. खाना नहीं मिलने और कई दिनों तक भूखे रहने की वजह से ये लावारिस जानवर खासकर कुत्ते अब हिंसक होने लगे हैं.

लावारिस कुत्तों को हिंसक होने से बचाने और उन्हें भरपेट खाना खिलाने के लिए गोपालगंज में कई सामाजिक संस्थाए सामने आई हैं. वे लगातार ऐसे लावारिस जानवरों को खाना खिला रही है. मीरगंज की श्री साईं सेवा संस्थान द्वारा मीरगंज शहर के सभी लावारिस कुत्‍तों के लिए दिन के हिसाब से खाना खिलाया जाता है. इस संस्था से जुड़े सदस्य सप्ताह में दो दिन खाना लेकर सड़कों पर उतरते हैं. वहां लावारिस कुत्‍तों को जगह जगह खाना रखते हैं और फिर आगे बढ़ जाते है. यह सिलसिला पिछले डेढ़ महीने से जारी है.

पसंद का खाना
श्री साईं सेवा संस्थान के अध्यक्ष सरोज कुमार के मुताबिक, उनकी संस्था के द्वारा कुत्‍तों को उनकी पसंद के हिसाब से खाना खिलाया जाता है. कुत्‍तों को चिकन बिरयानी, खिचड़ी, खीर, सेवई आदि मेन्‍यू के हिसाब से खिलाया जाता है. सरोज कुमार के मुताबिक खाना नहीं खाने से कुत्ते हिंसक हो सकते हैं, जिसकी वजह से बच्‍चों और हर वर्ग के लोगों को उनसे खतरा बढ़ जाता है. उन्होंने बताया की यह सिलसिला डेढ़ महीने से जारी है और आगे भी जब तक लॉकडाउन जारी रहेगा, तब तक यह अभियान जारी रहेगा. कुत्ते हिंसात्मक न हों इसके लिए उन्हें दिन के हिसाब से मेन्यू तैयार किया जाता है. मेन्यू के हिसाब से खाना खिलाया जाता है.



मंगलवार को बिरयानी


सरोज कुमार बताते हैं कि मंगलवार को मेन्यू के हिसाब से वेज बिरयानी तैयार किया गया. इस संस्था के वोलंटियर बड़े बर्तन लेकर ठेला से मीरगंज शहर के कई मोहल्ले में जाते हैं. फिर वे डिस्पोजल प्लेट में कुत्तो को खाना परोसते हैं. बता दें कि गोपालगंज पुलिस द्वारा थावे दुर्गा मंदिर परिसर में बंदरों को खाना खिलाया जाता है. यहां बंदरों की बड़ी तादाद है, लेकिन लॉकडाउन की वजह से मंदिर परिसर को बंद कर दिया गया है. मंदिर के बंद होने से सैकड़ों की संख्या में आसपास में रहने वाले बंदरों और कुत्‍तों को खाने की समस्या हो गयी.

ये भी पढ़ें:
बिहार में प्रवासी मजदूरों को भी मिलेगा काम, सरकार कर रही 1.10 लाख लोगों के रोजगार का इंतजाम!

3 महीने लॉज में साथ रहने के बाद प्रेमी ने किया घर ले जाने से इनकार, प्रेमिका ने कोर्ट की छत से लगा दी छलांग

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गोपालगंज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 20, 2020, 8:04 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading