CM नीतीश ने सत्तर घाट महासेतु का किया उद्घाटन, 10 जिलों के बीच घट गई दूरी, मिलेगा बड़ा बाजार
Gopalganj News in Hindi

CM नीतीश ने सत्तर घाट महासेतु का किया उद्घाटन, 10 जिलों के बीच घट गई दूरी, मिलेगा बड़ा बाजार
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सत्तर घाट पुल का उद्घाटन किया.

गंडक नदी (Gandak River) पर बने महासेतु के चालू हो जाने से सिवान, सारण, गोपालगंज के अलावा उत्तर प्रदेश के देवरिया, कुशीनगर, बलिया, वाराणसी जिलों से नेपाल की दूरी सौ किलोमीटर तक कम हो गई है.

  • Share this:
गोपालगंज. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Chief Minister Nitish Kumar) ने शिलान्यास के आठ वर्षों बाद बनकर तैयार सत्तरघाट महासेतु का उद्घाटन किया. उन्होंने पटना से ही वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जनता को समर्पित किया. इस पुल के बन जाने से सारण-तिरहुत प्रमंडलों के कई जिलों के बीच दूरी घट गई हैं. करीब 40 लाख से अधिक की आबादी को फायदा होगा. इस पुल का निर्माण बिहार राज्य पुल निर्माण निगम द्वारा पुल का निर्माण वशिष्ट कंस्ट्रक्शन कंपनी से कराया गया है. बता दें कि 20 अप्रैल 2012 को सीएम नीतीश ने नारायणी नदी (गंडक नदी) पर सत्तरघाट महासेतु का शिलान्यास किया था.

गौरतलब है कि 1440 मीटर लंबा यह महासेतु डेटलाइन बीतने के तीन साल बाद पूरा पाया है. हालांकि इसका उद्घाटन लॉकडाउन के पहले ही हो जाता लेकिन अनलॉक 1 के बाद पुल का उद्घाटन मंगलवार को होना तय किया गया था.

गंडक नदी पर बने महासेतु के चालू हो जाने से सिवान, सारण, गोपालगंज के अलावे उत्तर प्रदेश के देवरिया, कुशीनगर,बलिया, वाराणसी जिलों से नेपाल की दूरी सौ किलोमीटर तक कम हो गई है. राम-जानकी पथ इसी महासेतु से होकर बन रही है जिससे अयोध्या से जनकपुर तक जाने का रास्ता अब आसान साबित होगा.



राम-जानकी पथ के निर्माण के बाद सैलानियों के आवागमन के लिए यह मुख्य मार्ग साबित होगा.
सत्तरघाट महासेतु होकर राम-जानकी पथ गुजरेगा. इससे पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा. बोधगया से केसरिया बौद्ध स्तूप तक जाने वाले सैलानियों के लिए यह संक्षिप्त और अहम मार्ग साबित होगा जबकि नेपाल के जनकपुर धाम जाने के लिए श्रद्धालुओं के लिए यह आसान रास्ता बन गया है.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 264 करोड़ की लागत से बने सत्तर घाट पुल का उद्घाटन किया.


इस महासेतु के निर्माण होने के बाद धनेश्वरनाथ मंदिर सिंहासनी, केसरिया शिव मंदिर, अरेराज शिव मंदिर सहित जनकपुर जाने वाले श्रद्धालुओं को आसानी होगी.  इस पुल के निर्माण में करीब 264 करोड़ की लागत आई है. इस पुल के बनने के बाद नक्सलियो के गढ़ कहे जाने वाले इस इलाके में अब विकास की गति तेज होगी और किसानो को अपनी फसल को बेचने के लिए बड़ा बाजार मिलेगा.

बता दें कि सीएम नीतीश कुमार ने कहा की इस महासेतु के निर्माण का आधारशिला वर्ष 2012 में रखी गयी थी. इसे बनाने में 3 वर्षो का समय निर्धारित किया गया था, लेकिन भूमि सम्बन्धी मामले और अन्य अड़चनों की वजह से एक लंबा वक्त लगा.

ये भी पढ़ें


चीन-नेपाल बॉर्डर विवाद के बीच बिहार में बन रहा रेलवे ब्रिज बनकर तैयार, Chicken neck पहुंचना हुआ आसान




साइकिल गर्ल ज्योति ने फिर जीता लोगों का दिल, पुरस्कार के पैसे से कराई अपनी गरीब बुआ की शादी

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading