ठेकेदार हत्याकांड: आखिर फरार क्यों हुए चीफ इंजीनियर? दाल में कुछ तो काला है!

News18 Bihar
Updated: August 30, 2019, 9:08 AM IST
ठेकेदार हत्याकांड: आखिर फरार क्यों हुए चीफ इंजीनियर? दाल में कुछ तो काला है!
चीफ इंजीनियर के आवास के बरामद किया गया ठेकेदार का जला हुआ जींस.

जब रमाशंकर सिंह के शरीर में आग लगी तब सभी अभियंता और कर्मी भाग क्यों गए? आखिर किसी ने बचाने की कोशिश क्यों नहीं की?

  • Share this:
बिहार के गोपालगंज में ठेकेदार रामाशंकर सिंह की जल संसाधन विभाग के चीफ इंजीनियर मुरलीधर सिंह के आवास पर संदिग्ध हालत में जलकर मौत हो गई. मृतक के परिजनों ने मुख्य अभियंता, उनकी पत्नी और अन्य लोगों पर हत्या का आरोप लगाया है. इस मामले में नगर थाने में मुख्य अभियंता, अधीक्षण अभियंता और कार्यपालक अभियंता के अलावा चार अज्ञात खिलाफ एफआईआर दर्ज किया गया है. वहीं पुलिस अधीक्षक (एसपी) ने इसकी जांच के लिए एसआईटी गठित की है. जाहिर है जांच टीम इस बिंदु पर पहले जांच कर रही है कि आखिर ठेकेदार कैसे जला? ठेकेदार के शरीर में आग कैसे लगी?

दरअसल यह मामला कुछ इस तरह है कि ठेकेदार रामा शंकर सिंह ने ही चीफ इंजीनियर के आवास का निर्माण कराया था. आरोप है कि दो करोड़ 20 लाख रुपए की योजना का काम पूरा होने के बाद ठेकेदार ने बकाये के 60 लाख रुपये मांगे तो चीफ इंजीनियर ने इसे देने से इनकार कर दिया.

Gopalganj
ठेकेदार हत्याकांड मे गोपालगंज के नगर थाने में प्राथमिकी दर्ज करवाई गई.


बकाये रकम के भुगतान को लेकर था विवाद

बताया जा रहा है कि इसी बात को लेकर दोनों पक्षों में तनातनी भी हुई थी और विवाद जारी था. गुरुवार को ठेकेदार बकाए रुपयों के लिए चीफ इंजीनियर के पास पहुंचे तो फिर से बहसबाजी शुरू हो गई. इसके बाद के घटनाक्रम के बारे में कोई नहीं बता रहा है. दरअसल इसके बाद ही ठेकेदार के शरीर में आग लग गई. गंभीर हालत में उन्हें गोरखरपुर रेफर किया गया जहां उनकी मौत हो गई.

बहरहाल पुलिस आग लगने के कारणों का पता लगाने में जुटी हुई है. बड़ा सवाल है कि आखिर ठेकेदार रमाशंकर सिंह जब अपने भुगतान से संबंधित मामले को लेकर चीफ इंजीनियर के आवास पर गए तो उनके पास किरासन तेल और माचिस कहां से आया?

Gopalganj
ठेकेदार की संदिग्ध मौत के बाद आक्रोशित लोगों ने एनएच 28 जाम कर दिया.

Loading...

घटना को लेकर उठ रहे कई सवाल

जब रमाशंकर सिंह के शरीर में आग लगी तब सभी अभियंता और कर्मी भाग क्यों गए? आखिर किसी ने बचाने की कोशिश क्यों नहीं की? सवाल यह भी है की चीफ इंजीनियर ने खुद इस मामले की जानकारी अधिकारियों को क्यों नहीं दी?

एक सवाल यह भी है कि जब भवन का निर्माण पूरा हो गया था तब उनका भुगतान करने में विलंब क्यों किया जा रहा था? आखिर किस बात का इंतजार किया जा रहा था भुगतान में? क्या रिश्वत की रकम के लिए चीफ इंजीनियर ने एक ठेकेदार को जिंदा जला डाला?

बहरहाल एसपी राशिद जमा ने कहा है कि फोरेंसिक के साथ- साथ फाइनेंसियल टीम भी इस मामले की जां करेगी जांच और हर बिंदु को खंगाला जाएगा. डीएम अनिमेष कुमार पराशर ने कहा कि मामले की निष्पक्ष जांच होगी और किसी भी हाल में दोषी बख्शे नहीं जाएंगे.

(रिपोर्ट- मुकेश कुमार)

'लालू बिन सून' है बिहार की राजनीति! क्या मिस कर रहे है लोग?

मांझी ने फिर CM बनने की जताई इच्छा ! BJP बोली- No vacancy...

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गोपालगंज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 30, 2019, 8:21 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...