नसबंदी के बाद महिला की मौत, हेल्थ मैनेजर ने कहा- हमारी गलती नहीं

News18 Bihar
Updated: September 6, 2019, 2:21 PM IST
नसबंदी के बाद महिला की मौत, हेल्थ मैनेजर ने कहा- हमारी गलती नहीं
बिहार के गोपालगंज में बंध्याकरण ऑपरेशन के बाद महिला की मौत हो गई.

परिजनों ने मौत के लिए बरौली पीएचसी में ड्यूटी पर दौरान उपस्थित चिकित्सकों और प्रबंधकों को जिम्मेदार ठहराया है. वहीं, मामले में बरौली पीएचसी के हेल्थ मेनेजर खुशबू कुमारी ने इलाज में लापरवाही के बात से इनकार किया है.

  • Share this:
गोपालगंज. स्वास्थ्य सेवा  (Health Service) में सुधार के तमाम दावों के बीच बिहार (Bihar) में आए दिन इसकी पोल खुलती नजर आती है. सरकारी व्यवस्था की पोल खोलने वाला एक वाकया गुरुवार को तब सामने आया जब बंध्याकरण (नसबंदी) के ऑपरेशन (Sterilization operation) के दौरान एक महिला की हालत बिगड़ी तो उसकी जान नहीं बचाई जा सकी. दरअसल पीएचसी (PHC) में महिला की स्थिति बिगड़ी तो उसे सदर अस्पताल रेफर किया गया, लेकिन रास्ते में ही उसकी मौत हो गई. खास बात ये कि जिस एंबुलेंस से उसे ले जाया जा रहा था उसका चालक एंबुलेंस (Ambulance) छोड़ कर फरार हो गया. वहीं, हेल्थ मैनेजर ने इस मामले से पल्ला झाड़ लिया.

अधिक ब्लीडिंग से हुई मौत!
30 वर्षीय मृतक महिलासोनी देवी  बरौली के रतनसराय निवासी राकेश प्रसाद की पत्नी थी. बताया जाता है की गुरुवार को बरौली पीएचसी में महिला बंध्याकरण शिविर का आयोजन किया गया था. भारी कुव्यवस्था के बीच इस शिविर में कुल 9 महिलाओं का बंध्याकरण किया गया था. इसमें रतनसराय की सोनी देवी शामिल थीं. मृतक के पति राकेश प्रसाद के मुताबिक कल सब कुछ ठीक था. ऑपरेशन संपन्न होने के बाद अचानक  उसकी पत्नी का ब्लीडिंग शुरू हो गई. परिजनों  ने चिकित्सकों से बार-बार गुहार लगाई, लेकिन उसे टाल दिया गया.

एंबुलेंस छोड़ फरार हुआ ड्राइवर

काफी देर से पहुंचे चिकित्सकों ने महिला का ब्लीडिंग रोकने की कोशिश की, लेकिन वे सफल नहीं हो पाए.  स्थिति नाजुक होने लगी तो उसे आनन-फानन में देर रात सदर अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया, लेकिन रास्ते में ही महिला महिला की मौत हो गई. परिजनों की पिटाई के डर से एम्बुलेंस चालक शव को एंबुलेंस ही छोड़कर सदर अस्पताल से फरार हो गया. परिजनों ने मौत के लिए बरौली पीएचसी में ड्यूटी पर दौरान उपस्थित चिकित्सकों और प्रबंधकों को जिम्मेदार ठहराया है.

हेल्थ मैनेजर ने जिम्मेदारी से किया इनकार
वहीं, मामले में बरौली पीएचसी के हेल्थ मेनेजर खुशबू कुमारी ने इलाज में लापरवाही के बात से इनकार किया है. उन्होंने बताया कि मृतिका की ऑपेरशन के बाद स्थिति बिल्कुल सामान्य थी. सुबह अचानक उनकी हालत बिगड़ने पर उन्हें सदर अस्पताल रेफर कर दिया गया जहां रास्ते मे ही उनकी मौत हो गई. उन्होंने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट से सच्चाई सामने आ जाएगी.
Loading...

(रिपोर्ट- मुकेश कुमार)

ये भी पढ़ें- 

बच्चा छीनने में नाकाम रहने पर अपराधियों ने शिक्षक को ट्रेन से फेंका, हुई मौत

इन 23 शब्दों के फेर में फंस गए बाहुबली अनंत सिंह, समर्थकों ने कहा साजिश

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गोपालगंज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 6, 2019, 11:45 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...