लाइव टीवी

जेपी आंदोलन की नयी रूपरेखा रखने वालों में शामिल थे बाबू बृजकिशोर नारायण सिंह-हरिवंश ना. सिंह

News18 Bihar
Updated: November 1, 2019, 9:57 AM IST
जेपी आंदोलन की नयी रूपरेखा रखने वालों में शामिल थे बाबू बृजकिशोर नारायण सिंह-हरिवंश ना. सिंह
बिहार के गोपालगंज में बाबू बृज किशोर सिंह की 85वीं जयंती पर आयोजित कार्यक्रम में राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश नारायण सिंह व अन्य.

हरिवंश नारायण सिंह ने कहा कि 1977 के जेपी के आन्दोलन में बाबू बृजकिशोर नारायण सिंह देश और बिहार के पहले ऐसे विधायक थे जिन्होंने अपनी विधायकी छोड़कर इस आन्दोलन की एक नयी रुपरेखा रखी.

  • Share this:
गोपालगंज. बड़े विलक्षण और बेहतर मंत्री के रूप में जाने जाते थे दिवंगत बाबू बृजकिशोर नारायण सिंह (Brijkishor Narayan singh). आज लोग उन्हें सिर्फ एक नेता के रूप में न देखें, एक पूर्व मंत्री के रूप में न देखें, बल्कि उन्हें दूरदर्शी और प्रतिभा के धनी व्यक्ति के रूप में लोग उन्हें जानें. ये बातें राज्यसभा के उपसभापति (deputy chairman of rajyasabha) हरिवंश नारायण सिंह (harivansh narayan singh) ने कही. वे गुरुवार को बैकुंठपुर के दिघवा दुबौली में बाबू बृजकिशोर नारायण सिंह की 85वी जयंती समारोह में भाग लेने आए हुए थे.

उपसभापति ने बाबू साहब की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया और एक जनसभा को भी संबोधित किया. इस मौके पर हरिवंश नारायण सिंह ने कहा कि  1977 के जेपी के आन्दोलन में  बाबू बृजकिशोर नारायण सिंह देश और बिहार के पहले ऐसे विधायक थे जिन्होंने अपनी विधायकी छोड़कर इस आन्दोलन की एक नयी रुपरेखा रखी. उस वक्त किसी को नहीं पता था की जेपी का आन्दोलन किस मुकाम पर पहुचेगा.

हरिवंश सिंह ने कहा कि उस वक़्त घनघोर अंधेरा था, लेकिन उन्होंने जयप्रकाश नारायण के सम्पूर्ण बदलाव को चुना. उन्होंने तब बड़ा साहस का काम किया. फिर बाबू साहब कांग्रेस को छोड़कर नीतीश कुमार के साथ आ गये. यह वो दौर था जब बिहार पिछले पायदान पर खड़ा था, लेकिन बिहार के बदलाव की बुनियाद बाबू साहब ने रखी थी.

बाबू साहब के बेटे और जदयू प्रदेश महासचिव मंजीत सिंह ने कहा की जब उनके पिता कैंसर से पीड़ित थे. तब वे बीमारी के दौरान कहा करते थे कि उनका अंतिम संस्कार बैकुंठपुर के धरती पर किया जाए. इसलिए उनका अंतिम संस्कार डुमरिया घाट पर किया गया. पूर्व विधायक ने कहा कि वे अपने पिता को सपने को पूरा करना चाहते हैं. वे बैकुंठपुर के विधायक रहे न रहे, लेकिन यहा की जनता की सेवा वे करते रहेंगे.

इस जयंती समरोह में लोजपा के राष्ट्रीय महासचिव व पूर्व सांसद काली प्रसाद पाण्डेय, जिला सहकारिता के अध्यक्ष महेश राय, जदयू नेता शैलेन्द्र सिंह सहित भारी संख्या में लोग मौजूद थे.

रिपोर्ट- मुकेश कुमार

ये भी पढ़ें-
Loading...

BJP ने सुलझाई JDU की 'उलझन' कहा- नीतीश की बात सही

BDO की मौत से गुस्साए साथी अफसर, काम छोड़कर जताया विरोध

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गोपालगंज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 1, 2019, 9:56 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...