होम /न्यूज /बिहार /गोपालगंज ट्रिपल मर्डर: JDU विधायक पप्पू पांडेय को मिली थी क्लीन चिट, अब भाई-भतीजे हुए रिहा

गोपालगंज ट्रिपल मर्डर: JDU विधायक पप्पू पांडेय को मिली थी क्लीन चिट, अब भाई-भतीजे हुए रिहा

गोपालगंज के ट्रिपल मर्डर केस में जेडीयू विधायक के परिवार को बड़ी राहत मिली है

गोपालगंज के ट्रिपल मर्डर केस में जेडीयू विधायक के परिवार को बड़ी राहत मिली है

Gopalganj Triple Murder Case: गोपालगंज जिले के रूपनचक में 20 मई 2020 की रात अपराधियों ने गोलियों से भूनकर दंपती और बेटे ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

गोपालगंज में हुए ट्रिपल मर्डर केस में जेडीयू विधायक का भी नाम आया था
इस केस में अब विधायक के बड़े भाई और भतीजे को भी बरी कर दिया गया है
अमरेन्द्र उर्फ पप्पू पांडेय की गिनती बिहार के दबंग और बाहुबली विधायकों में होती है

गोपालगंज. गोपालगंज के हथुआ थाने के रूपनचक गांव में हुए ट्रिपल मर्डर में जेडीयू विधायक के परिवार को बड़ी राहत मिली है. इस केस में सीआइडी से जेडीयू के बाहुबली विधायक अमरेंद्र कुमार उर्फ पप्पू पांडेय को पहले ही क्लीन चिट मिल चुकी थी. कोर्ट ने साक्ष्य के अभाव में अब विधायक के भाई और भतीजा को भी को बरी कर दिया है. सीआइडी की जांच के बाद इस मामले में विधायक के भाई और बाहुबली सतीश पांडेय, इनके पुत्र जिला पर्षद के तत्कालीन चेयरमैन मुकेश पांडेय और नयागांव तुलसिया के रहनेवाले बटेश्वर पांडेय के विरुद्ध चार्जशीट सौंपी गयी थी.

जिला एवं सत्र न्यायाधीश विष्णुदेव उपाध्याय के कोर्ट के सेशन कोर्ट में मामले की सुनवाई चल रही थी. केस की सुनवाई के दौरान पेश किये गये गवाहों ने अपराधियों को पहचानने से इंकार कर दिया, इसके बाद कोर्ट ने साक्ष्य के अभाव में सभी को बरी कर दिया. कोर्ट का फैसला आते ही विधायक के समर्थकों में उत्साह देखा गया. इसको लेकर गहमागहमी तेज हो गयी. कोर्ट के फैसले के बाद विधायक के परिजनों में जहां उत्साह है, वहीं पुलिस ने हथुआ इलाके में चौकसी बढ़ा दी है. इधर, जेडीयू विधायक अमरेंद्र कुमार उर्फ पप्पू पांडेय खुद के साथ अपने परिवार को शुरू से ही ट्रिपल मर्डर केस में निर्दोष बता रहे थे.

भाई मुन्ना तिवारी हत्याकांड में जेपी यादव बरी

मंगलवार को जिला एवं सत्र न्यायाधीश विष्णुदेव उपाध्याय की सेशन कोर्ट में दूसरा फैसला जेडीयू विधायक अमरेंद्र कुमार उर्फ पप्पू पांडेय के फुफेरे भाई मुन्ना तिवारी हत्याकांड में आया. कोर्ट ने हथुआ थाने के रेपुरा गांव में हुए मुन्ना तिवारी की गोलियों से भूनकर हत्या किये जाने के मामले में नामजद आरोपित रूपनचक गांव के निवासी जयप्रकाश उर्फ जेपी यादव को साक्ष्य के अभाव में बरी कर दिया. जेपी यादव हत्या मामलों में जेल में बंद था.

कोर्ट परिसर में अलर्ट रही पुलिस

सिविल कोर्ट में सुनवाई के दौरान पुलिस पूरे दिन अलर्ट रही. चनावे जेल से पेशी के लिए सतीश पांडेय, मुकेश पांडेय और बटेश्वर पांडेय को लाया गया तब जेल की पुलिस के अलावा कोर्ट परिसर की पुलिस भी अलर्ट रही. कोर्ट का फैसला आने के बाद कड़ी सुरक्षा के बीच सभी को चनावे जेल भेजा गया था. जेल से निकलने के बाद विधायक ने भाई-भतीजे के साथ थावे मंदिर में पूजा भी की.

Tags: Bihar News, Gopalganj news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें