मुखिया ने बगैर टंकी लगाए ही निकाले नलजल योजना के पैसे, DM के दिए FIR के आदेश

बिहार के गोपालगंज में गिरी नल जल योजना की टंकी (File Photo)

बिहार के गोपालगंज में गिरी नल जल योजना की टंकी (File Photo)

Bihar Panchayat Election: बिहार में मुखिया के चुनाव का एलान किसी भी वक्त हो सकता है. नीतीश सरकार ने नलजल समेत अन्य योजनाओंं में गड़बड़ी करने वाले मुखिया के चुनाव लड़ने पर रोक लगा दी है.

  • Share this:
गोपालगंज. बिहार में जैसे-जैसे पंचायत चुनाव (Bihar Panchayat Election) की तारीखें नजदीक आ रही है गोपालगंज (Gopalganj) जिले में वैसे ही पंचायतों में घपले और घोटाले की तस्वीरे भी सामने आ रही है. ताजा मामला सदर अनुमंडल के बरौली प्रखंड के कहला पंचायत का है. यहां मुखिया (Mukhia) द्वारा कई योजनाओ का पैसा वर्षो पहले ही उठाव कर लिया गया लेकिन उन सभी योजनाओ को अभी तक पूरा नहीं किया गया. इसको लेकर डीएम ने बीडीओ को कहला पंचायत के मुखिया के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने के आदेश भी दिए हैं.

दरअसल कहला पंचायत के वार्ड नम्बर 3, 04, 06 और 13 वार्ड में नलजल योजना के तहत पानी का टंकी लगाना था. इसके लिए मुखिया सुनीता देवी द्वारा करीब 11 लाख रूपये का उठाव भी कर लिया गया लेकिन अभी तक इस वार्ड में नलजल योजना का कार्य पूरा नहीं हुआ है. इसको लेकर डीएम द्वारा जांच की गयी. जांच के बाद अनियमितता को लेकर डीएम के आदेश पर बीडीओ ने बरौली थाना में प्राथमिकी भी दर्ज करायी थी जिसमें आरोपी मुखिया और पति जमानत पर है.

कहला पंचायत के वार्ड नम्बर 13 की वार्ड की निवासी रूबी मुसन के मुताबिक उनके घर में सिर्फ कुछ दिन पानी आया था उसके बाद आज तक पानी नहीं आया जबकि डीएम के आदेश के पर प्राथमिकी दर्ज होने के बाद मुखिया के द्वारा वार्ड नम्बर 13 में आनन-फानन में पानी टंकी लगाया गया लेकिन उसके जमकर अनियमितत बरती गयी. सडक के ऊपर ही पानी का नल लगा दिया गया और घर की बजाय लोगों के खेतों में पटवन के लिए नल छोड़ दिया गया है जिससे पानी का दुरूपयोग हो रहा है.

मामला किसी एक वार्ड का नहीं है. बल्कि यहां मुखिया सुनीता देवी द्वारा वार्ड नम्बर 03, 04, वार्ड नम्बर 06, वार्ड नम्बर 13 सहित अन्य वार्डो में भी पैसे का उठाव कर लिया गया लेकिन कमीशन नहीं मिलने की वजह से यहां नलजल योजना के तहत पानी टंकी का निर्माण नहीं किया गया. इसके साथ ही पानी की सप्लाई भी नहीं की गयी. इसको लेकर डीएम ने एक बार फिर मुखिया पर प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश दिया है. इस मामले में मुखिया पति श्रीराम प्रसाद द्वारा अपने ऊपर लगे आरोपों को बेबुनियाद बताया गया है. मुखिया पति के मुताबिक उनके द्वारा जो पैसे का उठाव किया गया था उस पैसे को बीडीओ को सौंप दिया गया है और बाकि बचे पैसे से काम भी पूरा करवाया जा रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज