गोपालगंज में नाव परिचालन पर रोक से फसल हो रही बर्बाद, किसान परेशान
Gopalganj News in Hindi

गोपालगंज में नाव परिचालन पर रोक से फसल हो रही बर्बाद, किसान परेशान
गोपालगंज में फसल की कटाई नहीं होने से किसान हताशा में है

गोपालगंज के सदर प्रखंड के सैकड़ों किसानों की खेती गंडक की दूसरी तरफ बेतिया की सीमा में सैकड़ों एकड़ की खेती होती है. इस इलाके में जाने के लिए नाव ही एकमात्र सहारा है. पिछले दिनों नाव हादसा होने से इसके परिचालन पर रोक लगी हुई है.

  • Share this:
गोपालगंज. कोरोना महामारी (Corona Epidemic) को लेकर देश में लॉक डाउन (Lockdown) जारी है. इस लॉक डाउन की वजह से सबसे ज्यादा परेशानी उन किसानों को है, जिनकी सारी जमापूंजी खेतीबाड़ी में ही लगी है. गोपालगंज में नाव (Boat) हादसे के बाद ही सदर प्रखंड के मेहदिया गाँव में नावों के परिचालन पर रोक लगा दी गई थी. इसके चलते किसानों की फसल बर्बाद (Crops Ruined) होने के कगार पर है. वहीं दूसरी ओर अब नेपाल की सीमा से कोरोना वायरस के संक्रमण की साजिश की खबर के बाद गोपालगंज जिला प्रशासन भी हाई अलर्ट मोड पर है. ​पुलिस गंडक नदी के इलाके पर भी लगातार नजर रखी जा रही है. इसके चलते अब लोगों का नाव से नदी की दूसरी तरफ अपने खेतों में जाने पर भी पाबंदी लग गयी है.

गोपालगंज में बीते 29 फरवरी को सदर प्रखंड के मेहंदिया गाँव में भीषण नाव हादसा हुआ था. इसमें आधे दर्जन लोगों की डूबकर मौत हो गयी थी. हादसे की वजह छोटी नाव पर क्षमता से अधिक सवारी बिठाई गई थी. लिहाजा जिला प्रशासन ने हादसे के बाद से ही इस इलाके में गंडक नदी में किसी भी तरह के नाव के परिचालन पर रोक दिया था.

सदर प्रखंड के सैकड़ों किसानों की सैकड़ों एकड़ की खेती गंडक की दूसरी तरफ बेतिया की सीमा में  होती है. इस इलाके में जाने के लिए नाव ही एकमात्र सहारा है. अब किसानों की फसल पककर तैयार हो गयी है और नावों के परिचालन बंद होने के कारण वे नदी की दूसरी तरफ नहीं जा पा रहे है. जाहिर सी बात है कि उनकी फसल अब बर्बाद होने लगी है. किसानों ने बताया कि तेज हवा के चलते भी खेतों में खड़ी फसल बर्बाद हो रही है. फसल आग की भेंट चढ़ रही है. कोरोना महामारी को लेकर देश में लॉक डाउन की घोषणा कर दी गयी.



कोरोना वायरस के संक्रमण की अफवाह से सख्ती बढ़ी
किसान किसी तरह गंडक नदी पार कर नदी के उसपर जाने की हिम्मत भी कर पाते उसके पहले ही नेपाल की सीमा से बिहार में कोरोना के फ़ैलाने की साजिश की जानकारी मिली. इस जानकारी के सामने आते ही गोपालगंज जिला प्रशासन ने भी कड़ा कदम उठाते हुए नदी में किसी भी नावों के परिचालन पर पूर्ण प्रतिबंध लगाते हुए नदी की दूसरी तरफ जाने पर भी पाबंदी लगा दी है. इसके चलते किसान बहुत परेशान हो रहे हैं. किसानों ने फसल की कटाई के लिए नावों के परिचालन को दोबारा शुरू करने की मांग की है.

crops
गंडक की दूसरी तरफ बेतिया की सीमा में सैकड़ों एकड़ की खेती होती है.


किसानों ने दोबारा नाव परिचालन की नहीं की मांग

सदर एसडीएम उपेन्द्र कुमार पाल के मुताबिक मेहंदिया में नाव हादसे के बाद ही अनुबंधित नावों के परिचालन पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया गया था. लेकिन अभी तक किसानों ने नदी के उस पार जाने के लिए खेती के लिए नाव के परिचालन को शुरू करने की मांग नहीं की है. अगर वे खेती और फसल के लिए अनुबंधित नावों के परिचालन की मांग करेंगे तो उसपर विचार किया जाएगा. वहीं सदर एसडीएम के मुताबिक नेपाल से कोरोना वायरस फ़ैलाने की सूचना के साथ साथ बेतिया, मोतिहारी, सीवान और गोरखपुर से किसी भी व्यक्ति का प्रवेश गोपालगंज की सीमा में ना हो, यह सुनिश्चित करना है.

ये भी पढ़ें:  COVID-19:दानापुर रेल मंडल ने तैयार किया PPE KIT, मंजूरी के लिए DRDO को भेजेगा

लॉकडाउन में बिहार लौटे 15 लाख मजदूरों को जॉब कार्ड देगी नीतीश सरकार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading