बिहार: नेपाल में भारी बारिश से खतरे की घंटी! सारण तटबंध में लीकेज, धंसने लगा गंडक नदी का बेडवार

गोपालगंज में मंडराया बाढ़ का खतरा.

गोपालगंज में मंडराया बाढ़ का खतरा.

Flood Alert In Bihar: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रविवार को जल संसाधन विभाग की समीक्षा बैठक की थी. उन्होंने अधिकारियों से कहा कि लोगो की सुरक्षा और सहायता बिहार सरकार की प्राथमिकता है और जन प्रतिनिधियों के सुझाव पर ध्यान रखते हुए कार्य किए जाएं.

  • Share this:

गोपालगंज. नेपाल में हो रही भारी बारिश कारण सारण बांध में लगातार कटाव और रिसाव की खबरें आ रही हैं. बैकुंठपुर के मुंजा में भारी बारिश के बाद जहां बनाया गया बेडवार गंडक नदी में धंसने लगा है. वहीं, गंडक के दबाव की वजह से सारण तटबंध के दूसरी तरफ पानी का लीकेज शुरू हो गया है. पानी का यह लीकेज खतरे की घंटी है. ऐसी आशंका है कि गंडक के दबाव से यह लीकेज लगातार बड़ा होता जाएगा जिससे बांध कभी भी डैमेज हो सकता है.

स्थानीय पूर्व विधायक मंजीत सिंह ने कंट्री साइड में लीकेज का वीडियो जल संसाधन विभाग के अधिकारियों को भेजकर तत्काल मरम्मती की गुहार लगाई है. साथ ही पूरे मामले की उच्च स्तरीय जांच कर निगरानी में मरम्मती कार्य अविलंब शुरू करने की मांग की है. मंजीत ने कहा कि मुंजा गांव में कंट्री साइड में एक बड़ा छेद हो गया है. जिससे लगातार पानी का रिसाव हो रहा है. समय रहते इस होल को बंद नहीं किया गया तो गंडक के दबाव से सारण बांध टूट सकता है.

जल संसाधन विभाग ने कही यह बात

हालांकि जल संसाधन विभाग के एसडीओ सचिन कुमार ने कहा कि बेडवार के धंसने और लीकेज से बांध पर ज्यादा नुकसान नहीं होगा. उन्होंने कहा कि ज्यादा बारिश की वजह से नई मिट्टी सरक गई है, लेकिन विभाग के आला पदाधिकारियों के निर्देश पर मरम्मती कार्य शुरू कर दिया जाएगा. उन्होंने कहा लोगो को पैनिक होने की जरूरत नहीं है. यह बांध पूरी तरह सुरक्षित है. एसडीएम ने कहा कि बांध को फिलहाल कोई खतरा नहीं है.
सारण तटबंध का बेडवार अब धंसने लगा 

गौरतलब है कि भारी बारिश के कारण गंडक के जलस्तर में मामूली वृद्धि हुई है जिसकी वजह से सारण बांध पर बनाया गया बेडवार अब धंसने लगा है. सारण तटबंध को कटाव से बचाने के लिए बैकुंठपुर के मुंजा गांव में एक किलोमीटर में जिओ बैग लगाए गए थे. करीब साढ़े चौबीस करोड़ की लागत से लगाए गए जिओ बैग अब गंडक में धीरे-धीरे गिरने लगे हैं. जिसकी वजह से बैकुंठपुर के दर्जनों गांव के लोग बाढ़ की आशंका से दहशत में आ गए हैं.

सारण तटबंध में लीकेज की खबर बाढ़ के खतरे की घंटी मानी जा रही है.



मुजफ्फरपुर में बागमती नदी में उफान

बता दें कि नेपाल में ही रही भारी बारिश की वजह से मुजफ्फरपुर में समय से पहले बाढ़ आ गई है. बागमती नदी के जलस्तर में अचानक हुई भारी वृद्दि से औराई के कई गांवों में बागमती पर बनाए गए चचरी पूल बह गए हैं जिससे लोगों की परेशानी बढ़ गई है. औराई के अतरार में चचरी पुल ध्वस्त हो गया है तो बेनीपुर में तटबंध में कटाव हो रहा है. उधर कटरा में बागमती पर स्थित  पीपा पुल पर दोनो ओर का अप्रोच बह जाने से प्रखंड के 14 पंचायतों का संपर्क प्रखंड मुख्यालय से बाधित हो गया है.

सीएम नीतीश ने जल संसाधन विभाग को दिए ये निर्देश

बता दें कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रविवार को जल संसाधन विभाग की समीक्षा बैठक की थी. उसमें उन्होंने अधिकारियों से कहा कि लोगो की सुरक्षा और सहायता बिहार सरकार की प्राथमिकता है और जन प्रतिनिधियों के सुझाव पर ध्यान रखते हुए कार्य किए जाएं. उन्होंने क्षतिग्रस्त हुए सड़कों, पुल-पुलियों की पुनर्स्थापना को प्राथमिकता के साथ 15 जून तक पूर्ण करने का निर्देश दिया. इसके साथ ही उन्होंने

विशेष अभियान चलाकर बरसात के पूर्व पुल-पुलियो की सफाई कार्य पूर्ण करने का भी निर्देश दिया. इसके साथ ही बाढ़ सुरक्षा हेतु बचे हुए सभी कटाव निरोधक कार्य एवं बाढ़ सुरक्षात्मक कार्य को जल्द पूरा करने को कहा.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज