होम /न्यूज /बिहार /

बिहार से अगवा किराना व्यवसायी यूपी में छूटा, हथियार समेत चार अपराधी गिरफ्तार

बिहार से अगवा किराना व्यवसायी यूपी में छूटा, हथियार समेत चार अपराधी गिरफ्तार

गोपालगंज में हुई अपहरण की घटना के मामले में गिरफ्तार अपराधी और बरामद किये गये हथियार

गोपालगंज में हुई अपहरण की घटना के मामले में गिरफ्तार अपराधी और बरामद किये गये हथियार

गोपालगंज के किराना व्यवसायी को दुकान से लौटते वक्त अगवा कर लिया गया था. इस अपहरणकांड में यूपी-बिहार गैंग के चार अपराधियों को गिरफ्तार किया गया है जिनके पास से कार और कई हथियार बरामद किये गए हैं.

गोपालगंज. गोपालगंज के विजयीपुर थाने के जगदीशपुर गांव के रहने वाले किराना व्यवसायी मधुकर वर्मा अपहरण कांड का पुलिस ने खुलासा करते हुए यूपी-बिहार के चार अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया है. गिरफ्तार किये गये इन अपरधियों के पास से दो देसी कट्टा व कारतूस, तीन जिंदा गोली, एक कार, एक बाइक, तीन मोबाइल, दो चाकू बरामद किया है. साथ ही अपहरण में प्रयोग किये गये गमछा समेत अन्य सामानों को बरामद किया गया है. किराना व्यवसायी को सकुशल परिजनों को सौंप दिया गया है. अपहरण के पीछे फिरौती की बात सामने आई है, हालांकि पुलिस इस बिंदु पर जांच कर रही है.

पुलिस ने जिन अपराधियों को गिरफ्तार किया है, उनमें उत्तर प्रदेश के देवरिया जिला के बरियापुर थाना क्षेत्र के महुवी गांव निवासी प्रेमचंद्र यादव के पुत्र ध्यान प्रकाश यादव उर्फ छोटे यादव, विजयीपुर थाने के परसही गांव निवासी ओम प्रकाश गोंड के पुत्र राकेश गोंड, विजयीपुर के सरूपाई निवासी श्याम बिहारी यादव के पुत्र मनोहर यादव तथा मिश्र बंधौरा निवासी शिव बालक भगत के पुत्र अक्षय कुशवाहा शामिल हैं.

फिरौती मांगने से पहले पकड़े गये अपराधी

हथुआ एसडीपीओ नरेश कुमार ने अपहरणकांड का खुलासा करते हुए बताया कि अपहरण के बाद किराना व्यवसायी का चेहरा नकाब से ढक दिया गया और रस्सी से बांधकर यूपी के देवरिया जिला में जंगल झाड़ी के बीच एस.पी. एकेडमी के भवन में छिपाकर रखा गया था. फिरौती मांगने से पहले ही पुलिस ने टेक्निकल सेल की मदद से जब यूपी के अपराधी ध्यान प्रकाश यादव उर्फ छोटे यादव के घर पर छापेमारी किया तो अपहरण के अगले दिन रात में अगवा किराना व्यवसायी को मुक्त कर दिया. इसके बाद पुलिस ने छापेमारी कर अपहरण गैंग से जुड़े सभी चारों अपराधियों को गिरफ्तार कर किया. कार्रवाई में विजयीपुर थानाध्यक्ष प्रशांत कुमार, पुलिस अधिकारी जय हिंद यादव, धीरेंद्र कुमार, लक्ष्मण साफी, राजेश कुमार, सत्येंद्र कुमार शामिल थे. गिरफ्तार अपराधियों से पूछताछ करने के बाद पुलिस ने सभी को जेल भेज दिया.

क्या है पूरा मामला 

दरअसल विजयीपुर थाने के जगदीशपुर गांव निवासी अंगद वर्मा के 26 वर्षीय पुत्र मधुकर वर्मा लक्ष्मीपुर बाजार में किराना की दुकान चलाते हैं. हर रोज घर से किराना दुकान खोलने जाते हैं और रात होने पर वापस घर लौट आते हैं. नौ अगस्त को भी दुकान बंद कर मधुकर वर्मा बाइक से घर लौट रहा था. रात के 10 बजे तक जब मधुकर घर नहीं लौटा तो परिजनों की बेचैनी बढ़ी और खोजबीन शुरू कर दिया. मधुकर के पिता अंगद वर्मा बेटे को ढूंढते-ढूंढते लक्ष्मीपुर तक पहुंचे और पुलिस को इसकी सूचना दी. इस दौरान रात में ही मधुकर की बाइक लक्ष्मीपुर सड़क किनारे बगीचे में लावारिस हालत में गिरी हुई मिली. बाइक मिलने के बाद परिजनों की बेचैनी और बढ़ गयी और इस मामले में अपहरण की प्राथमिकी थाने में दर्ज कराते हुए पुलिस से सकुशल बरामदगी की गुहार लगाई थी.

Tags: Bihar News, Crime In Bihar, Gopalganj news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर