लाइव टीवी

डायरी में कैद है गोपालगंज के ठेकेदार हत्याकांड के राज, चीफ से लेकर जूनियर इंजीनियर तक लेते थे घूस

News18 Bihar
Updated: September 2, 2019, 4:21 PM IST
डायरी में कैद है गोपालगंज के ठेकेदार हत्याकांड के राज, चीफ से लेकर जूनियर इंजीनियर तक लेते थे घूस
गोपालगंज में हुई घटना के मृतक ठेकेदार की इंजीनियर के साथ फाइल फोटो

गोपालगंज में हुई इस घटना के बाद NEWS18 को मृतक रमाशंकर सिंह के हाथ से लिखी एक डायरी के कुछ अंश हाथ लगे है जिसमे चीफ इंजिनियर से लेकर सभी अभियंताओं को कब-कब कमीशन के तौर पर कितनी कितनी राशि दी गयी है सब कुछ जिक्र है.

  • Share this:
बिहार के गोपालगंज (Gopalganj) में ठेकेदार रमाशंकर सिंह हत्याकांड (Murder Case) से जुड़े कुछ अहम दस्तावेज NEWS18 को मिले हैं. इस दस्तावेज (Diary) से हत्याकांड से जुड़े आरोपी अभियंताओं (Engineers) की मुश्किलें और बढ़ सकती हैं. दरअसल मृतक ठेकेदार (Contractor) रमाशंकर सिंह के हाथ से लिखा हुआ एक डायरी का कुछ हिस्सा NEWS18 को मिला है. जिसमें उन्होंने सम्बंधित अभियंताओं को दी गई एक-एक पैसे का जिक्र किया है. ये सभी पैसे कमीशन के तौर पर अभियंताओं को दिए गए हैं.

29 अगस्त को हुई थी संदेहास्पद मौत

29 अगस्त को गोपालगंज के प्रतिष्ठित ठेकेदार रमाशंकर सिंह की जल संसाधन विभाग के चीफ इंजीनियर के सरकारी आवास पर जलने से संदेहास्पद मौत हो गई थी. इस मौत के बाद मृतक के बेटे राणा प्रताप सिंह ने चीफ इंजीनियर मुरलीधर सिंह, उनकी पत्नी, अधीक्षण अभियंता और कार्यपालक अभियंता के ऊपर जिन्दा जलाकर हत्या करने का आरोप लगाया था. इसके अलावा अन्य चार अज्ञात लोगों को भी इस मामले में आरोपी बनाया गया है.

15 लाख के लिए जिंदा जलाने का आरोप

बेटे का आरोप था की जल संसाधन विभाग में चीफ इंजीनियर के आवास के निर्माण में करीब 60 लाख रूपये का भुगतान लंबित था जिसके लिए चीफ इंजीनियर और अन्य अभियंताओं द्वारा 15 लाख रूपये कमीशन की मांग की जा रही थी. कमीशन की राशि नहीं मिलने से नाराज अभियंताओं द्वारा उनकी जिन्दा जलाकर हत्या कर दी गयी थी.

घटना के बाद से सभी आरोपी फरार

इस घटना के बाद से आरोपी चीफ इंजिनियर, उसकी पत्नी, अधीक्षण अभियन्ता और कार्यपालक अभियंता फरार हैं. घटना के चार दिन बाद भी एसआईटी अरोपियों को गिरफ्तार नहीं कर सकी है. जबकि कोर्ट ने सभियो अरोपियो के खिलाफ गिरफ़्तारी वारंट भी जारी कर दिया है. इस हत्याकांड से जुड़े अब NEWS18 के नए खुलासे के बाद आरोपी अभियंताओ की मुश्किलें बढ़ गयी है. दो दिनों पूर्व NEWS18 ने एक वीडियो का खुलासा किया था जिसमें आरोपी कार्यपालक अभियंता सत्येन्द्र कुमार 30 हजार रूपये घूस ले रहा है और कमीशन की और राशि की मांग कर रहा है.
Loading...

गोपालगंज के हत्याकांड में सुराग के तौर पर मिला डायरी


डायरी खोलेगा राज

इस वीडियो के खुलासे के बाद NEWS18 को मृतक रमाशंकर सिंह के हाथ से लिखी एक डायरी के कुछ अंश हाथ लगे है जिसमे चीफ इंजिनियर से लेकर सभी अभियंताओं को कब-कब कमीशन के तौर पर कितनी कितनी राशि दी गयी है सब कुछ जिक्र है. डायरी के मुताबिक चीफ इंजिनियर ने बिना हैण्डओवर लिए ही सरकारी आवास में रहना शुरू कर दिया था. 12 जून को विधिवत इस सरकारी आवास में गृह प्रवेश किया गया था. गृह प्रवेश के दौरान चीफ इंजीनियर और उसकी पत्नी के साथ मृतक ठेकेदार रमाशंकर सिंह का फाइल फोटो भी है. बड़ा सवाल है की आखिर बिना पैसे का भुगतान किये बिना हैण्ड ओवर किये चीफ इंजिनियर कैसे इस सरकारी आवास और कार्यालय में रहने लगा.

क्या लिखा है डायरी में ?

इस डायरी के एक पन्ने में कुछ पैसे का हिसाब लिखा हुआ है. जिसमे चीफ इंजीनियर से लेकर अन्य अभियंताओं को कमीशन की राशि का तारीख के साथ जिक्र किया गया है. चीफ इंजिनियर को 22 सितम्बर 2018 को 01 लाख, 08 फ़रवरी 2019 को 60 हजार, 14 फ़रवरी 2019 को 50 हजार और दो अप्रैल 2019 को 90 हजार रूपये यानी कुल 03 लाख रूपये कैश दिए गए हैं. इसके अलावा कार्यपालक अभियंता को अलग-अलग तारीख में 2 लाख 50 हजार, अधीक्षण अभियंता को 90 हजार, कैशियर को 60 हजार, जेई को 50 हजार, और एसडीई को 40 हजार रूपये कैश देने का जिक्र है. इस डायरी से यह साफ़ हो गया है कि इस विभाग का पूरा सिस्टम पैसे और कमीशन पर ही टिका हुआ है.

रिपोर्ट- मुकेश कुमार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गोपालगंज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 2, 2019, 4:20 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...