कुशीनगर शराब कांड के मास्टरमाइंड से पल्ला झाड़ने में जुटी RJD !

संविधान बचाओ न्याय यात्रा में तेजस्वी यादव के साथ हरेन्द्र के बड़े-बड़े होर्डिंग और फ्लैक्स के बारे में आरजेडी सफाई पेश करते हुए कह रही है कि हो सकता है इसने फेसबुक और व्हाट्सएप के जरिये अपने पार्टी के लोगो पर होर्डिंग्स बनाया हो, लेकिन इसका पार्टी से कोई लेना देना नहीं है.

News18 Bihar
Updated: February 14, 2019, 2:44 PM IST
कुशीनगर शराब कांड के मास्टरमाइंड से पल्ला झाड़ने में जुटी RJD !
आरजेडी के पोस्टर में कुशीनगर शराब कांड का मुख्य आरोपी हरेंद्र यादव
News18 Bihar
Updated: February 14, 2019, 2:44 PM IST
यूपी मे कुशीनगर जहरीली शराब कांड के मुख्य आरोपी हरेन्द्र यादव उर्फ हेमुल आरजेडी का नेता है. गोपालगंज में यही उसकी पहचान है, लेकिन आरजेडी अब उससे पल्ला झाड़ने में लगी है. पार्टी के जिलाध्यक्ष और पूर्व विधायक रियाजुल हक राजू ने अपना बयान जारी कर बताया कि हरेन्द्र यादव आरजेडी का नेता नहीं है. वह पार्टी का प्राथमिक सदस्य भी नहीं है.

संविधान बचाओ न्याय यात्रा में तेजस्वी यादव के साथ हरेन्द्र के बड़े-बड़े होर्डिंग और फ्लैक्स के बारे में रियाजुल हक सफाई पेश करते हुए कह रहे हैं कि हो सकता है इसने फेसबुक और व्हाट्सएप के जरिये अपने पार्टी के लोगो पर होर्डिंग्स बनाया हो, लेकिन इसका पार्टी से कोई लेना देना नहीं है. आरजेडी जिलाध्यक्ष ने पार्टी को बदनाम करने की साजिश करने का आरोप लगाया है.

गौरतलब है कि आरजेडी को कुशीनगर पुलिस ने जहां गिरफ्तार लिया है. वहीं उसकी गिरफ्तारी के बाद गोपालगंज राजद में हडकंप मचा हुआ है. हरेन्द्र यादव बिशम्भरपुर थानाक्षेत्र के काला मटिहनिया पंचायत के सल्लेहपुर का रहने वाला है.



ये भी पढ़ें-  तेजस्वी का तंज, 'हमारे चाचा पेपर से खेलने में माहिर, बताएं कि तोंद वाले मंत्री कहां गए'

आपको बता दें कि यूपी के इस शराब कांड से पहले भी गोपालगंज में इसके ऊपर शराब के अवैध कारोबार को लेकर उत्पाद विभाग और गोपालगंज पुलिस की नजर थी. हालांकि उत्पाद अधीक्षक प्रियरंजन कुमार के अनुसार अभी तक हरेन्द्र यादव के नाम से उत्पाद विभाग के द्वारा शराब के अवैध कारोबार में नामजद नहीं किया गया है.

बताया जा रहा है कि वह इसी इलाके के फरारी कल्पनाथ यादव के साथ यूपी की सीमा से बिहार में शराब की तस्करी करता था. हरेन्द्र यादव भी इसी सिंडिकेट का सदस्य माना जा रहा है जो यूपी और बिहार की सीमावर्ती इलाके में शराब की तस्करी में शामिल है.

ये भी पढ़ें-  राबड़ी ने नीतीश से पूछा - इंग्लैण्ड में हत्या हो रही है तो बिहार में क्या हो रहा है ?
Loading...

वही गोपालगंज सदर एसडीपीओ विनय तिवारी ने बताया कि यूपी पुलिस की सूचना के बाद गोपालगंज के विभिन्न थानों में हरेन्द्र यादव के खिलाफ दर्ज मामले की पड़ताल की जा रही है.

आपको बता दें कि कुशीनगर के तरयासुजान थाना क्षेत्र में जहरीली शराब पीने से कई लोगों की मौत हो गई थी. प्रशासन ने इस मामले में थानेदार और आबकारी निरीक्षक समेत नौ लोगों को सस्पेंड कर दिया है.बता दें कि उत्तर प्रदेश में जहरीली शराब पीने से हुए दो बड़े हादसों में 75 लोगों की मौत हो गई थी.

बहरहाल हरेन्द्र यादव की गिरफ्तारी के बाद गोपालगंज में ढाई  साल पूर्व हुए जहरीली शराब कांड की यादें दोबारा ताजा हो गयी हैं. इसमें 09 लोगों की मौत हो गयी थी जबकि 6 से अधिक लोगों के आंखों की रोशनी चली गयी थी. यह घटना नगर थाना के खजूरबानी में 16 अगस्त को 2016 को हुई थी.

रिपोर्ट- मुकेश कुमार

ये भी पढ़ें- बिहार सरकार की नई वृद्धा पेंशन योजना का लाभ उठाने के लिए तुरंत तैयार कर लें ये डाक्यूमेंट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर