Home /News /bihar /

पोशाक योजना की राशि में धांधली, जांच के बाद भी नहीं हुई कार्रवाई

पोशाक योजना की राशि में धांधली, जांच के बाद भी नहीं हुई कार्रवाई

गोपालगंज में छात्रों के बीच बांटी जाने वाली पोशाक योजना की राशि में कथित तौर पर जमकर अनियमितता बरती गई है। जांच के बाद गड़बड़ी की शिकायत के बावजूद दोषी शिक्षक पर अब तक कार्रवाई नहीं हुई, जबकि गोपालगंज डीएम ने आरोपी शिक्षक के खिलाफ एक वर्ष पहले ही प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश दिया था।

गोपालगंज में छात्रों के बीच बांटी जाने वाली पोशाक योजना की राशि में कथित तौर पर जमकर अनियमितता बरती गई है। जांच के बाद गड़बड़ी की शिकायत के बावजूद दोषी शिक्षक पर अब तक कार्रवाई नहीं हुई, जबकि गोपालगंज डीएम ने आरोपी शिक्षक के खिलाफ एक वर्ष पहले ही प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश दिया था।

गोपालगंज में छात्रों के बीच बांटी जाने वाली पोशाक योजना की राशि में कथित तौर पर जमकर अनियमितता बरती गई है। जांच के बाद गड़बड़ी की शिकायत के बावजूद दोषी शिक्षक पर अब तक कार्रवाई नहीं हुई, जबकि गोपालगंज डीएम ने आरोपी शिक्षक के खिलाफ एक वर्ष पहले ही प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश दिया था।

अधिक पढ़ें ...
गोपालगंज में छात्रों के बीच बांटी जाने वाली पोशाक योजना की राशि में कथित तौर पर जमकर अनियमितता बरती गई है। जांच के बाद गड़बड़ी की शिकायत के बावजूद दोषी शिक्षक पर अब तक कार्रवाई नहीं हुई, जबकि गोपालगंज डीएम ने आरोपी शिक्षक के खिलाफ एक वर्ष पहले ही प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश दिया था।

कुचायकोट प्रखंड का नवसृजित प्राथमिक विद्यालय के खजूरी मुसहर टोली के विद्यालय में वर्ष 2012 और 2013 छात्रों को पोशाक की राशि तो नहीं मिली, लेकिन स्कूल प्रबंधन ने सैकड़ों छात्रों के बीच वितरण के लिए मिले लाखों रुपए सरकारी राशि का गबन कर लिया।

इसका खुलासा तब हुआ जब चौथी कक्षा की छात्रा नीतू कुमारी के अभिभावक अनिल प्रसाद ने गोपालगंज डीएम से पोशाक योजना राशि की अनियमितता की शिकायत की।

गोपालगंज डीएम कृष्णमोहन ने जिला शिक्षा पदाधिकारी को पूरे मामले की जांच के आदेश दिए। शिक्षा विभाग की जांच में स्कूल प्रबंधन और प्राचार्य की मिली भगत से पोशाक योजना राशि और मध्याह्न भोजन योजना में लाखों रुपए गबन करने की पुष्टि हुई।

प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी और बाद में कुचायकोट के प्रखंड विकास पदाधिकारी की जांच रिपोर्ट के बाद डीएम ने आरोपी प्राचार्य रामनरेश प्रसाद के खिलाफ तत्काल एफआईआर दर्ज कर कार्रवाई का आदेश दिया।

हालांकि, गोपालगंज डीएम के आदेश के एक साल बाद भी आरोपी प्राचार्य के खिलाफ कार्रवाई तो दूर शिक्षा विभाग द्वारा एफआईआर तक दर्ज नहीं कराया जा सका, जबकि आरोपी प्राचार्य ने खुद पर लगे आरोपों को बेबुनियाद बताया है।

हालांकि, जिला शिक्षा पदाधिकारी ने मामले को संज्ञान में आते ही गंभीरता से लेते हुए आरोपी प्राचार्य के वेतन निकासी पर रोक लगा दिया है। डीईओ ने आरोपी प्राचार्य के खिलाफ तत्काल कार्रवाई की बात कही है। पीडि़त अभिभावक शिकायत के 4 साल बाद भी पोशाक योजना राशि के लिए अधिकारियों के दफ्तर का चक्कर काट रहे हैं।

आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर