Lockdown के दौरान मिली निकाह की झूठी खबर तो ग्रामीणों ने घर में की तोड़फोड़, जांच को पहुंची पुलिस

गोपालगंज का वो घर जहां निकाह की अफवाह के बाद हंगामा और तोड़फोड़ हुआ
गोपालगंज का वो घर जहां निकाह की अफवाह के बाद हंगामा और तोड़फोड़ हुआ

गोपालगंज (Gopalganj) के सदर एसडीएम उपेन्द्र कुमार पाल ने बताया कि उन्हें सूचना मिली कि मीरअलीपुर गांव में निकाह (Marriage) का कार्यक्रम चल रहा है. इसी सूचना को लेकर उन्होंने मीरअलीपुर के ग़ालिब हुसैन के घर छापामारी की लेकिन घर में कोई शादी समारोह या निकाह नहीं हो रहा था.

  • Share this:
गोपालगंज. बिहार के गोपालगंज (Gopalganj) में लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान गांव में हो रहे निकाह की अफवाह को लेकर ग्रामीणों ने एक घर में तोड़फोड़ की. निकाह होने की सूचना ग्रामीणों ने जैसे ही जिला प्रशासन को दी मौके पर पहुंचे जिला प्रशासन की टीम मौके पर पहुंची और गांव से तीन लोगों को अपने साथ ले लिया और उन्हें गोपालगंज में बनाये गए क्वारंटाइन सेण्टर में भर्ती करा दिया है. मामला थावे के मीरअलीपुर गांव का है. पीड़ित पक्ष के मुताबिक लॉकडाउन के दौरान शादी (Marriage) का समय पूर्व से निर्धारित था जिसको टालने को लेकर लड़की और लड़का पक्ष एक साथ बैठकर अगले तारीख को लेकर बातचीत कर रहे थे तभी गांव कुछ लोगों ने मौके पर पहुंचकर घर में तोड़फोड़ शुरू कर दी.

झूठी निकली खबर

गोपालगंज के सदर एसडीएम उपेन्द्र कुमार पाल ने बताया कि उन्हें सूचना मिली कि मीरअलीपुर गांव में निकाह का कार्यक्रम चल रहा है. लॉकडाउन के दौरान यहाँ भारी संख्या में बाराती आये हुए हैं. इसी सूचना को लेकर उन्होंने मीरअलीपुर के ग़ालिब हुसैन के घर छापामारी की. वहां छापामारी के दौरान घर में कोई शादी समारोह या निकाह नहीं हो रहा था बल्कि घर के कुछ सदस्य शादी की तिथि को बढाने को लेकर आपस में बातचीत कर रहे थे. जिन्हें सोशल डिस्टेनसिंग के तहत अलग-अलग रहने की सलाह दी गई है.



31 मार्च को होनी थी शादी
सदर एसडीएम के मुताबिक उन्हें सूचना मिली थी इस गांव के कुछ युवक विदेश से आये हुए हैं. उसमें से तीन युवकों को गोपालगंज क्वारंटाइन सेण्टर में निगरानी में रखा गया है. इस मामले में मीरअलीपुर के ग़ालिब हुसैन ने बताया कि उनके घर कल 31 मार्च को पूर्व में ही शादी का तिथि निर्धारित की गई थी जिसको तिथि बढाने को लेकर लड़की पक्ष के साथ बैठकर बातचीत की जा रही थी इसी दौरान गांव के कुछ लोगों ने मौके पर पहुंचकर घर में तोड़फोड़ शुरू कर दी और झूठा आरोप लगाने लगे.

पीड़ित पक्ष ने आरोपों को बताया झूठा

पीड़ित का कहना है कि उनके घर में न तो किसी तरह का शादी समारोह चल रहा था और न ही किसी को हिरासत में लेकर क्वारंटाइन सेण्टर में भेजा गया है. मालूम हो कि कोरोना महामारी को लेकर पूरे देश में लॉक डाउन है. ऐसे हालत में शादी समारोह सहित किसी भी तरह के कार्यक्रमों पर पूर्ण प्रतिबंध है.

ये भी पढ़ें- Bihar Corona Update: गया की महिला पाई गई पॉजिटिव, 24 हुई मरीजों की संख्या

ये भी पढ़ें- रामनवमी के मौके पर पटना के हनुमान मंदिर का ऑनलाइन दर्शन कर सकेंगे भक्त, जानें तरीका
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज