Video: 20 साल बाद नीतीश कुमार ने पूरा किया पुल का सपना तो खुशी में नाचने लगे बुजुर्ग
Gopalganj News in Hindi

Video: 20 साल बाद नीतीश कुमार ने पूरा किया पुल का सपना तो खुशी में नाचने लगे बुजुर्ग
बिहार के गोपालगंज में पुल बनने के बाद नाचते गाते लोग

Gopalganj Bridge: बुधवार को सीएम नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) ने गोपालगंज में 509 करोड़ रुपए की लागत से बने मेगा ब्रिज (Gopalganj Mega Bridge) का उदघाटन किया. इस पुल का सीधा फायदा बिहार के 6 जिलों को मिलेगा.

  • Share this:
गोपालगंज. बिहार में पिछले कई घंटों से एक वीडियो खूब वायरल (Viral Video) हो रहा है. इस वीडियो में बुजुर्ग ढोल-नगाड़े की थाप पर जमकर डांस कर रहे हैं और फूले नहीं समा रहे. दरअसल ये वीडियो गोपालगंज का है जहां के बंगरा घाट महासेतु (Gopalganj Mega Bridge) के उद्घाटन को लेकर राजनीती हो रही है लेकिन इस महासेतु के पूरा होने के बाद गोपालगंज के पूर्वी इलाके के अलावा छपरा, मुजफ्फरपुर और चंपारण के दियारा इलाके में लोग जमकर खुशियां मना रहे हैं.

बुधवार को जैसे ही सीएम नीतीश कुमार ने इस पुल का उद्घाटन किया उद्घाटन करते ही लोगों ने ढोल बजाकर जमकर डांस किया और अपनी खुशी का इजहार किया. सीएम नीतीश कुमार ने बैकुंठपुर के बंगरा घाट में 509 करोड़ की लागत से बने इस महासेतु का उद्घाटन किया था. उद्घाटन से पहले से इसका अप्रोच पथ छपरा के पानापुर के सतजोडा में ध्वस्त हो गया था जिसको लेकर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने गुणवता को लेकर सवाल खड़ा किये थे.

इस राजनीति से दूर जब सीएम नीतीश कुमार इस महासेतु का उद्घाटन किया. उनके उद्घाटन के बाद ही बैकुंठपुर के बंगरा , प्यारेपुर , जादोपुर , बजरंगी चौक सहित आसपास के इलाके में लोग खुशियों से झुमने लगे. इस इलाके में पहली बार कोई पक्की सड़क ही नहीं बल्कि मेगा ब्रिज बनकर तैयार हुआ था. जिसकी डिमांड इस इलाके के लोगो को वर्ष 2000 से थी. तब स्थानीय लोगो ने यहां पुल के निर्माण की मांग की थी लेकिन लोगों को उम्मीद नहीं थी कि यहां इस सुदूर पिछड़े इलाके में कोई महासेतु तो दूर कोई छोटा पुल भी बन पायेगा.

बुधवार 12 अगस्त को यहां पुल का उद्घाटन होते ही लोग गाजे बाजे के साथ पुल पर जमा हो गए और जमकर डांस करने लगे. आप खुद देख सकते है की कैसे ये बुजुर्ग किसान खुशियों से झूम रहे हैं और गाजे बाजे के साथ अपनी खुशियों का इजहार कर रहे हैं. स्थानीय लोगों के मुताबिक इस इलाके में अब विकास हुआ है. इस महासेतु एक बनने से मुज़फ्फरपुर के साहेबगंज से लेकर छपरा, गोपालगंज और चंपारण की दूरी तो घट ही गयी, अब उनकी फसलों को बड़ा बाजार मिलेगा और छात्रों को छपरा पढने के लिए छपरा जाने में सहूलियत होगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज