गोपालगंज: दहेज दानवों ने ली विवाहिता की जान

दहेज की मांग पूरी नहीं होने पर गोपालगंज में एक विवाहिता की हत्या करने का मामला सामने आया है. विवाहिता के परिजनों ने ससुराल पक्ष के लोगों पर दहेज के लिए प्रताड़ित और हत्या के प्रयास का आरोप लगाया है.

ETV Bihar/Jharkhand
Updated: March 14, 2018, 9:02 AM IST
गोपालगंज: दहेज दानवों ने ली विवाहिता की जान
प्रतीकात्मक तस्वीर
ETV Bihar/Jharkhand
Updated: March 14, 2018, 9:02 AM IST
बिहार में दहेज प्रथा को जड़ से खत्म करने के लिए जहां सामाजिक मुहिम चलाई जा रही है, वहीं दहेज़ लोभी थोड़ी लालच के लिए अपनी करतूतों से बाज नहीं आ रहे हैं.

ताजा मामला गोपालगंज जिले का है, जहां दहेज लोभी ससुराल वालों ने 20 वर्षीय नवविवाहिता की निर्मम हत्या कर दी. बताया जाता है कि नवविवाहिता का कसूर बस इतना था कि वह अपने ससुराल वालों की डिमांड पूरी नहीं कर सकी. घटना गोपालपुर थानाक्षेत्र के बसौनापुर गांव की है. मृतका का नाम नीतू देवी है. वह बसौनापुर निवासी उपेन्द्र प्रसाद की पत्नी थी. मृतका सीवान के नौतन थानाक्षेत्र के गम्भीरपुर निवासी रामाधार प्रसाद के बेटी थी.

जानकारी के मुताबिक रामाधार प्रसाद ने अपनी बेटी नीतू की शादी 5 दिसंबर 2016 को गोपालपुर के उपेन्द्र प्रसाद के साथ की थी. उपेन्द्र प्रसाद गोपालपुर के बसौनापुर के रहने वाले प्रभु खरवार का पुत्र है. मृतका के भाई संदीप कुमार ने आरोप लगाया है कि शादी के समय ही ससुराल पक्ष की ओर से बाइक की डिमांड की गई थी, जिसे पूरा कर दिया गया था. फिर नीतू के पति और उसके ससुराल वाले दहेज में चार पहिया वाहन की मांग करने लगे. इसी को लेकर नीतू को लगातार प्रताड़ित किया जाता था. मृतका के बहनोई सुजीत कुमार का कहना है कि दहेज़ में बाइक के बाद ससुराल वालो का डिमांड बढ़ गया था. अपनी डिमांड पूरा नहीं होने पर पहले एक सप्ताह तक नीतू देवी को भूखे पेट रखा गया और फिर कल मंगलवार को संदिग्ध हालत में उसकी मौत हो गई.

नीतू की निर्मम हत्या करने के बाद ससुराल वाले फरार हो गए. इस घटना की सूचना मिलते ही गोपालपुर पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है. साथ ही शव को गोपालगंज सदर अस्पताल में पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. बहरहाल इस मामले में अभी तक किसी की गिरफ्तार नहीं हुई है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर