Sikandara Election Result Live: सिकंदरा से 'हम' के प्रफुल्ल कुमार मांझी ने कांग्रेस के सुधीर कुमार को 5,505 वोट से हराया

Sikandara Chunav Result: जमुई के सिकंदरा विधानसभा क्षेत्र में जैन तीर्थंकर भगवान महावीर की जन्म स्थली कुंडा ग्राम है
Sikandara Chunav Result: जमुई के सिकंदरा विधानसभा क्षेत्र में जैन तीर्थंकर भगवान महावीर की जन्म स्थली कुंडा ग्राम है

Sikandara Bihar Vidhan Sabha Chunav Result 2020 Live: मतगणना में कांग्रेस और हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा में कांटे की टक्कर देखने को मिली मगर 'हम' के प्रफुल्ल कुमार मांझी (Prafull Kumar Manjhi) ने कांग्रेस के सुधीर कुमार (Sudhir Kumar) को 5,505 वोट से हरा दिया है. प्रफुल्ल कुमार मांझी को 46,901 वोट मिले लेकिन सुधीर कुमार 41,233 वोट ही जुटा पाए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 11, 2020, 4:11 AM IST
  • Share this:
जमुई. बिहार प्रदेश के अंतिम छोर पर बसा है जमुई जिले का सिकंदरा (Sikandra) विधानसभा क्षेत्र. ये विधान सभा (Vidhan Sabha) क्षेत्र क्रमांक 240 है और ये अनुसूचित जाति के लिए सुरक्षित सीट है. मतगणना में कांग्रेस और हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा में कांटे की टक्कर देखने को मिली मगर 'हम' के प्रफुल्ल कुमार मांझी (Prafull Kumar Manjhi) ने कांग्रेस के सुधीर कुमार (Sudhir Kumar) को 5,505 वोट से हरा दिया है. प्रफुल्ल कुमार मांझी को 47061 वोट मिले लेकिन सुधीर कुमार 41556 वोट ही जुटा पाए. जमुई लोकसभा सीट के अंतर्गत आने वाला यह सिकंदरा विधानसभा क्षेत्र तीन प्रखंडों की पंचायतों से मिलाकर बना है. इसमें अलीगंज, सिकंदरा और खैरा प्रखंड की पंचायत शामिल हैं.खास बात ये है कि सिकंदरा विधानसभा क्षेत्र में ही क्षत्रिय कुंड ग्राम जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर भगवान महावीर की जन्मस्थली है. इस विधानसभा क्षेत्र से बिहार के लखीसराय, शेखपुरा और नवादा जिले सटे हुए हैं. वहीं झारखंड प्रदेश के गिरिडीह से भी इसकी सीमा लगती है.इस विधानसभा क्षेत्र से भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सुधीर कुमार उर्फ बंटी चौधरी विधायक हैं.

भगवान महावीर की जन्म स्थली
सिकंदरा सीट का अपना अलग धार्मिक महत्व भी है. भगवान महावीर की जन्मस्थली होने के कारण इस इलाके का धार्मिक महत्व भी है. यहां साल भर देश विदेश से जैन तीर्थ यात्रियों के अलावा और लोग भी महावीर की आराधना करने पहुंचते हैं. यह इलाका वन संपदा से भी परिपूर्ण है. इसके अलावा सिकंदरा प्रखंड अंतर्गत कुमार गांव में मां नेतुला मंदिर है जो पौराणिक मान्यता को मानते हुए लोगों की आस्था से जुड़ा है. वहीं महादेव सिमरिया स्थित बाबा धनेश्वर नाथ धाम शिव मंदिर में साल भर शिव भक्तों का पूजा अर्चना के लिए तांता लगा रहता है.

ये भी पढ़ें: बिहार चुनाव नतीजे LIVE: : EC के रुझानों में भी NDA को बहुमत, BJP बनी सबसे बड़ी पार्टी, अरुण सिंह बोले- नीतीश ही बनेंगे CM
पलायन की समस्या


किसानों के लिए बनने वाली कुंड घाट जलाशय परियोजना अभी निर्माणाधीन है. इससे इलाके के किसानों की सिंचाई सुविधा को बल मिलेगा.  इस इलाके में रहने वाले लोगों का मुख्य पेशा कृषि है और मजदूरी है. हालांकि यहां से रोजगार के लिए लोगों का पलायन भी एक बड़ी समस्या है. बिहार प्रदेश का नवादा- जमुई सड़क मार्ग हो या फिर लखीसराय से सिकंदरा सड़क मार्ग या फिर शेखपुरा सिकंदरा सड़क मार्ग यहां से रोज सैकड़ों गाड़ियों की आवाजाही होती है. मुख्य बाजार पर अगर गौर करें तो इस विधानसभा क्षेत्र में सिकंदरा, अलीगंज, चंद्रदीप और खैरा के साथ गरही मुख्य बाजार हैं. जहां पर स्थानीय लोगों का रोजगार और व्यवसाय होता है. सिकंदरा विधानसभा क्षेत्र में अलीगंज प्रखंड की 13 पंचायत, सिकंदरा प्रखंड की कुल 14 और खैरा प्रखंड की 12 पंचायत शामिल हैं.

पुरुष मतदाता ज़्यादा
इस विधानसभा चुनाव 2020 को लेकर अभी तक 287732 लोगों  मतदाता सूची में दर्ज हैं. इसमें 151533 पुरुष मतदाता जबकि महिला मतदाताओं की संख्या 136194 है.

कांग्रेस के सुधीर कुमार चौधरी ने जीती थी सीट
पिछले विधानसभा चुनाव 2015 की बात करें तो सिकंदरा विधानसभा सीट से कांग्रेस के प्रत्याशी सुधीर कुमार उर्फ बंटी चौधरी ने लोजपा प्रत्याशी सुभाष कुमार चंद्र बोस को शिकस्त दी थी. चुने हुए विधायक सुधीर कुमार उर्फ बंटी चौधरी को 59092 वोट मिले थे. जबकि लोजपा के सुभाष चंद्र बोस को 51102 वोट प्राप्त हुए थे.

2018 में जेडीयू का कब्ज़ा
उससे पहले 2010 के विधानसभा चुनाव में इस सीट से जनता दल यूनाइटेड के रामेश्वर पासवान निर्वाचित हुए थे जिन्होंने लोजपा के सुभाष चंद्र बोस को हराया था.

2005 में भी जेडीयू पड़ी थी भारी
साल 2005 में हुए विधानसभा चुनाव में भी जदयू के रामेश्वर पासवान ने राजद राष्ट्रीय जनता दल के प्रत्याशी प्रयाग चौधरी को शिकस्त दी थी.

सीट का समीकरण-सिकंदरा विधानसभा क्षेत्र के राजनीतिक समीकरण की बात करें तो 2010 में परिसीमन के बाद जमुई जिले के खैरा प्रखंड की 12 पंचायत सिकंदरा विधानसभा क्षेत्र में शामिल हुईं.यहां लालू प्रसाद यादव और नीतीश कुमार के कैबिनेट में मंत्री रहे नरेंद्र सिंह की पकड़ मजबूत है. जबकि अलीगंज और सिकंदरा प्रखंड क्षेत्र में किसी खास व्यक्ति की राजनीतिक पकड़ उतनी नहीं है. 2015 के विधान सभा चुनाव में बतौर एनडीए प्रत्याशी लोजपा के टिकट पर सुभाष चंद्र बोस चुनाव लड़े थे जिन्हें महागठबंधन के कांग्रेस प्रत्याशी सुधीर कुमार उर्फ बंटी चौधरी ने शिकस्त दी थी. सुभाष चंद्र बोस लोजपा अध्यक्ष और जमुई सांसद चिराग पासवान के खास माने जाते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज