होम /न्यूज /बिहार /बिहार के MBBS स्टूडेंट की कोलकाता के मेडिकल कॉलेज में संदिग्ध मौत, परिजन बोले-रैगिंग करते थे सीनियर

बिहार के MBBS स्टूडेंट की कोलकाता के मेडिकल कॉलेज में संदिग्ध मौत, परिजन बोले-रैगिंग करते थे सीनियर

कॉलेज का कहना है कि उसने सुसाइड किया है, जबकि परिजन रैगिंग का आऱोप लगा रहे हैं.

कॉलेज का कहना है कि उसने सुसाइड किया है, जबकि परिजन रैगिंग का आऱोप लगा रहे हैं.

Bihar News: भाई का आरोप है कि शिकायत कोलकाता के बारानगर थाना में दी है. लेकिन कॉलेज स्टाफ या सीनियर छात्र से पूछताछ नही ...अधिक पढ़ें

जमुई. पश्चिम बंगाल के कोलकाता के नेशनल इंस्टिट्यूट लोकोमोटर डिसेबिलिटीज में पढ़ रहे मेडिकल छात्र की संदेहास्पद मौत से जमुई जिले के परिवार पर पहाड़ टूट गया. मेडिकल के छात्र प्रियरंजन उर्फ गोलू (21) की संदिग्ध मौत हुई है और कॉलेज का कहना है कि उसने सुसाइड किया है, जबकि परिजन रैगिंग का आऱोप लगा रहे हैं.

पढ़ने-लिखने में होनहार प्रियरंजन जमुई जिले के चंद्रदीप थाना इलाके के महतपुर गांव से था. कोलकाता से मेडिकल छात्र के शव आने के बाद परिवार वाले और ग्रामीण आक्रोशित है, जिन्होंने हत्या का मामला बताते हुए जमुई – नवादा सड़क मार्ग जाम कर कार्रवाई का मांग की. परिवार वालों का आरोप है कि प्रियरंजन को उसके सीनियर टॉर्चर कर रहे थे. संभव है कि उन्हीं लोगों ने उसकी हत्या की होगी.

जानकारी के अनुसार, जिले के सुदूर महतपुर गांव में एक साधारण परिवार से आने वाला प्रियरंजन होनहार छात्र था. कड़ी मेहनत से उसे नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर लोकोमोटर डिसेबिलिटीज कॉलेज में मेडिकल में दाखिला मिला था. मौजूदा समय में वह मेडिकल के सेकंड ईयर का छात्र था. मंगलवार रात को प्रियरंजन की संदेहास्पद मौत हो गई. कॉलेज प्रशासन के तरफ से परिवार वालों को सूचना दी गई कि उसने फांसी लगाकर सुसाइड कर लिया है. इसके बाद परिवार वाले कोलकाता पहुंचकर शव को लेकर जमुई लौटे हैं.

जमुई लौटने के बाद शोक में डूबा परिवार और गांव वाले मेडिकल छात्र के शव को लेकर सिकंदरा-नवादा सड़क मार्ग चंद्रदीप चौक पर जाम कर हत्या की बात कही और कार्रवाई की मांग की. मामले में परिजनों ने कोलकाता के बारानगर थाना में एक लिखित आवेदन भी दिया है और मेडिकल कॉलेज के नौ सीनियर छात्रों पर प्रियरंजन के साथ टॉर्चर करने का आरोप लगाया है.

हॉस्टल में रहता था प्रियरंजन

बताया जा रहा है कि मेडिकल छात्र छठ पूजा के बाद कॉलेज वापस लौटा था. परिवार वालों का कहना है कि वह कॉलेज के हॉस्टल में ही रहता था. जहां उसे उड़ीसा के रहने वाले 8 सीनियर रैगिंग के नाम पर टॉर्चर करते थे, जिसकी शिकायत मेडिकल छात्र ने कॉलेज के एंटी रैगिंग टीम को भी दी थी, लेकिन रैगिंग करने वाले सीनियर छात्रों पर कोई कार्रवाई नहीं हुई. बताया जा रहा है कि 29 नवंबर को कॉलेज का फ्रेशर पार्टी थी, जिसकी तैयारी में मेडिकल छात्र प्रियरंजन खुद लगा था. परिवार वालों के अनुसार फ्रेशर पार्टी में उसे एंकरिंग भी करनी थी. मंगलवार की रात 9 बजे उसने अपने परिवार वालों से बात की थी, लेकिन अगले 3 घंटे में ऐसा क्या हुआ कि उसकी मौत हो गई.

थाने में दी शिकायत-भाई

प्रियरंजन के बड़े भाई अमित कुमार का कहना है कि कॉलेज में पढ़ने वाले 8 सीनियर छात्र और एक छात्रा उसे टॉर्चर करते थे, जिसकी शिकायत एंटी रैगिंग स्क्वायड को भी दी गई थी. उसका भाई आत्महत्या नहीं कर सकता, उसकी हत्या की गई है. भाई का आरोप है कि शिकायत कोलकाता के बारानगर थाना में दी है. लेकिन कॉलेज स्टाफ या सीनियर छात्र से पूछताछ नहीं की गई. सड़क जाम की सूचना पर मौके पर पहुंचे चंद्रदीप थाना अध्यक्ष अब्दुल हलीम ने बताया कि इस मामले में कोलकाता पुलिस से संपर्क कर कानून संबद्ध जो भी कार्रवाई होगी, वह की जाएगी.

Tags: Apna bihar, MBBS student, Suicide Case

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें