होम /न्यूज /बिहार /

फोन कर क्रेडिट कार्ड से ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश, 2 साइबर अपराधी गिरफ्तार

फोन कर क्रेडिट कार्ड से ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश, 2 साइबर अपराधी गिरफ्तार

जमुई पुलिस के मुताबिक गिरफ्तार साइबर अपराधियों ने ठगी की वारदात को अंजाम देने के लिए एक ऐप का इस्तेमाल किया था

जमुई पुलिस के मुताबिक गिरफ्तार साइबर अपराधियों ने ठगी की वारदात को अंजाम देने के लिए एक ऐप का इस्तेमाल किया था

Bihar News: साइबर ठगों ने पीड़ित के बेटे को फोन कर उससे क्रेडिट कार्ड की वैलिडिटी खत्म होने का हवाला देते हुए समय सीमा बढ़ाने के लिए ओटीपी मांगी थी. बेटे ने ठगों के झांसे में आकर उनको ओटीपी दे दी जिसके बाद क्रेडिट कार्ड के लगभग एक लाख रुपये उड़ा ली गई. पुलिस ने गिरफ्तार दोनों शातिर साइबर अपराधियों के पास से पांच लैपटॉप, चार मोबाइल फोन, नौ एटीएम कार्ड, बैंक पासबुक और कई चेकबुक बरामद किया है

अधिक पढ़ें ...

जमुई. बिहार में साइबर अपराध (Cyber Crime) का जाल फैलता जा रहा है. जमुई (Jamui) में नगर थाना पुलिस ने कार्रवाई करते हुए दो साइबर अपराधियों को गिरफ्तार (Cyber Criminal Arrest) किया है. इनके पास से पांच लैपटॉप, चार मोबाइल फोन, नौ एटीएम कार्ड, बैंक पासबुक और कई चेकबुक बरामद किया है. इसके अलावा, आरोपियों के पास से 84 हजार रुपया नकद भी बरामद किया है. गिरफ्तार साइबर अपराधियों के नाम राजाराम मंडल और रंजय कुमार है जो नगर थाना क्षेत्र के हांसडीह और काकन गांव के रहने वाले हैं. पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक सोनो थाना क्षेत्र के निवासी प्रदीप कुमार ने अपने क्रेडिट कार्ड से लगभग एक लाख रुपये की ठगी (Cyber Fraud) की शिकायत की थी. केस दर्ज होने के बाद पुलिस ने तफ्तीश शुरू की जिसमें दो साइबर क्रिमिनल को गिरफ्तार किया गया.

मिली जानकारी के मुताबिक 31 जुलाई, 2021 को सोनो थाना क्षेत्र के निवासी शख्स प्रदीप कुमार से 97,940 रुपये की ठगी हुई थी. पीड़ित के द्वारा पुलिस को दिए गए आवेदन के अनुसार प्रदीप कुमार के मोबाइल फोन को उनके बेटे ने अपने पास रखा हुआ था. साइबर ठगों ने फोन कर उससे क्रेडिट कार्ड की वैलिडिटी खत्म होने का हवाला देते हुए समय सीमा बढ़ाने के लिए ओटीपी मांगी थी. पीड़ित के बेटे ने ठगों के झांसे में आकर उनको ओटीपी दे दी जिसके बाद क्रेडिट कार्ड के रकम उड़ा ली गई. मामला दर्ज करने के बाद पुलिस को वैज्ञानिक और तकनीकी अनुसंधान से पता चला कि जमुई के हांसडीह के रहने वाले राजाराम मंडल ने ठगी कर पीड़ित के क्रेडिट कार्ड से रकम को अपने खाते में डाल लिया था, बाद में उसने वो रकम अपने साथी रंजय के खाते में ट्रांसफर कर दी थी.

पुलिस के मुताबिक गिरफ्तार साइबर अपराधियों ने ठगी की वारदात को अंजाम देने के लिए एक ऐप का इस्तेमाल किया था. गिरफ्तार राजाराम मंडल के बारे में बताया जा रहा है कि वो मोबाइल का दुकान चलाता है.

झाझा एसडीपीओ रवि शंकर प्रसाद ने बताया कि पुलिस अधीक्षक (एसपी) शौर्य सुमन के निर्देश पर पुलिस की टेक्निकल सेल ने इस कांड का उद्भेदन (खुलासा) किया है. उन्होंने आम लोगों से आग्रह किया कि वो साइबर ठगों से बचने के लिए वो किसी को भी किसी प्रकार की सूचना या ओटीपी न दें.

Tags: Bihar News in hindi, Cyber Crime, Cyber Fraud, Jamui news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर