लाइव टीवी

Covid-19: लॉकडाउन में दो दिनों से भूखे मां-बेटे के लिए फरिश्ता बनकर पहुंचे डीएम-एसपी
Jamui News in Hindi

KC Kundan | News18 Bihar
Updated: March 31, 2020, 2:49 PM IST
Covid-19: लॉकडाउन में दो दिनों से भूखे मां-बेटे के लिए फरिश्ता बनकर पहुंचे डीएम-एसपी
जमुई के परिवार को मदद देने पहुंचे डीएम-एसपी

जमुई (Jamui) जिले के शहर के खैरमा मोहल्ले के वार्ड नंबर 4 के एक गरीब परिवार के बारे में डीएम को सोशल मीडिया (Social Media) के माध्यम से जानकारी मिली कि एक लाचार बुजुर्ग महिला रामप्रभा देवी जो बीमार है अपने बेटे के साथ दो दिन से भूखी है.

  • Share this:
जमुई. कोरोना को लेकर लॉकडाउन (Lockdown) के बाद भूख से परेशान एक गरीब परिवार के घर जमुई के डीएम और एसपी (DM-SP) खाद्य सामग्री के साथ पहुंच गए. खाद्य सामग्री लेकर डीएम-एसपी के पहुंचने के बाद मोहल्ले के लोग हैरान हो गए. इस दौरान डीएम ने कहा कि लॉकडाउन के बाद जिले के किसी भी शख्स को भूखे नहीं सोने दिया जाएगा. गरीब असहाय की मदद के लिए जिला प्रशासन पूरी तरह से तैयार है. जिला प्रशासन को अगर जानकारी मिलेगी तो घर पर जाकर उन्हें खाद्य सामग्री पहुंचाई जाएगी.

सोशल मीडिया से मिली थी जानकारी

दरअसल जमुई जिले के शहर के खैरमा मोहल्ले के वार्ड नंबर 4 के एक गरीब परिवार के बारे में डीएम को सोशल मीडिया के माध्यम से जानकारी मिली कि एक लाचार बुजुर्ग महिला रामप्रभा देवी जो बीमार है और उसका मजदूर प्रभाकर बेटा जो जमशेदपुर में मजदूरी करता था मां की देखभाल करने के लिए होली से ही घर पर है. वो फिलहाल बेरोजगार है और उसके घर में खाने के लिए कुछ भी नहीं. बीमार और बुजुर्ग महिला का जहां इलाज नहीं हो पा रहा वहीं खाद्य सामग्री घर में नहीं होने के कारण दोनों लोग भूखे हैं और महिला की स्थिति लगातार बिगड़ रही है.



खाद्य सामग्री के अलावा रोजमर्रा की चीजें भी दी



सोशल मीडिया पर जानकारी मिलने के बाद जमुई डीएम धर्मेंद्र कुमार और एसपी डॉक्टर एनामुल हक  मेग्नू ने बगैर देरी किए अपने अधिकारियों को निर्देश दिया और फिर चावल, आटा दाल जैसे कई खाद्य सामग्री के साथ साबुन, सर्फ लेकर खुद डीएम और एसपी गरीब के दरवाजे पर पहुंच गए. खैरमा के बाबू टोला में अचानक डीएम-एसपी समेत कई अधिकारियों के वाहन को पहुंचते देख लोग हैरान हो गए कि कहीं कोरोना का कोई संदिग्ध तो नहीं मिल गया जिसकी जांच के लिए अस्पताल ले जाने के लिए जिला प्रशासन पहुंच गई. लेकिन बाद में पता चला कि अधिकारी तो वहां खाद्य सामग्री देने आए हैं.

डीएम बोले- कोई भी परिवार भूखा नहीं सोएगा

डीएम और एसपी गरीब परिवार के घर में जाकर उनके परेशानियों को जाना जिसके बाद उस परिवार को खाद्य सामग्री उपलब्ध कराया गया. खाद्य सामग्री देने पहुंचे डीएम ने बताया कि उन्हें व्हाट्सएप पर जानकारी मिली थी. सूचना पाने के बाद खाद्य सामग्री लेकर वह पहुंचे हैं. डीएम ने कहा कि जिले के किसी भी शख्स को भूखे नहीं सोने दिया जाएगा. डीएम के साथ पहुंचे एसपी ने बताया कि जिला प्रशासन और पुलिस इस बात की निगरानी रख रही है. खाद्य सामग्री के कारण कोई परेशान नहीं होगी. अभी जिला पुलिस इतनी सक्षम है कि लगभग ढाई से तीन हजार गरीब असहाय परिवार को पुलिस के द्वारा खाद्य सामग्री पहुंचाई जा सकती है.

ये भी पढ़ें- कोरोना का मरीज मिलते ही बिहार के इस गांव को किया गया सील, दुबई से आया था घर

ये भी पढ़ें- Lockdown: कानून तोड़ने वालों पर की सख्ती, तो 7 दिन में ही 'करोड़पति' बनी पुलिस

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जमुई से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 31, 2020, 2:45 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading