होम /न्यूज /बिहार /Jamui: सरकारी क्वार्टर में डॉक्टर ने फांसी लगाकर खुदकुशी की, सुसाइड नोट में लिखा ‘काम का बोझ’

Jamui: सरकारी क्वार्टर में डॉक्टर ने फांसी लगाकर खुदकुशी की, सुसाइड नोट में लिखा ‘काम का बोझ’

जमुई में डॉक्टर द्वारा खुदकुशी किए जाने के बाद अस्पताल में जमा भीड़

जमुई में डॉक्टर द्वारा खुदकुशी किए जाने के बाद अस्पताल में जमा भीड़

Jamui Doctor Suicide Case: बिहार के जमुई में डॉक्टर द्वारा की गई आत्महत्या की इस खबर से उनके सहयोगी भी सकते में हैं. पु ...अधिक पढ़ें

जमुई. जिले के गिद्धौर के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी और जिला के प्रभारी प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉक्टर रामस्वरूप चौधरी ने मंगलवार की सुबह फांसी लगाकर खुदकुशी (Suicide) कर ली. मृत डॉक्टर का शव उनके सरकारी आवास के अपने कमरे में फंदे के सहारे लटका मिला. घटना के बाद परिजन और स्वास्थ्य कर्मी डॉक्टर को सदर अस्पताल लाए, जहां चिकित्सकों ने जांच करने के बाद उन्हें मृत घोषित कर दिया.

चौधरी जिले के प्रभारी प्रतिरक्षण पदाधिकारी के साथ ही एक प्रखंड के चिकित्सा पदाधिकारी भी थे, उनके खुदकुशी करने की जानकारी मिलने के बाद जिले के स्वास्थ्य विभाग के लोगों में सदमे और शोक का माहौल है, वहीं मृत डॉक्टर के परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है.

दरवाजा तोड़ने पर देखा, तो फंदे पर लाश झूल रही थी
बताया जा रहा है कि खुदकुशी करने से पहले डॉक्टर ने एक सुसाइड नोट भी छोड़ा है, जिसमे काम का बोझ की बात बताई गई है, हालांकि सुसाइड नोट सार्वजनिक नहीं हुआ है. बताया जा रहा है कि ऑफिस जाने के लिए लोग डॉक्टर के कमरे से बाहर आने का इंतजार कर रहे थे, लेकिन बहुत देर हो जाने के बाद चालक और परिवार वालों ने दरवाजा खटखटाया फिर भी नहीं खुला तब दरवाजा तोड़कर जब लोग अंदर गए तो देखा कि डॉक्टर का शव फंदे के सहारे लटका हुआ था. घटना के बाद सदर अस्पताल पहुंचे परिजनों ने खुदकुशी के कारण के बारे में कुछ भी जानकारी होने से इनकार किया है.

" isDesktop="true" id="3531282" >

हाल ही मिला था अतिरिक्त प्रभार
मृत डॉक्टर राम स्वरूप चौधरी को हाल ही में जिले के प्रतिरक्षण पदाधिकारी का भी प्रभार स्वास्थ्य विभाग ने दिया था. डॉक्टर के चालक ओम प्रकाश रावत ने बताया कि हर दिन की तरह वह सुबह चिकित्सा पदाधिकारी के आवास पर जाकर गाड़ी निकाल कर इंतजार कर रहा था लेकिन कमरे से साहब की जगह उनकी लाश निकली.

खुदकुशी के पीछे विभागीय कारण होने से इनकार
घटना की जानकारी मिलने के बाद सदर अस्पताल पहुंचे जिले के सिविल सर्जन डॉ विनय कुमार शर्मा ने बताया कि सोमवार की शाम वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की बैठक में उनसे बात हुई थी. विभाग की तरफ से किसी भी तरह की समस्या उनको नहीं थी. सिविल सर्जन ने इस खुदकुशी के पीछे विभागीय कारण होने से इंकार किया है.

Tags: Crime In Bihar, Suicide

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें