जमुई में मुठभेड़ के दौरान CRPF ने ध्वस्त किया नक्सलियों का बंकर, इंसांस के ढाई सौ कारतूस बरामद

बिहार के जमुई में नक्सलियों से मुठभेड़ के बाद सीआरपीएफ की टीम
बिहार के जमुई में नक्सलियों से मुठभेड़ के बाद सीआरपीएफ की टीम

बिहार के जमुई जिले का इलाका नक्सलियों से प्रभावित है. इस इलाके के कई हिस्से झारखंड से भी सटे हैं. सीआरपीएफ की टीम ने इस ऑपरेशन का नाम "शिवालिक- भी" दिया था.

  • Share this:
जमुई. जिले के खैरा और सिकंदरा थाना के सीमावर्ती गिद्धेश्वर जंगल में शनिवार को सर्च अभियान (Anti Naxal Operation) के दौरान सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच रुक- रुक कर कई बार मुठभेड़ हुई. मुठभेड़ (Encounter) खत्म होने के बाद सुरक्षाबलों ने मौके से नक्सलियों के 200 राउंड से अधिक इंसास के जिंदा कारतूस समेत कई सामान बरामद किए हैं. जानकारी के अनुसार भाकपा माओवादी के नक्सली कमांडर अरविंद यादव का अपने दस्ते के साथ जंगल में होने की सूचना के बाद कोबरा के जवानों और जिला पुलिस बल ने सर्च अभियान शुरू किया था.

इस अभियान के दौरान सुरक्षाबलों को देख नक्सलियों ने गोलियां चलाई जिसके जवाबी कार्रवाई में पुलिस के द्वारा भी सैकड़ों राउंड गोलियां चलाई गई. मुठभेड़ के बाद सुरक्षा बलों ने नक्सलियों के एक बंकर को भी ध्वस्त किया है. कोबरा 207 ने नक्सलियों के खिलाफ इस कार्रवाई को ऑपरेशन "शिवालिक- भी" का नाम दिया है. सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच हुई गोलीबारी में किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है लेकिन आशंका जताया जा रहा है कि नक्सलियों के तरफ से कोई घायल जरूर हुआ होगा.

दरअसल 6 नवंबर को कोबरा 207 के कमांडेंट रवि शंकर कुमार को गिद्धेश्वर जंगल में नक्सली कमांडर अरविंद यादव और उसके दस्ते के साथ होने की सूचना मिली थी जहां किसी बड़े घटना को अंजाम देने की योजना थी. इसके बाद कोबरा 207 और जिला पुलिस के द्वारा शुक्रवार की देर शाम सर्च अभियान शुरू किया गया था. सुरक्षा बल जैसे ही जिले के खैरा और सिकंदरा सीमा पर स्थित गिद्धेश्वर जंगल के चतरो पहाड़ पहुंचा वहां नक्सलियों के तरफ से फायरिंग शुरू हो गया जिसके बाद सुरक्षा बल भी मोर्चा संभालते हुए जवाबी कार्रवाई में गोलियां चलाई.



शनिवार की सुबह से दोपहर तक दोनों तरफ से गोलीबारी हुई. बाद में मुठभेड़ खत्म होने के बाद नक्सली मौके से फरार हो गए लेकिन घटनास्थल से नक्सलियों के कई सामान को बरामद किया गया. बरामद सामान में 200 राउंड इंसास के जिंदा कारतूस , मैगजीन , पिट्ठु , सोलर प्लेट के अलावा खाना बनाने के कई सामान बरामद किये गए हैं.
सुरक्षा बलों ने नक्सलियों के बंकर से वैसे भी आवेदन पत्र बरामद किए हैं जिनमें नक्सली संगठन के पीएलजीए ग्रुप में शामिल करने के लिए का फॉर्म है. नक्सली कमांडर और उसके दस्ते के खिलाफ इस कार्रवाई को कोबरा 207 की टीम ने ऑपरेशन का नाम "शिवालिक- भी"दिया है. एसपी प्रमोद कुमार मंडल पुष्टि करते हुए बताया कि सर्च अभियान चलाया जा रहा था जिस दौरान नक्सलियों ने सुरक्षा बलों पर फायरिंग शुरू कर दिया जिसके जवाब में पुलिस के द्वारा फायरिंग की गई.

दोनों तरफ से मुठभेड़ के बाद सुरक्षा बलों ने नक्सलियों के बंकर को भी ध्वस्त किया है जहां से 200 राउंड से ऊपर इंसास राइफल की कारतूस, कई सोलर प्लेट और मैगजीन के साथ नक्सलियों के कई सामान को बरामद किया गया है. एसपी ने बताया कि नक्सली इलाके में बड़ी घटना को अंजाम देने की फिराक में थे सूचना के बाद यह कार्रवाई की गई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज