लाइव टीवी

घोटाला : सरकारी राशि का बंदरबांट कर बुरे फंसे अधिकारी, डीएम ने दर्ज कराया केस

KC Kundan | News18 Bihar
Updated: November 2, 2019, 10:18 AM IST
घोटाला : सरकारी राशि का बंदरबांट कर बुरे फंसे अधिकारी, डीएम ने दर्ज कराया केस
जमुई के जिला उद्यान पदाधिकारी का दफ्तर

जमुई (Jamui) जिले में हुई इस अनियमितता, लापरवाही और जांच प्रतिवेदन (Inquiry) में सामने आने के बाद डीएम (DM) धर्मेंद्र कुमार ने 72 घंटे का समय देकर उद्यान कार्यालय के सहायक निदेशक से कारण पूछा था लेकिन जवाब नहीं मिल सका.

  • Share this:
जमुई. बिहार के जमुई जिले के उद्यान विभाग के सहायक निदेशक वेद प्रकाश के खिलाफ मलयपुर थाना में केस दर्ज कराया गया है. उद्यान विभाग के निदेशक पर वित्तीय अनियमितता के साथ सरकारी कार्यक्रमों के संचालन में लापरवाही का आरोप लगा है. शिकायत के बाद डीएम द्वारा गठित जांच दल ने उद्यान विभाग के निदेशक को दोषी पाया था जांच प्रतिवेदन के बाद डीएम ने शो कॉज भी किया था लेकिन जवाब नहीं मिलने पर निदेशक के खिलाफ थाने में केस दर्ज किया गया है.

डीएम के आदेश पर डीटीओ ने कराया केस

जमुई जिला उद्यान कार्यालय के सहायक निदेशक के खिलाफ जिले के ही एक थाने में डीएम धर्मेंद्र कुमार के आदेश के बाद जिला परिवहन पदाधिकारी ने केस दर्ज करा दिया है. दरअसल डीएम को जिले के कुछ लोगों और अन्य स्रोतों से जानकारी मिली थी कि जिला उद्यान कार्यालय में अनियमितता व्याप्त है. सरकारी राशि के आवंटन के बाद भी योजना का लाभ किसानों को नहीं मिल रहा है. जिसके बाद डीएम ने एक जांच दल बनाकर पूरे मामले की जांच का आदेश दिया था.

38 पन्ने की जांच रिपोर्ट में मिली थी खामी

डीएम के निर्देश के बाद जिला परिवहन पदाधिकारी और जिला कल्याण पदाधिकारी ने 38 पन्ने का जांच रिपोर्ट सौंपा था. जांच प्रतिवेदन में वित्तीय अनियमितता और लापरवाही का मामला सामने आया था.
जांच प्रतिवेदन पर गौर करें तो वित्तीय वर्ष 2018-19 में राष्ट्रीय बागवानी मिशन योजना में लगभग 90 लाख राशि की निकासी हुई जबकि मात्र लगभग 48 लाख का ही वितरण किया गया है, जो लक्ष्य के विरुद्ध मात्र 56% था. जांच प्रतिवेदन में योजना का महत्वपूर्ण बताते हुए बड़ी राशि का इतना समय बीत जाने के बाद भी खर्च ना होना वित्तीय अनियमितता एवं गलत मंशा को बताया है. वहीं वित्तीय वर्ष 2018-19 में आम की खेती के लिए केले की खेती अमरूद की खेती पपीते की खेती के अनुदान का द्वितीय किस्त का भुगतान जांच की तिथी तक नहीं किया गया है. इसके साथ ग्रीन हाउस योजना अंतर्गत में भी जिला उद्यान कार्यालय में अनियमितता बरती है.

डीएम ने 72 घंटों में मांगा था जवाब
Loading...

किसानों के प्रशिक्षण के लिए 16 नवंबर 2018 को सवा पांच लाख की राशि का आवंटन उपलब्ध कराया गया, परंतु अब तक प्रशिक्षण का कार्यक्रम नहीं किया गया है. किसानों को प्रशिक्षण कार्यक्रम का लाभ नहीं देने के मामले में कार्यालय द्वारा कोई ठोस कारण नहीं बताया गया. इसी तरह के कई मामले और अनियमितता, लापरवाही जांच प्रतिवेदन में सामने आने के बाद जमुई डीएम धर्मेंद्र कुमार ने 72 घंटे का समय देकर उद्यान कार्यालय के सहायक निदेशक से कारण पूछा था लेकिन जवाब ने देने पर डीएम के आदेश के बाद मलयपुर थाना में केस दर्ज कराया गया है.

जांच में जुटी पुलिस

इस मामले में मलयपुर थानाध्यक्ष राजेश कुमार ने बताया कि जिला कल्याण पदाधिकारी द्वारा उद्यान विभाग के सहायक निदेशक के खिलाफ केस दर्ज कराया गया है जिसका अनुसंधान कराया जाएगा. जमुई के डीएम धर्मेंद्र कुमार ने बताया कि जांच में वित्तीय अनियमितता और लापरवाही की बात सामने आई थी, जिसके बाद मेरे आदेश से जिला कल्याण पदाधिकारी ने आवेदन देकर केस दर्ज कराया है. जिला उद्यान कार्यालय के सहायक निदेशक पदाधिकारी पर आगे की कार्रवाई के लिए विभाग को लिखा जा रहा है, जिसमे इनिलंबन की कार्रवाई और प्रपत्र का गठन करने की मांग की जाएगी.

ये भी पढ़ें- पिछले 20 सालों से छठ महापर्व कर रही हैं छपरा की ये मुस्लिम महिला, जानें वजह

ये भी पढ़ें- छठ के दिन सुधा ने बढ़ाए दूध-घी समेत मिठाईयों के दाम, देखें नया रेट चार्ट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जमुई से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 2, 2019, 10:09 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...