बिहार: CM नीतीश की सलाह न मान कर बैठे बड़ी भूल, शादी समारोह से गांव में फैला कोरोना

जमुई में एक शादी के चलते एक पर‍िवार के 22 लोग हुए कोरोना संक्रम‍ित. सीएम नीतीश कुमार (फाइल फोटो)

जमुई में एक शादी के चलते एक पर‍िवार के 22 लोग हुए कोरोना संक्रम‍ित. सीएम नीतीश कुमार (फाइल फोटो)

Jamui News: लक्ष्मीपुर रेफरल अस्पताल के प्रभारी डॉ धीरेंद्र कुमार धुसिया ने बताया की गांव में एक शख्स की मौत के बाद कोरोना जांच करवायी गयी जिनमें एक ही परिवार के 22 लोग संक्रमित पाए गए हैं. गांव में और भी लोगों की जांच के लिए निर्देश दे दिये गये हैं.

  • Share this:

जमुई. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) ने सोशल मीडिया पर लोगों से अपील की कि वो कोरोना संक्रमण के चेन को तोड़ने में मदद करें शादी-विवाह जैसे भीड़ जुटने वाले कार्यक्रम कुछ समय के लिए टाल दें. यह आपके परिवार और समाज के हित में होगा. सीएम की इस अपील के बाद बिहारवासियों ने ऐसे कई कार्यक्रम स्थगित कर दिए हैं. लेकिन, कुछ ऐसे भी हैं जिनपर इस अपील का कोई असर नहीं है. गांवों में लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमितो की संख्या यह बताती है कि सरकार की गाइडलाइन का उल्लंघन करते हुए विभिन्न तरह का आयोजन संक्रमण फैलने का कारण बन रहा है.  जिसका ताजा उदाहरण है जमुई जिले के लक्ष्मीपुर प्रखंड इलाके का दिग्घी गांव, जहां जांच के बाद रविवार को आई रिपोर्ट में एक साथ 22 लोग संक्रमित पाए गए हैं. इनमें से  एक संक्रमित शख्स की मौत इलाज के दौरान पटना में हो चुकी है.

बताया जा रहा है जिस संक्रमित शख्स विद्याभूषण उर्फ ललन मंडल की मौत हुई है उसके बेटे छोटू की शादी बीते 26 अप्रेल को हुई थी. शादी में उस परिवार के अलावा आसपास के लोग बढ़-चढ़कर शामिल हुए थे. शादी के कुछ ही दिनों के बाद घर के मुखिया की तबीयत बिगड़ने लगी फिर इलाज के लिए भर्ती कराया गया था. जिसकी मौत के बाद जब उस टोले में कोरोना जांच करवायी गयी जहां एक साथ 22 पॉजिटिव मरीज मिले. कोरोना संक्रमण का इतना बड़ा मामला सामने आने के बाद इलाके के मेन बाजार दिग्घी की सड़कें सुनसान हैं और दुकाने भी नहीं खुलतीं.

एक ही परिवार में मिले 22 संक्रमित

मिली जानकारी के अनुसार दिग्घी गांव में जो 22 लोग पॉजिटिव पाए गए हैं वो सभी एक ही परिवार से आते हैं. उस परिवार में लड़के की शादी थी जिसमें परिवार के एक संबंधी बोकारो से भी आया था. जानकारी के अनुसार दामाद को सर्दी, खांसी और तेज बुखार था. परिवार के मुखिया विद्याभूषण उर्फ ललन मंडल की मौत के बाद जब जांच हुआ तो लोगो को संक्रमित पाया गया. गांव वालों का कहना है कि संक्रमण को देखते हुए शादी टाल देनी चाहिए थी. इस बीच गांव के लोग अब सभी नागरिकों की जांच और सैनिटाइजेशन की मांग कर रहे हैं.
भीड़ इकट्ठी होने से फैला कोरोना

मामले में लक्ष्मीपुर रेफरल अस्पताल के प्रभारी डॉ धीरेंद्र कुमार धुसिया ने बताया की गांव में एक शख्स की मौत के बाद कोरोना जांच करवायी गयी जिनमें एक ही परिवार के 22 लोग संक्रमित पाए गए हैं. गांव में और भी लोगों की जांच के लिए निर्देश दे दिये गये हैं. शादी के बाद कोरोना फैलने के बारे में प्रभारी ने बताया कि इस तरह के आयोजन में संक्रमण तेजी से फैलता है क्योंकि भीड़ और लापरवाही अधिक हो जाती है. ऐसे में सीएम नीतीश कुमार की इस अपील को लोग जरूर मानें कि कुछ समय के लिए शादी और धार्मिक, सामाजिक आयोजनों को टाल दें. यह समाज के हित में होगा.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज