चिराग के क्षेत्र में रोशन हुए नीतीश, निर्दलीय विधायक सुमित सिंह ने दिया समर्थन

नीतीश कुमार को सीएम की कुर्सी से हटाने के लिए चिराग पासवान ने चुनाव में पूरी ताकत झोंक दी थी.
नीतीश कुमार को सीएम की कुर्सी से हटाने के लिए चिराग पासवान ने चुनाव में पूरी ताकत झोंक दी थी.

जमुई की चकाई सीट से जीत हासिल करने वाले निर्दलीय प्रत्याशी सुमित कुमार सिंह ने सीएम नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को समर्थन देने का ऐलान किया है.

  • Share this:
जमुई. बिहार विधानसभा चुनाव 2020 (Bihar Assembly Election) में जमुई जिले की चकाई सीट से जीत हासिल करने वाले निर्दलीय प्रत्याशी सुमित कुमार सिंह ने सीएम नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को समर्थन देने का ऐलान किया है. इसी के साथ जिले के चारों विधायक एनडीए (NDA) के हो गए हैं. इससे पहले 2015 के विधानसभा चुनाव में जिले की 3 सीटों पर राजद (RJD) के विधायक चुने गए थे. जबकि एक सीट पर भाजपा कैंडिडेट की जीत हुई थी. उससे पहले 2010 में भी चारों सीट एनडीए के नाम हुई थीं. तब झामुमो के टिकट पर चकाई से चुनाव जीतकर आए सुमित सिंह जदयू में शामिल हो गए थे. एक बार फिर चकाई विधायक ने सीएम नीतीश कुमार को अपना समर्थन दिया है.

दरअसल जदयू से बेटिकट होने के बाद सुमित कुमार सिंह ने निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चकाई से चुनाव लड़ा. उन्होंने राजद की सावित्री देवी और जदयू के संजय प्रसाद को हराया. इससे पहले 2015 के चुनाव में सुमित कुमार सिंह को एनडीए से टिकट नहीं मिला था. निर्दलीय चुनाव लड़े, लेकिन हार गए थे.





चकाई में एनडीए का परचम इसलिए महत्वपूर्ण हो जाता है क्योंकि यहां से लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान सांसद हैं. 2020 चुनाव में चिराग ने जमुई की 3 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारे थे, लेकिन मतदाताओं ने तीनों को नकार दिया. यहीं नहीं लोजपा प्रत्याशी तीसरे स्थान पर भी जगह नहीं बना पाए. सिकंदरा से लोजपा प्रत्याशी रवि शंकर पासवान चौथे स्थान पर रहे. वहीं झाझा सीट से निवर्तमान विधायक डॉ. रविंद्र यादव, चकाई सीट से संजय मंडल का यही हाल रहा.
उधर जमुई सीट से भाजपा प्रत्याशी श्रेयसी सिंह, सिकंदरा सीट से हम प्रत्याशी प्रफुल्ल मांझी, झाझा से जदयू प्रत्याशी दामोदर रावत विधायक चुने गए. चकाई से निर्दलीय चुनाव लड़े सुमित कुमार सिंह ने भी अब अपना समर्थन एनडीए को दे दिया है. इस तरह 2010 के बाद इस बार भी जिले की चारों सीटों पर महागठबंधन का सफाया हो गया और एनडीए का कब्जा हो गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज