लाइव टीवी

जमुई के स्कूलों में प्रशासन ने ढूंढे 'उस्ताद', अगले साल मैट्रिक परीक्षा में दिखाएंगे जलवा

KC Kundan | News18 Bihar
Updated: November 22, 2019, 12:07 AM IST
जमुई के स्कूलों में प्रशासन ने ढूंढे 'उस्ताद', अगले साल मैट्रिक परीक्षा में दिखाएंगे जलवा
जमुई में नौवीं और 10वीं कक्षा के बच्चों के लिए उस्ताद प्रतियोगिता का आयोजन किया गया.

जमुई (Jamui) के स्कूलों में पढ़ने वाले मेधावी (Talent) छात्र-छात्राओं के लिए जिला प्रशासन (District Administration) ने उस्ताद प्रतियोगिता (Ustad Competition) का किया आयोजन. चुने हुए छात्रों के मैट्रिक परीक्षा (Matric Examination) की बेहतर तैयारी का मौका मिलेगा.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: November 22, 2019, 12:07 AM IST
  • Share this:
जमुई. जिला प्रशासन ने मेधावी छात्र-छात्राओं की पढ़ाई में मदद के लिए उस्ताद प्रतियोगिता का आयोजन कराया. इसमें जमुई (Jamui) जिले के सिमुलतला आवासीय विद्यालय (Simultala School) सहित सभी 127 हाईस्कूलों के विद्यार्थी शामिल हुए. इस प्रतियोगिता के पीछे प्रशासन का मकसद जिले के सरकारी स्कूलों के प्रतिभावान विद्यार्थियों की खोज करना था, ताकि ये बच्चे अगले साल की मैट्रिक परीक्षा (Matric Examination) में जमुई का नाम रोशन कर सकें. प्रतियोगिता के विजेता 10 छात्र-छात्राओं को जमुई डीएम ने गुरुवार को सम्मानित किया और उन्हें बधाई दी. इस मौके पर डीएम ने कहा कि सरकारी स्कूलों के जिन शिक्षकों ने बेहतर काम किया है, उन्हें भी उस्ताद सम्मान दिया जाएगा.

नौवीं और 10वीं के छात्र चुने गए
उस्ताद प्रतियोगिता के लिए जमुई के सभी 127 हाईस्कूलों की नौवीं और 10वीं कक्षा के 5-5 यानी कुल 10 छात्र चुने गए थे. जिलेभर के कुल 1270 विद्यार्थियों के बीच हुई प्रतियोगिता में से दोनों कक्षाओं को मिलाकर कुल 50-50 मेधावी बच्चों को चुना गया. इन चुने गए विद्यार्थियों को सम्मानित करने के लिए जिला प्रशासन ने गुरुवार को समारोह का आयोजन किया. गरीब और आर्थिक रूप से कमजोर तबके से आने वाले इन बच्चों के सम्मान समारोह में स्कूलों के शिक्षक और अभिभावक भी शामिल हुए. इस मौके पर डीएम धर्मेंद्र कुमार ने विद्यार्थियों को सम्मानित करते हुए कहा कि जमुई के बच्चों की प्रतिभा को प्रशासन आगे बढ़ाने में मदद करेगा. इस मौके पर बच्चों को मेडल और पढ़ाई में जरूरी सामान से भरा बैग देकर पुरस्कृत किया गया.

शिक्षक भी होंगे सम्मानित

समारोह में डीएम धर्मेंद्र कुमार ने कहा कि बेहतर प्रशिक्षण मतलब कि बेहतर पढ़ाने वाले शिक्षक, उस्ताद के समान हैं. इसलिए प्रतियोगिता का नाम उस्ताद रखा गया. इन बेहतर शिक्षकों को आने वाले दिनों में उस्ताद सम्मान से सम्मानित किया जाएगा. साथ ही जिन मेधावी छात्रों को का चयन इस प्रतियोगिता में हुआ है उन्हें प्रशासन पढ़ाई में मदद मुहैया कराएगा, ताकि वे भविष्य में और बेहतर प्रदर्शन कर सके. गरीब परिवार से आने वाले इन सभी बच्चों को सिमुलतला आवासीय विद्यालय मैं कुछ दिन रख कर पढ़ाई के गुर सिखाए जाएंगे. जो बच्चे चयनित हुए हैं और अगले साल जिनका बोर्ड का एग्जाम है, उन्हें भी अलग से परीक्षा को लेकर तैयार करवाया जाएगा. जिले में बेहतर परिणाम देने वाले छात्र को जिला प्रशासन स्कॉलरशिप देगी जिसको लेकर तैयारी चल रही है.

ये भी पढ़ें -

चचेरे भाई ने सुपारी देकर कराई थी कपड़ा व्यापारी की हत्या, ये था कारणजेल से छूटने के बाद सामान्य जिंदगी जी रहा था नक्सली, अपराधियों ने कर दी हत्या

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जमुई से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 22, 2019, 12:07 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर