Assembly Banner 2021

Jamui Election Result 2019, लोकसभा रिजल्ट 2019: चिराग पासवान की लगातार दूसरी जीत की ये रही वजह

चिराग पासवान ने लगातार दूसरी बार जुमई से जीत दर्ज की है (twitter)

चिराग पासवान ने लगातार दूसरी बार जुमई से जीत दर्ज की है (twitter)

Jamui Election Result 2019 (जमुई इलेक्शन रिजल्ट २०१९) जमुई लोकसभा परिणाम 2019: जमुई लोकसभा सीट पर लोकप्रियता के मामले में आरएलएसपी के भूदेव चौधरी एलजेपी के चिराग पासवान के सामने टिक नहीं पाए

  • Share this:
जमुई लोकसभा सीट चिराग पासवान ने एक बार फिर अपने नाम कर ली. इस सीट पर कांटे की टक्कर बताई जा रही थी. लेकिन चुनावी नतीजों ने साफ कर दिया कि चिराग पासवान की लोकप्रियता के आगे भूदेव चौधरी टिक नहीं पाए. चिराग पासवान को कुल 529134 वोट हासिल हुए जबकि आरएलएसपी के भूदेव चौधरी को 288085 वोट मिले.

चिराग पासवान की जीत का समीकरण

-चिराग पासवान की जीत में मजबूत जातीय समीकरण ने बड़ी भूमिका निभाई. चिराग के पक्ष में एलजेपी के दलितों, बीजेपी के सवर्णों और जेडीयू के पिछड़ों और अतिपिछड़े समर्थकों का हुजूम खड़ा था. इस बड़े जातीय समीकरण ने जीत की राह आसान कर दी.



-प्रधानमंत्री मोदी के नाम पर लड़े गए इस चुनाव का सीधा फायदा चिराग पासवान को मिला. पीएम मोदी ने बिहार की अपनी शुरुआती रैलियों में जमुई लोकसभा सीट की जनसभा को संबोधित कर चिराग पासवान के लिए वोट मांगे थे. राजनाथ सिंह ने भी चिराग के लिए चुनाव प्रचार किए. जमुई की जनता ने बड़े नेताओं की अपील को अनसुना नहीं किया.
-जमुई लोकसभा सीट पर लोकप्रियता के मामले में आरएलएसपी के भूदेव चौधरी एलजेपी के चिराग पासवान के सामने टिक नहीं पाए. पिता रामविलास पासवान के चुनाव नहीं लड़ने की वजह से वो चाहते तो एलजेपी के लिए सुरक्षित मानी जाने वाली हाजीपुर सीट से चुनावी मैदान में उतर सकते थे. लेकिन चिराग ने जमुई की जनता के भरोसे का हवाला देकर अपनी सीट बरकरार रखी. मतदाताओं के बीच इससे अच्छा संदेश गया.

-अपने 5 साल के कार्यकाल में चिराग पासवान ने अपने संसदीय क्षेत्र के लिए कुछ अच्छे काम किए. झाझा में केन्द्रीय विद्यालय की स्थापना करवाई, जमुई जिले में मेडिकल कॉलेज खुलवाने की स्वीकृति दिलाई. जमुई रेलवे स्टेशन के सौंदर्यीकरण के लिए 58 करोड़ की राशि स्वीकृत हुई, जमुई में FCI के जोनल कार्यालय की शुरुआत हुई, इन सब कामों की बदौलत जनता ने उनपर दोबारा भरोसा दिखाया.

चिराग पासवान ने आरएलएसपी के भूदेव चौधरी को मात दी (TWITTER)
चिराग पासवान ने आरएलएसपी के भूदेव चौधरी को मात दी (TWITTER)


-जमुई लोकसभा सीट पर सबसे अधिक जनसंख्या (करीब 3 लाख) यादवों की है. राजपूत और वैश्य की आबादी 2-2 लाख, भूमिहार 1 लाख, मुसलमान 1.5 लाख और पासवान 1 लाख की संख्या में हैं. भूदेव चौधरी पासी समुदाय से आते हैं. जातीय समीकरण साधने में भूदेव चौधरी फेल रहे.

-जमुई लोकसभा सीट 2009 के नए परिसीमन में अस्तित्व में आई थी. तब से इस सीट पर एनडीए का दबदबा रहा है. 2009 के चुनाव में जेडीयू के भूदेव चौधरी ने आरजेडी के श्याम रजक को शिकस्त दी थी. 2014 में एलजेपी के चिराग पासवान ने आरजेडी के सुंधाशु शेखर को हराया था. एनडीए के समीकरण ने एक बार फिर चिराग के लिए काम किया.

- चुनाव में स्थानीय मुद्दों की बजाए राष्ट्रीय मुद्दे हावी रहे. सर्जिकल स्ट्राइक, राष्ट्रवाद और आतंकवाद के मुद्दे पर जनता ने अपना फैसले दिया. इसका सीधा फायदा एनडीए उम्मीदवार चिराग पासवान को मिला.

-चिराग में जमुई की जनता ने भविष्य की संभावनाएं देखी. पिछले 5 साल के दौरान उनका राजनीतिक कद भी बढ़ा और उनके सूझबूझ भरे राजनीतिक फैसलों की भी प्रशंसा हुई. वो जनता की पसंद बनते चले गए.

ये भी पढ़ें-
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज