लाइव टीवी

बिहार में बजता है केड़िया गांव का डंका, पेश की ये मिसाल

KC Kundan | News18 Bihar
Updated: October 23, 2019, 7:54 PM IST
बिहार में बजता है केड़िया गांव का डंका, पेश की ये मिसाल
केड़िया के किसान सरकार के जैविक कॉरिडोर को दे रहें हैं बल.

जैविक खेती (Organic Farming) के मामले में जमुई जिले (Jamui District) के गांव केड़िया (Kedia) ने एक अलग रुतबा कायम कर लिया है. जैविक खेती में प्रमाण पत्र मिलने के बाद बिहार का यह पहला जैविक गांव (Organic Village) बन गया है. लगभग 107 परिवार वाले इस गांव में 45 एकड़ जमीन में जैविक खेती होती है.

  • Share this:
जमुई. खेती में रसायन के इस्तेमाल से होने वाले नुकसान की जानकारी होने के बाद अब जैविक खेती (Organic Farming) का महत्व बढ़ गया है. यकीनन अब सरकारी और गैर सरकारी तौर पर जैविक खेती को बढ़ाने की बातें हो रही हैं. इस दिशा में जमुई जिले (Jamui District) के गांव केड़िया (Kedia) ने एक अलग रुतबा कायम कर लिया है. सच कहा जाए तो बिहार प्रदेश में केड़िया की पहचान अब जैविक गांव के रूप में हो चुकी है. जी हां, इस गांव के किसान खेती में रसायन का इस्तेमाल छोड़कर पूरी तरह से जैविक खेती करते आ रहे हैं. जबकि जैविक खेती में प्रमाण पत्र मिलने के बाद पूरे बिहार में यह पहला जैविक गांव (Organic Village) बन गया है. यही नहीं, जैविक खेती के कारण ही इस गांव में ना सिर्फ प्रदेश के दूसरे जिलों से बल्कि दूसरे राज्यों के अलावा विदेशों से भी किसान पहुंचते हैं.

केड़िया में पिछले 5 साल से होती है जैविक खेती
जमुई जिले के बरहट प्रखंड इलाके का पाड़ो पंचायत का गांव है केड़िया. इस गांव के किसान पिछले 5 साल से जैविक विधि से खेती करते आ रहे हैं. खेतों में रसायन का इस्तेमाल बंद करने के लिए इस गांव में जैविक खाद और जैविक कीटनाशक बनाने के लिए कई संयंत्र लगाए गए हैं. लगभग 107 परिवार वाले इस गांव में 45 एकड़ जमीन में जैविक खेती होती है और किसान जैविक विधि से धान, गेहूं के अलावा कई तरह की सब्जियां उपजाते हैं. यहां तैयार फसल के लिए किसानों को परेशानी नहीं होती. धान , गेंहू हो या सब्जी इस गांव में खरीदार खुद पहुंच कर फसल को खरीद लेते हैं. इस गांव के किसान खुद जैविक विधि से तैयार फसल का इस्तेमाल करते ही हैं बल्कि दूसरे किसानों को भी प्रेरित करते हैं.

यही वजह है कि सिर्फ जमुई जिले के ही किसान नहीं प्रदेश के दूसरे जिलों के अलावा दूसरे राज्य और विदेशों से भी लोग यहां आकर जैविक खेती का साक्षात्कार करते हैं. यहां दूर-दूर से आये लोग जैविक खेती को समझते हैं. इस गांव के किसान आनंदी यादव कहते हैं कि जब से लोगों ने जैविक विधि को अपनाया है तब से लागत में कमी आने के अलावा उत्पाद की कीमत भी बेहतर मिल रही है. जबकि किसान राजकुमार यादव का कहना है कि अपनी खेत की मिट्टी की उर्वरा शक्ति बची रहे स्वास्थ्य भी बना रहे इस सोच के साथ हम लोगों ने जैविक विधि से खेती करते आ रहे हैं.

Bihar, Nitish Kumar,बिहार, नीतीश कुमार
जमुई जिले के बरहट प्रखंड इलाके का पाड़ो पंचायत का गांव है केड़िया


ऐसे होती है जैविक खेती
2014 से जैविक विधि से खेती करने वाले इस गांव के किसान जीवित माटी किसान समिति बनाकर लगातार आगे बढ़ रहे हैं. जैविक खेती का इस्तेमाल करने पर इस गांव के किसानों को सरकार द्वारा भी खूब मदद मिली. जैविक खाद और जैविक कीटनाशक तैयार करने के लिए सरकारी अनुदान पर दर्जनों शेड बनाये गए हैं. जैविक खेती के प्रति लगाव यहां के किसानों की जागरूकता और मेहनत का नतीजा है कि 2018 में सिक्किम सरकार और प्रमाणीकरण फोरम इस गांव को जैविक खेती को लेकर प्रमाण पत्र भी दे चुका है. जिसके साथ ही यह सूबे के पहला जैविक गांव बना था.
Loading...

जैविक खेती को लेकर लोगों को जागरूक करने वाली एक संस्था के अभियानकर्ता मो इश्तेयाक की मानें तो इस गांव के किसानों में जैविक खेती को लेकर जो जागरूकता है उसे देखने के लिए अक्सर दूर-दूर से किसान पहुंचते हैं.

बिहार सरकार ने कही ये बात
बिहार सरकार के कृषि विभाग के संयुक्त निदेशक वेंकेटश प्रसाद सिंह का कहना है कि केड़िया के किसान जैविक खेती को लेकर जागरूक हैं. यहां के किसान अपनी मिट्टी से प्यार करते हैं. जल संरक्षण को लेकर यहां के किसान बोरिंग का विरोध करते हैं. सरकारी तौर भी इन लोगों को सहायता की जाती है. बिहार सरकार ने जो जैविक कॉरीडोर बनाने का संकल्प लिया है उसे यहां के किसान मजबूती दे रहे हैं.

ये भी पढ़ें-
पूर्णिया में चल रहा है 'पॉल्यूशन फ्री सर्टिफिकेट' का गोरखधंधा, लोगों की शिकायत के बाद विभाग ने कही ये बात

इंफोसिस संकट: पत्नी से पैसे लेकर 10 हजार रुपए से नारायणमूर्ति ने शुरू की थी कंपनी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जमुई से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 23, 2019, 7:37 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...