बिहार: लॉकडाउन में स्कूल हुआ बंद तो क्लास रूम में ही उपजाना शुरू कर दिया मशरूम, अब कर रहे लाखों की कमाई
Jamui News in Hindi

बिहार: लॉकडाउन में स्कूल हुआ बंद तो क्लास रूम में ही उपजाना शुरू कर दिया मशरूम, अब कर रहे लाखों की कमाई
जमुई के एक निजी स्कूल के कमरे में मशरुम का उत्पादन

लोकल होने के कारण यहां के मशरुम (Mushroom) की मांग स्थानीय बाजार में भी खूब है. स्कूल के संचालक का कहना है कि इसका उत्पादन कोरोना के बाद भी जारी रखेंगे.

  • Share this:
जमुई. कोरोना संकट (Corona Crisis) में जब लॉकडाउन (Lockdown) के कारण स्कूल में पढाई और बच्चों का आना बंद हुआ  तो नुकसान की भरपाई के लिए निदेशक ने स्कूल के कमरों में मशरुम (Mushroom) की फसल लगा दी. मशरुम का उत्पादन कर जमुई के इस निजी स्कूल के निदेशक अब लाखों की कमाई कर रहे हैं, साथ ही लोगों को रोजगार दे रहे हैं. मशरूम उत्पादन कैसे करें इसके लिए इस स्कूल संचालक ने पहले सोशल मीडिया पर उसे जुड़ा वीडियो देखा और फिर मशरूम उत्पादन करने वाले किसानों से संपर्क किया. फिर कृषि वैज्ञानिकों से ऑनलाइन ट्रेनिंग लेकर दूसरी जगहों से बीज मंगवाई और मशरूम का उत्पादन शुरू कर दिया.

स्कूल के निदेशक अभिषेक कुमार की मानें तो कोरोना के कारण लॉकडाउन में जब स्कूल बंद हो गया, स्कूल संचालन के लिए, स्कूल स्टाफ को वेतन देने के लिये जब पैसे की कमी होने लगी तो स्कूल के कमरों का उपयोग करना बेहतर सोचा क्योंकि उसके स्कूल के अधिकांश क्लास रूम एयर कंडीशन है फिर मशरूम के लिए उपयुक्त मांनते हुए उसमें इसका फसल लगाना शुरू किया.

वर्चुअल ट्रेनिंग लेकर बाहर से बीज मंगा कर मशरूम उत्पादन के लिए पैकेट का निर्माण यही खुद होता है.  यहां के मशरूम की मांग बाजार में भी खूब हो रही है मांग के अनुसार को देखते हुए उत्पादन का दायरा और बढ़ाया जा रहा है. कोरोना के बाद जो भी यह स्वरोजगार जारी रहेगा.



दरअसल स्कूल के खाली पड़े कई कमरों में एयर कंडीशन लगे थे. इसका उपयोग करते हुए मशरूम का उत्पादन हो रहा है. स्कूल के इन क्लासरूम का उपयोग अभी मशरूम के प्लांटिंग, प्रोसेसिंग, पैकेजिंग के लिए किए जा रहे हैं. यहां आधुनिक तरीके से पूरे साफ-सफाई और नियमों का पालन कर मशरुम का उत्पादन हो रहा है.
सबसे खास बात है कि स्कूल के निदेशक की इस पहल का फायदा आधा दर्जन से अधिक लोगों को हो रहा है क्योंकि उन्हें रोजगार मिल रहा है. स्कूल के क्लासरूम में होने वाले मशरूम से युवा निदेशक अभी तक डेढ़ लाख की कमाई कर चुका है, दावा है कि आने वाले दिनों में लगभग 500 मशरूम का पैकेट तैयार हो रहा है जिससे होने वाले आमदनी से आर्थिक परेशानी को दूर कर लेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज