बिहार में मिड डे मील खाने से 50 से अधिक स्कूली बच्चे बीमार, अस्पताल में भर्ती

बीमार सभी बच्चे लखीसराय के हलसी थाना इलाके के उत्क्रमित मध्य विद्यालय महरथ में पढ़ने वाले हैं.

News18 Bihar
Updated: April 30, 2019, 2:34 PM IST
बिहार में मिड डे मील खाने से 50 से अधिक स्कूली बच्चे बीमार, अस्पताल में भर्ती
अस्पताल में इलाजरत बच्चे
News18 Bihar
Updated: April 30, 2019, 2:34 PM IST
बिहार में मिड डे मील खाने से एक बार फिर स्कूली बच्चे अस्‍पताल पहुंच गए हैं. मामला लखीसराय जिले से जुड़ा है. बीमार पड़े बच्चों को जमुई के सिकंदरा स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में भर्ती कराया गया है, जहां उनका इलाज चल रहा है. अस्पताल में उस समय अफरा-तफरी मच गई जब एक साथ दर्जनों की संख्या में बीमार स्कूली बच्चे इलाज के लिए हॉस्पिटल पहुंच गए. 50 से ज्‍यादा बच्‍चे बीमार बताए जाते हैं.

ये भी पढ़ें- लोकसभा चुनाव 2019: तेजस्वी यादव बोले- चाचा के लोगों ने की थी बूथ लूटने की कोशिश

बीमार बच्चे लखीसराय के हलसी थाना इलाके के उत्क्रमित मध्य विद्यालय महरथ में पढने वाले हैं. जानकारी के अनुसार, स्कूल में मिड डे मील खाने के बाद स्कूली बच्चों की तबियत बिगड़ने लगी. बच्चों की ओर से उल्टी की शिकायत आने के बाद उन्हें आनन-फानन में जमुई के सिकंदरा स्थित सरकारी अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया. तीन से चार बच्चों को निजी नर्सिंग होम मे भर्ती कराया गया है.

ये भी पढ़ें- मुजफ्फरपुर में बोले पीएम- जिनके नसीब में विपक्ष के नेता का पद नहीं वो भी प्रधानमंत्री बनने के सपने देख रहे

मिड डे मील खाने के बाद लगभग 50 की संख्या में बच्चे बीमार हो गए थे. सरकारी अस्पताल में इलाज करवाने के बाद उनकी स्थिति सामान्य बताई गई है. स्कूल के मिड डे मील में छिपकली के गिरने की आशंका जताई गई है.

इस मामले में जमुई के सिविल सर्जन डॉक्टर श्याम मोहन दास ने बताया कि फूड प्वाईजनिंग के कारण ही स्कूली बच्चों की तबियत बिगड़ी थी जिनका इलाज होने के बाद उनकी स्थिति सामान्य है. बीमार बच्चों मे दो-तीन बच्चों मे छटपटाहट होने के शिकायत के बारे मे सिविल सर्जन ने बताया है.

रिपोर्ट- केसी कुंदन/राकेश कुमार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जमुई से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 30, 2019, 2:16 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...