Bihar Board 10th Result 2021: महज 10 साल में ही कैसे 'टॉपर्स की फैक्ट्री' बन गया बिहार का सिमुलतला विद्यालय

बिहार का जमुई स्थित सिमुलतला स्कूल (फाइल फोटो)

बिहार का जमुई स्थित सिमुलतला स्कूल (फाइल फोटो)

Bihar Board Matric Result: बिहार मैट्र‍िक के र‍िजल्‍ट में इस बार टॉपर्स की संख्‍या में अच्‍छा खासा इजाफा हुआ है. साल 2019 में टॉप 15 में जहां 50 छात्र शाम‍िल हुए थे, वहीं 2020 में टॉप 10 में 41 छात्र शाम‍िल हुए थे, लेक‍िन 2021 के नतीजों ने सबको हैरान कर द‍िया है.

  • Share this:

जमुई. बिहार में टॉपर्स की फैक्ट्री कहे जाने वाले जमुई जिला के सिमुलतला आवासीय विद्यालय (Simultala School Jamui) के छात्रों ने एक बार फिर से परचम लहराया है. बिहार मैट्रिक की परीक्षा (Bihar Matric Result 2021) में भी अपना परचम लहराते हुए यहां के बच्चों ने मेहनत और लगन का परिचय दिया है. संसाधनों से जूझने के बाद भी यहां के कई छात्रों ने टॉप टेन में स्थान बनाया है.

साल 2021 बिहार बोर्ड की मैट्रिक परीक्षा में सिमुलतला आवासीय विद्यालय की छात्रा पूजा कुमारी और सुभदर्शनी ने 484 अंक लाया है और पूरे स्टेट में पहला स्थान पाने वाले 3 लोगों में शामिल हुई है. स्कूल की छात्रा दीपाली आलोक 483 अंक लाकर सेकंड टॉपर की लिस्ट में शामिल हुई. इसी स्कूल के 14 छात्र-छात्राएं टॉप टेन के लिस्ट में शामिल हुए हैं. टॉपर की लिस्ट में शामिल होते हुए सिमुलतला आवासीय विद्यालय के छात्रों ने एक बार फिर अपना लोहा मनवाया है.

संसाधनों के अभाव के बाद भी इस स्कूल के छात्र लगातार कई वर्षों से टॉपर बनते आ रहे हैं. नेतरहाट की तर्ज पर जमुई जिले के सिमुलतला में स्थापित सरकार के इस ड्रीम प्रोजेक्ट वाले स्कूल में बिहार भर के छात्र-छात्राओं का नामांकन होता है. वर्ष 2010 में स्थापित इस स्कूल के छात्र पहली बार 2015 में मैट्रिक परीक्षा में शामिल हुए थे, तब इस स्कूल के 30 छात्रों ने टॉप टेन में अपना स्थान बनाया था. साल 2016 के मैट्रिक परीक्षा में भी इसी विद्यालय के 42 छात्रों ने टॉप टेन स्थान बनाकर टॉपर हुए थे.

2017 में 12 और 2018 में 16 के बाद 2019 में 16 छात्र मैट्रिक परीक्षा में टॉप टेन में शामिल हुए थे. साल 2020 के परिणाम में इस स्कूल का कोई छात्र टॉपर तो नहीं हुआ, लेकिन 2021 में एक बार फिर इस स्कूल ने अपना जलवा दिखाया है. मैट्रिक परीक्षा में कई टॉपर देने वाले सिमुलतला आवासीय विद्यालय के प्राचार्य डॉ राजीव रंजन ने बताया कि यह परिणाम छात्रों के मेहनत और शिक्षकों का प्रयास का नतीजा है. आने वाले वर्षों में स्कूल के छात्र और बेहतर करें इसके लिए स्कूल प्रबंधन और शिक्षकों के द्वारा कोशिश जारी रहेगी यहां के छात्र जी जो भी संसाधन है, उसके बीच रहकर पूरी लगन के साथ पढ़ाई कर रहे हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज