• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • Jamui News: अचानक पत्नेश्वर धाम मंदिर की बाउंड्री फांदने लगीं सैकड़ों महिला श्रद्धालु, जानें वजह

Jamui News: अचानक पत्नेश्वर धाम मंदिर की बाउंड्री फांदने लगीं सैकड़ों महिला श्रद्धालु, जानें वजह

जमुई के पत्नेश्वर धाम में उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़

Pahli Somwari of Sawan: मंदिर के मुख्य पुजारी ने बताया कि कोरोना के कारण मंदिर में भीड़ इकट्ठा होने पर रोक थी. इसके बाद भी पहली सोमवारी पर सुबह से ही हजारों की संख्या में श्रद्धालु पहुंचे. मना करने के बाद भी लोग चहारदीवारी फांद कर मंदिर में पहुंच गए.

  • Share this:
जमुई. कोरोना महामारी के कारण इस सावन में भी शिव मंदिरों में श्रद्धालुओं के आने की मनाही है. सरकारी निर्देश पर मंदिर के गेटों पर तो ताले लगे हैं. लेकिन, शिव भक्त आस्था में इतने डूबे हैं कि वह मंदिर कि चारदीवारी फांद कर भी जलाभिषेक करने भगवान शिव के शरण में चले आ रहे हैं. ऐसी ही तस्वीर जमुई जिले के ऐतिहासिक प्राचीन शिव मंदिर बाबा पत्नेश्वर धाम में देखने को मिली. यहां पुरुष तो क्या महिला श्रद्धालु भी चहारदीवारी फांद कर मंदिर परिसर में जाते-आते देखी गईं. मंदिर के मुख्य पुजारी उन लोगों को लाख समझाते रहे कि मंदिर में पूजा अर्चना बंद है, लेकिन लोग कहां मानने वाले थे. हजारों की बढ़ती भीड़ को देख जब इसकी शिकायत जिले के एसपी से की गई तब वहां पुलिस बल पहुंचा. लेकिन तब तक सैकड़ों लोग चहारदीवारी को फांद कर मंदिर में जा चुके थे.

जमुई शहर से सटा किउल नदी के दूसरी तरफ जिले का प्राचीन शिव मंदिर जिसका इतिहास लगभग 800 साल पुराना. यहां रोक के बाद भी सावन की पहली सोमवारी कि सुबह हजारों की भीड़ पूजा अर्चना करने के लिए पहुंच गई. पहली सोमवारी कि सुबह 4 बजे से ही श्रद्धालुओं की भीड़ जुटने लगी. भीड़ को रोकने का कोई उपाय नहीं दिखा. लोग नदी में स्नान कर मंदिर तक पहुंचने लगे.

मंदिर के गेट पर महामारी को लेकर सरकारी निर्देश के अनुसार नोटिस भी चिपका था और ताले भी लगे थे, लेकिन आस्था में डूबे श्रद्धालु कहां मानने वाले थे. पहाड़ पर स्थित यहां पहुंचे सैकड़ों श्रद्धालु मंदिर कि चहारदीवारी को बांधकर आने- जाने लगे. जान जोखिम में डालकर पुलिस के सामने ही बड़ी संख्या में महिला श्रद्धालुओं ने चहारदीवारी फांद कर मंदिर में घुस जलाभिषेक व पूजा अर्चना की.

मंदिर के मुख्य पुजारी राजीव कुमार पांडे ने बताया कि रोक के बाद भी पहली सोमवारी पर सुबह से ही हजारों की संख्या में श्रद्धालु पहुंचे. मना करने के बाद भी लोग चहारदीवारी फांद कर मंदिर में चले गए, जिसमें महिलाएं भी शामिल थीं. हैरानी की बात थी कि सुबह 9 बजे तक जिला प्रशासन या पुलिस का कोई भी शख्स वहां मौजूद नहीं था. उन्हें डर था कि कोई हादसा ना हो जाए. इस बारे में स्थानीय थाने को भी सूचना दी गई. बाद में इस बारे में जिले के पुलिस जिले के एसपी को बताया गया तब यहां पुलिस के जवान यहां पहुंचे.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज