तेजस्वी यादव का एडमिशन कराने स्कूल पहुंचे JDU नेता, बोले- नेता जी हैं मैट्रिक फेल

राजद प्रमुख तेजस्वी यादव का विपक्ष ने 10वीं में एडमिशन कराने की मांग की है.

राजद प्रमुख तेजस्वी यादव का विपक्ष ने 10वीं में एडमिशन कराने की मांग की है.

बिहार (Bihar) में जेडीयू (JDU) और बीजेपी (BJP) के बीच राजनीतिक विरोध लगातार बढ़ता जा रहा है. जदयू के कार्यकर्ताओं ने आज प्रवेशोत्सव कार्यक्रम के तहत तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) का दसवीं में दाखिला कराने की मांग की. बताया कि तेजस्वी 10वीं फेल हैं इसलिए उनको पढ़ने की जरूरत है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 25, 2021, 6:56 PM IST
  • Share this:
पटना. बिहार (Bihar) के पूर्व मुख्यमंत्री लालू-राबड़ी के छोटे पुत्र तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) मैट्रिक फेल हैं. ये बात उनके लिए गले की फांस बन गई है. अमूमन हर वक्त पर जेडीयू-बीजेपी (JDU-BJP) नेता तेजस्वी यादव को नौवीं फेल राजनेता कहकर उपहास उड़ाते हैं. नेता प्रतिपक्ष को मैट्रिक फेल बताकर विरोधी दल के नेता उन्हें राजनीति का फेलस्वी यादव बताते हैं. बिहार विधानसभा में हंगामा, मारपीट के लिए मैट्रिक फेल तेजस्वी यादव को जिम्मेदार ठहराते हुए विरोधियों ने पढ़ाई करने की वकालत की है.

जेडीयू के कार्यकर्ता तेजस्वी की आगे की पढ़ाई के लिए सामने आये हैं. जेडीयू नेताओं ने नेता प्रतिपक्ष को मंद बुद्धि बताकर आगे की पढ़ाई और ज्ञान के लिए पटना के एक सरकारी स्कूल में नामांकन के लिए आवेदन दिया है. विधानसभा में विपक्ष की गुंडागर्दी के बाद सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच विरोध बढ़ते जा रहा है. बढ़ते विरोध को देखते हुए आज सत्ता पक्ष खास कर जदयू समर्थको ने अनोखा विरोध प्रदर्शन किया.

RJD ने 26 मार्च को किया बिहार बंद का एलान, तेजस्वी बोले- JDU पुलिस हो गई है बिहार पुलिस

हाथ मे तेजस्वी के विरोध का पोस्टर और आवेदन लेकर ये लोग शेखपुरा के राजकीय मध्य विद्यालय पहुंचे. इन लोगों ने स्कूल के प्रिंसिपल को आवेदन दिया कि नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव का स्कूल में दाखिला किया जाय. क्योंकि वे 9वीं फेल हैं और इन्होंने पढ़ाई भी छोड़ दी है. बिहार सरकार ऐसे बच्चों को जिन्होंने पढ़ाई छोड़ दी हैं, उनके लिए स्कूलों में प्रवेसोत्सव कार्यक्रम चला रही है. उसी अभियान के तहत तेजस्वी यादव का नामांकन स्कूल में किया जाय. हालाकिं इस दौरान स्कूल के प्रिंसिपल ने भी कहा कि पढ़ने की कोई उम्र नहीं होती. यदि कोई पढ़ना चाहता है तो उसका दाखिला हम जरूर करेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज