Lockdown: बिहार के इस गौशाला में भूख से एक दर्जन गायों की मौत, 50 से अधिक पर मंडरा रहा खतरा
Jehanabad News in Hindi

Lockdown: बिहार के इस गौशाला में भूख से एक दर्जन गायों की मौत, 50 से अधिक पर मंडरा रहा खतरा
जहानाबाद के श्री कृष्ण गौशाला में एक दर्जन गायों की मौत. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

गौशाला सचिव ने बताया कि कोरोनाबंदी के दौरान एक दर्जन से ज्यादा गायों की मौत हो गयी है. अगर अब भी सरकारी स्तर पर मदद नहीं पहुंचती है तो बाकी बची गायों को बचाना कठिन होगा.

  • Share this:
जहानाबाद. कोरोना संकट काल (COVID-19 crisis) में एक ओर जहां इंसानों को बचाने की कवायद हो रही है, वहीं कई जगहों पर हमारे पालतू जानवर इस दौरान उपेक्षित हो गए हैं. ऐसी हालत में वे असमय काल के गाल में समा रहे हैं. ऐसा ही मामला सामने आया है जहानबाद के श्रीकृष्ण गौशाला (Shri Krishna Gaushala) में. यहां रह रही गायों के लिए चारे की घोर कमी हो गई है, जिससे लगभग एक दर्जन गायें मरने की बात बताई जा रही है. जानकारी के अनुसार गौशाला में रहने वाली तकरीबन 80 गाय और भैंस को चारे की कमी के कारण कई कई दिनों तक भूखे रहना पड़ रहा है.

गौशाला में चारे की कमी से गायों की असमय मौत

चारे की कमी से जूझ रहे इस गौशाला में कई बीमार गायों की जहां भूख के कारण असमय मौत हो गई. कई गायें मरणासन्न स्थिति में हैं. गौशाला के कर्मचारियों ने बताया कि पशुपालन विभाग की अनदेखी के कारण गौशाला में एक बार भी चारा का इंतज़ाम नहीं करवाया गया. जिसकी वजह से बड़ी संख्या में गायों को कई कई दिनों तक भूखा रहना पड़ा. कर्मचारियों के अनुसार कोरोनाबंदी के दौरान तकरीबन एक दर्जन से ज़्यादा गायें मर गयीं. वहीं कुछ गायें अब मरणासन्न स्थिति में हैं.



चंदा बंद होने से बढ़ गई मुश्किल
गौशाला के रख-रखाव करनेवालों ने बताया कि कोरोना लॉकडाउन में बाजार बंद हो जाने से गौशाला को मिलने वाला चंदा बंद हो गया, जिससे यहां रहने वाली गायों के खाने का इंतज़ाम किया जाता था. इस बात को लेकर उन्होंने अधिकारियों और मंत्रियों से भी गाय के चारे के लिए फरियाद लगाई, मगर नतीजा "ढाक के तीन पात' ही निकला. उन्होंने बताया कि गांव-गांव में घूम कर स्थानीय लोगों द्वारा चारा इकट्ठा किया गया, जिससे गायों को पिछले डेढ़ माह से खाना खिलाया जा रहा है.

गौशला सचिव ने कही ये बात
गौशाला के सचिव ने बताया कि एक तो पहले से ही यहां बूढ़ी और बीमार गायों को भर्ती किया जाता है. ऊपर से चारे की कमी ने और भी परेशानी बढ़ा दी है. उन्होंने बताया कि कोरोनाबंदी के दौरान एक दर्जन से ज़्यादा गायों की मौत हो गई है. अगर अब भी सरकारी स्तर पर मदद नहीं पहुंचती है तो तकरीबन एक दर्जन गाय भूख से दम तोड़ देगी.

ये भी पढ़ें


आरक्षण पर SC के फैसले पर बिहार में सियासत, दलित विधायकों ने केंद्र को भेजा पत्र




Lockdown: 15 ट्रेनों से 18 हजार लोग आज पहुंच रहे बिहार, कोटा से अब तक लौटे 13 हजार स्टूडेंट्स

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading