मखदुमपुर विधानसभा: बिहार को कई मंत्री देने वाले इस सीट से 2015 में जीतन राम मांझी को मिली थी करारी शिकस्त

बिहार के पूर्व सीएम जीतन राम मांझी की फाइल फोटो
बिहार के पूर्व सीएम जीतन राम मांझी की फाइल फोटो

Bihar Assembly Elections: बिहार की मखदुमपुर सीट से रामाश्रय प्रसाद सिंह, महावीर प्रसाद, रामजतन सिन्हा, सुखदेव प्रसाद वर्मा, बागी कुमार वर्मा जैसे नेता चुनाव जीत चुके हैं और इनमें से कई बिहार सरकार के मंत्री भी रह चुके हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 20, 2020, 12:18 PM IST
  • Share this:
जहानाबाद. बिहार में होने वाले विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections) को लेकर जिन सीटों पर सभी की निगाहें टिकेंगी उनमें जहानाबाद जिले का मखदुमपुर सीट भी है. कभी बिहार के मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी (Jitan Ram Manjhi) का चुनाव क्षेत्र रहा मखदुमपुर विधानसभा क्षेत्र अपनी ऐतिहासिक और धार्मिक कारणों के लिए भी चर्चित है. विश्व प्रसिद्ध वाणावर की पहाड़ियां और अशोक कालीन गुफा के लिए प्रसिद्ध यह विधानसभा जहानाबाद जिले के अंतर्गत पड़ता है. फिलहाल इस सुरक्षित सीट पर राजद के सूबेदार दास प्रतिनिधित्व कर रहे हैं.

सूबेदार से हार गए थे मांझी

पिछले विधानसभा चुनाव यानी 2015 में राजद के सूबेदार दास ने हम पार्टी के सुप्रीमो सह पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी को पराजित किया था. सूबे में वीआईपी सीट के रूप में चर्चित इस विधानसभा क्षेत्र से एक मुख्यमंत्री के अलावा तकरीबन आधा दर्जन मंत्री बने हैं.



राजनैतिक पार्टियों की पकड़
वैसे तो इस विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस, लोजपा, जदयू और राजद के प्रत्याशी चुनाव जीतते रहे हैं परंतु मुख्य मुकाबला राजद और एनडीए के बीच ही होता है. पिछले चुनाव में इस विधानसभा क्षेत्र से हम पार्टी सुप्रीमो जीतन राम मांझी और महागठबंधन की ओर से अनजान चेहरा सूबेदार दास के बीच मुख्य मुकाबला था जिसमें हैवी वेट माने जाने वाले पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी को हार का सामना करना पड़ा था. हालांकि इस बार राजनीति के परिदृश्य बदल गए हैं हम पार्टी एक बार फिर से जदयू के साथ एनडीए में शामिल है वहीं राजद के मौजूदा प्रत्याशी सूबेदार दास को अपनी ही पार्टी में विरोध का सामना करना पड़ रहा है. कभी इस सीट से रामाश्रय प्रसाद सिंह, महावीर प्रसाद, रामजतन सिन्हा, सुखदेव प्रसाद वर्मा, बागी कुमार वर्मा जैसे चेहरों ने चुनाव जीतकर मंत्री पद का ओहदा संभाला था.

मतदाताओं की संख्या

इस विधानसभा क्षेत्र में 239484 मतदाता हैं जिनमें 125457 पुरुष और 114027 महिला मतदाता शामिल हैं.

समस्या

कई मंत्रियों और मुख्यमंत्री के क्षेत्र के रूप में चर्चित रहे इस विधानसभा क्षेत्र मैं सिंचाई व्यवस्था के साथ-साथ एक बड़े इलाके में पेयजल की समस्या भी है जिसको लेकर ग्रामीण काफी परेशान रहते हैं. इसके अलावा कई इलाकों में सड़क की कमी भी मुख्य समस्या है.

विजेता और उपविजेता

2000. 1,बागी कुमार वर्मा( राजद) 62996. 2, रामजतन सिन्हा(कॉंग्रेस) 55626

2005. 1, रामाश्रय प्रसाद सिंह(लोजपा) 44050 2, बागी कुमार वर्मा (राजद) 39479

2005( मध्यविधि चुनाव) 1, कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा (राजद) 32252, 2. रामाश्रय प्रसाद सिंह(जदयू) 23628

2010. 1. जीतनराम मांझी(जदयू) 38463, 2. धर्मराज पासवान(राजद) 33378

2015. 1, सूबेदार दास(राजद) 66631 2. जीतनराम मांझी( हम) 39854
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज