नीतीश के वश में होता तो चारा घोटाला केस भी वापस ले लेते : सुशील मोदी

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद पर से लगातार दूसरा केस वापस लेने के मामले ने राजनीतिक बयानबाजी तेज हो गई है. जदयू के प्रवक्ता डॉ अजय आलोक ने विपक्ष पर सीधा निशाना साधा हैं तथा कहा है कि विपक्ष आज बेरोजगार हो गया हैं.
राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद पर से लगातार दूसरा केस वापस लेने के मामले ने राजनीतिक बयानबाजी तेज हो गई है. जदयू के प्रवक्ता डॉ अजय आलोक ने विपक्ष पर सीधा निशाना साधा हैं तथा कहा है कि विपक्ष आज बेरोजगार हो गया हैं.

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद पर से लगातार दूसरा केस वापस लेने के मामले ने राजनीतिक बयानबाजी तेज हो गई है. जदयू के प्रवक्ता डॉ अजय आलोक ने विपक्ष पर सीधा निशाना साधा हैं तथा कहा है कि विपक्ष आज बेरोजगार हो गया हैं.

  • Last Updated: June 13, 2016, 8:30 AM IST
  • Share this:
राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद पर से लगातार दूसरा केस वापस लेने के मामले ने राजनीतिक बयानबाजी तेज हो गई है. जदयू के प्रवक्ता डॉ अजय आलोक ने विपक्ष पर सीधा निशाना साधा हैं तथा कहा है कि विपक्ष आज बेरोजगार हो गया हैं.

लिहाजा भाजपा नकारात्मक राजनीति कर रही हैं. उन्होंने बिहार के विकास में विपक्ष की सकारात्मक भूमिका की जरूरत है.

विधि मंत्री कृष्णनंदन वर्मा ने कहा कि विभागीय समीक्षा के बाद केस वापस हुआ है. सरकार छोटे मुकदमे में घसीटना नहीं चाहती है. नीतीश सरकार पर कोई दबाव नहीं है, जो कानून सम्मत है वही फैसला हुआ है.



लालू के बचाव में उतरे सहकारिता मंत्री आलोक महेता ने कहा कि विपक्ष पूर्वाग्रह से ग्रसित है और अकेले लालू को विपक्ष टारगेट कर रहा है. जहां मौका मिलता है वहीं विपक्ष राजनीति शुरू कर देता है.
उधर पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने ट्वीट कर कहा है कि यदि नीतीश सक्षम होते तो लालू यादव के चारा घोटाले से जुड़े भ्रष्टाचार के भी मुकदमे वापस करा लेते. सीएम बने रहने के लिए नीतीश कुमार कुछ भी कर सकते हैं.

नंदकिशोर यादव ने कहा कि लालू के दबाव में सीएम काम कर रहे हैं. सभी दलों के नेताओं पर आचार संहिता के उल्लंघन से जुड़ा केस है. उन मुकदमों को वापस क्यों नहीं ले रही है. नीतीश सक्षम होते तो लालू से चारा घोटाला केस भी वापस ले लेते.

 

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज