लाइव टीवी

जहानाबाद : बदइंतजामी का शिकार सदर हॉस्पिटल, डॉक्टर फोन पर देते हैं सलाह

RAGHIB AHSAN | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: September 12, 2017, 11:25 PM IST

बदइंतजामी और कुव्यवस्था के लिय प्रसिद्ध जहानाबाद के सदर अस्पताल में शाम होते ही महिला मरीजों को परेशानियों का सामना करना पड़ता है. रात को जरूरत होने पर भी महिला डॉक्टरों का दर्शन तक मुश्किल है.

  • Share this:
बदइंतजामी और कुव्यवस्था के लिय प्रसिद्ध जहानाबाद के सदर अस्पताल में शाम होते ही महिला मरीजों को परेशानियों का सामना करना पड़ता है. रात को जरूरत होने पर भी महिला डॉक्टरों का दर्शन तक मुश्किल है.

अक्सर प्रसव पीड़ा से परेशान महिलाओं को फर्श पर लेटा दिया जाता है और नर्स के भरोसे छोड़ दिया जाता है.सिविल सर्जन ने बतया कि डॉक्टर और संसाधन की कमी होने से परेशानी हो रही है.

सूरज ढलने के बाद जहानाबाद सदर अस्पताल में तैनात महिला डॉक्टर ऑन डयूटी होते हुए भी नहीं आती हैं. अस्पताल में मरीज़ का इलाज करने के बदले फ़ोन पर ही सलाह देती हैं. सदर अस्पताल में रात के किसी भी समय हालत ऐसे ही नज़र आते हैं.

मरीज़ फर्श या बिस्तर पर दर्द से बेचैन रहते हैं, लेकिन उसके इलाज के नाम पर सिर्फ डॉक्टर से फ़ोन पर सलाह मिलती है. उनको देखने वाला कोई रहता ही नहीं और न ही उनका इलाज हो पाता हैृ. अस्पताल में तैनात महिला कर्मचारियों ने बताया कि डयूटी पर तैनात चिकित्सक अपने घर से ही मरीजों का इलाज कर देती हैं.

इस बाबत सिविल सर्जन ने बताया कि सदर स्पताल में संसाधन और डॉक्टरों की काफी कमी है. कभी-कभी तो अस्पताल में तैनात तीनों महिला चिकित्सकों को बारह-बारह घंटे डयूटी करनी पड़ती है. ऐसे में किसी दिन अवकाश पर चले जाने पर यह समस्या हो जाती है.

गौरतलब है कि जहानाबाद सदर अस्पताल में पिछले एक महीने में इलाज की कमी से तीन प्रसूति महिला की मौत हो गई थी, जिसके बाद मरीज़ के परिजनों ने अस्पताल में काफी हंगामा मचाया था.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जहानाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 12, 2017, 10:52 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर