मंदिर में नंदी की मूर्ति के दूध पीने की उड़ी अफवाह, भक्तों ने कहा- महादेव का चमत्कार

मंदिर में मौजूद श्रद्धालु भी ये दावा करने लगे कि उनके हाथ से नंदी की मूर्ति ने जल ग्रहण किया है. बहरहाल यह आस्था है या अंधविश्वास यह पाठक ही तय करें, लेकिन सावन के महीने में अक्सर ऐसी बातें सामने आ रही हैं.

News18 Bihar
Updated: July 27, 2019, 4:51 PM IST
मंदिर में नंदी की मूर्ति के दूध पीने की उड़ी अफवाह, भक्तों ने कहा- महादेव का चमत्कार
जहानाबाद के मंदिर में नंदी को जल ग्रहण करवाने की कोशिश में लगे श्रद्धालु
News18 Bihar
Updated: July 27, 2019, 4:51 PM IST
सावन में भगवान शिव के जयघोष के बीच कई जगहों से 'दैवीय चमत्कार' जैसी खबरें भी सामने आ रही हैं. ऐसी ही खबर बिहार के जहानाबाद से भी आई जब एक शिव मंदिर में शिव की सवारी नंदी के जल और दूध ग्रहण करने की खबरें सामने आई. इसके बाद तो जिसे भी ये खबर लगी वही कटोरी में जल लेकर नंदी के दर्शन को चल पड़ा.

आग की तरह फैल गई खबर
मामला शहर के निजामुद्दीनपुर मोहल्ले स्थित शिव मंदिर की है. शनिवार की सुबह से ही यह खबर फैली कि  शिव मंदिरों में स्थापित बसहा बैल यानी नंदी जल ग्रहण कर रहे हैं.  देखते ही देखते आस-पास के मोहल्लों में यह खबर आग की तरह फैल गई. लोगों का हुजूम कटोरियों में जल लेकर मंदिरों की ओर चल पड़ा.

भक्तों का लग गया तांता

नंदी के जल ग्रहण करने की खबर कहां से शुरू हुई ये तो नहीं पता चल सका, लेकिन स्थानीय लोगों ने बताया कि गांव में अचानक यह बात फैली. कुछ लोगों ने बताया कि शिव के मंदिर में नंदी मूर्ति जल ग्रहण कर रहे हैं. इसके बाद से ही वहां भक्तों का तांता लगने लगा.

jehanabad
नंदी के जल ग्रहण करने की खबर के बाद जहानाबाद के मंदिर में उमड़े श्रद्धालु


आस्था या अंधविश्वास के बीच उलझा सवाल
Loading...

मंदिर में मौजूद श्रद्धालु भी ये दावा करने लगे कि उनके हाथ से नंदी की मूर्ति ने जल ग्रहण किया है. यह आस्था है या अंधविश्वास यह पाठक ही तय करें, लेकिन सावन के महीने में अक्सर ऐसी बातें सामने आ रही हैं.

24 साल पहले गणेश की प्रतीमा ने पिया था दूध
सबसे पहले 1995 में 21 सितंबर (गणेश चतुर्थी) को यह अफवाह फैली थी कि गणेश प्रतिमाएं दूध पी रही हैं. देखते ही देखते मंदिरों में भीड़ लग गई. न्यूज चैनलों पर अटलजी समेत कई नेता गणेशजी को दूध पिलाते दिख रहे थे. इसके बाद समय-समय पर दूसरे देवी-देवताओं के दूध पीने की खबर भी आती रहीं.

वैज्ञानिक भी नहीं दे पाए थे इसका जवाब
जैसे ही गणेशजी के दूध पीने की खबरें फैली, वैज्ञानिकों ने तुरंत यह कहकर रिएक्ट किया कि यह नेचुरल साइंस है, लेकिन वे यह नहीं बता पाए कि ऐसा नेचुरल करिश्मा पहले कभी क्यों नहीं हुआ और केवल 24 घंटे तक ही क्यों चला?

(रिपोर्ट- रागिब अहसन)

(नोट- न्यूज 18 ऐसी किसी भी खबर की सच्चाई के बारे में पुष्टि नहीं करता है) 

ये भी पढ़ें-

फोर्ब्स में लिस्टेड बिहार के उद्योगपति संप्रदा सिंह का निधन

फर्जी गन लाइसेंस और अवैध हथियार के बड़े रैकेट्स का खुलासा
First published: July 27, 2019, 3:41 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...