कोरोना के कहर ने किया मजबूर, बिहार का ये नामी कलाकार पेट भरने बना मजदूर
Kaimur News in Hindi

कोरोना के कहर ने किया मजबूर, बिहार का ये नामी कलाकार पेट भरने बना मजदूर
मजदूरी करने के लिए मजबूर है कलाकार संतोष निषाद.

बिहार (Bihar) के कैमूर (Kaimur) में आर्गन कलाकार लॉकडाउन (Lockdown) मे काम बन्द होने से मजदूरी करने को मजबूर हो गया है.

  • Share this:
कैमूर. बिहार (Bihar) के कैमूर (Kaimur) में आर्गन कलाकार लॉकडाउन (Lockdown) मे काम बन्द होने से मजदूरी करने को मजबूर हो गया है. आर्गन बजाकर पूरे बिहार में नाम कमाने वाले कैमूर जिले के भगवानपुर प्रखंड का कलाकार संतोष निषाद लॉकडाउन में काम बंद होने के कारण बेरोजगार हो गए. परिवार के 10 लोगों का खर्चा चलाने का जिम्मा उनके कंधों पर हैत्र ऐसे में वो परिवार का खर्च वहन करने के लिए आर्गन छोड़कर फावड़ा थामकर राजमिस्त्री के साथ मजदूरी करने लगे. वे अब अपने परविार का पेट भरने के लिए मजदूरी करने के लिए मजबूर हैं.

संतोष निषाद वाराणसी और पटना में रेडियो स्टेशन पर भी कार्यक्रम में आर्गन की प्रस्तुति दे चुके हैं. इसके अलावा भोजपुरी के निर्गुण गायक भरत शर्मा के साथ भी अपनी प्रस्तुति दे चुके हैं. साथ ही जिला प्रशासन की तरफ से जिलाधिकारी ने दो बार बेस्ट आर्गन बजाने का अवार्ड भी उन्हें मंच से दे चुके है. इसके बावजूद लॉकडाउन में सारे काम बंद हो जाने के कारण जितने भी इनके प्रोग्राम पहले से तय थे सब कैंसिल हो गए ,जब तक पास में पैसे थे घर के खर्चे चलें पैसे खत्म होने के बाद जब इन्हें कहीं काम नहीं मिला और ना ही जिला प्रशासन से मदद मिली तो इन्होंने हाथ में फावड़ा थामकर राजमिस्त्री के साथ मजदूरी करने लगे जिससे कि परिवार की जीविका चल सके.

कभी नहीं की थी मजदूरी
कलाकार के पिता मुन्नू मलाह व परिवार वाले बताते हैं कभी ऐसा दिन नहीं आया था और ना ही संतोष ने कभी मजदूरी की थी, लेकिन हम लोगों के जीविका चलाने के लिए संतोष ने आर्गन छोड़ हाथों में कुदाल पकड़ लिया और मजदूरी करने चल दिया. न तो जिला प्रशासन आज तक आवास योजना का ही लाभ दिला पाया और ना ही राशन कार्ड ही बन पाया.
पीएम मोदी की योजना काम आई


संतोष के पिता बताते हैं कि पीएम नरेन्द्र मोदी द्वारा जनधन खाते में जो पैसे भेजे गए थे, उससे कुछ दिन तक लाक डाउन में परिवार की नैया पार लगी, लेकिन कितने दिन काम चल पाता. इसलिए मजबूरी में मजदूरी करनी पड़ी. आर्गन कलाकार संतोष बताते हैं कि ऐसा दिन भी आयेगा कभी सोचा नहीं था. आर्गन की कला सीखने के बाद लगातार बढ़ते गया. प्रसिद्ध भोजपुरी निर्गुण गायक भरत शर्मा से लेकर कई गायकों के साथ काम करने का मौका मिला. वाराणसी से लेकर पटना रेडियो स्टेशन तक कला दिखाने का मौका मिला पर कोरोना महामारी को लेकर लगा लॉक डाउन में सब बदल दिया,सारे कार्यक्रम रद्द हो गए और हमे मजबूर कर दिया.

ये भी पढ़ें:
दिल्ली में पत्रकार परिवार के लिए काल बना Corona, सभी सदस्य पॉजिटिव, 2 की मौत, राहुल गांधी ने साझा किया दर्द

कानपुर के मेडिकल कॉलेज में अंडा खाने को लेकर बवाल, जूनियर ने लगाया रैगिंग का आरोप
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज