लाइव टीवी

इस गांव के चावल से लगता है अयोध्या में भगवान राम का भोग, पर 10 सालों से धान नहीं खरीद रही सरकार

News18 Bihar
Updated: December 7, 2019, 1:19 PM IST
इस गांव के चावल से लगता है अयोध्या में भगवान राम का भोग, पर 10 सालों से धान नहीं खरीद रही सरकार
कैमूर के मोकरी पंचायत में पिछले 10 वर्षों से धान की सरकारी खरीद नहीं हुई है.

हर पांच वर्ष पर पैक्स का चुनाव होता है. किसान हर बार उम्मीद करते हैं कि इस वर्ष धान की खरीद होगी. पर दस वर्ष बीत गए पर आज तक किसान के धान और गेंहू सरकारी दर पर खरीदारी नहीं हुई.

  • Share this:
कैमूर. यहां भभुआ प्रखण्ड (Bhabhua block) के मोकरी गांव के किसान पैक्स चुनाव में हर साल वोट देते हैं, लेकिन 10 वर्षों से पैक्स द्वारा किसानों के धान (Paddy) की खरीदारी नहीं की जाती है. ऐसे में यहां के किसान कम दामों पर बिचौलियों को अपना धान बेचने को मजबूर हैं. दरअसल इसके पीछे की वजह वह यहां के पूर्व पैक्स अध्यक्ष पर लगा भ्रष्टाचार का आरोप है. बताया जा रहा है कि उन्होंने 40 लाख रुपया का गबन किया गया था जिसके बाद सहकारिता विभाग (Co-operative department) ने पैक्स को डिफॉल्टर मानते हुए किसानों से धान खरीद पर रोक लगा दी.

हालांकि हर पांच वर्ष पर पैक्स का चुनाव होता है. किसान हर बार उम्मीद करते हैं कि इस वर्ष धान की खरीद होगी. पर दस वर्ष बीत गए पर आज तक किसान के धान और गेंहू सरकारी दर पर खरीदारी नहीं हुई.

अधिकारियों से लगा चुके गुहार
किसान सफी मोहम्मद बताते हैं कि पैक्स द्वारा खरीद नहीं होने पर हमलोग बनिया को कम दाम पर धान और गेहूं बेचते हैं जिसमें 400 रुपया का प्रत्येक क्विंटल पर घाटा लगता है. हर बार पैक्स चुनाव में वोट इस उम्मीद से देते हैं कि इस बार नए पैक्स अध्यक्ष बनने पर हमलोगों की धान की खरीदारी होगी पर ऐसा नहीं होता है.

पंचायत के पैक्स अध्यक्ष भी हैं परेशान
मोकरी पंचायत के पैक्स अध्यक्ष राम दयाल बताते हैं कि हम दो बार पैक्स अध्यक्ष रह चुके हैं और तीसरी बार चुनाव लड़ रहे हैं. किसान हमसे सवाल करते है कि क्या इस बार आप धान खरीदेंगे? पर विभाग सुनने को तैयार नहीं है. हम पैक्स अध्यक्ष तो बन जाते हैं पर पहले के अध्यक्ष के कारनामों के कारण अपने पंचायत के किसानों की कोई मदद नहीं कर सकते.

इसबार भी किया जा रहा दावासहकारिता विभाग के अधिकारी से कई बार आवेदन दिया कि कोई रास्ता निकाला जाए पर कोई सुनवाई नहीं हुई. जिला सहकारिता पदाधिकारी रामाश्रय राम का कहना है कि मोकरी पंचायत पैक्स अध्यक्ष डिफॉल्टर है. जिसके कारण वहां के पैक्स अध्यक्ष द्वारा धान खरीद पर रोक लगी.अब दूसरे पंचायत के पैक्स अध्यक्ष द्वारा धान की खरीद कि जाएगी.

10 वर्ष पूर्व धान की खरीद का रसीद दिखाते किसान


अयोध्या जाता है बासमती चावल
बता दें कि इस गांव का बासमती चावल अपनी खुशबू के कारण पूरे देश में मशहूर है. यहां का चावल हर साल अयोध्या राम मंदिर में भगवान श्रीराम को भोग लगाने के लिए भेजा जाता है. पर यहां के किसानों की परेशानी सुनने वाला कोई नहीं है.

चार चरणों में होंगे चुनाव
बता दें कि कैमूर में पैक्स अध्यक्ष और सचिव पद के लिए चार चरणों में चुनाव होना है. प्रथम चरण में भभुआ प्रखण्ड और रामपुर प्रखण्ड का चुनाव होना है. दिसम्बर को पहला चरण होना है जिसमे मिकरी पंचायत भी है.

रिपोर्ट- कुमार प्रमोद

ये भी पढ़ें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कैमूर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 7, 2019, 10:51 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर