Home /News /bihar /

कैमूर: खुद के जीवित होने के सबूत के लिए वृद्ध लगा रहे गुहार, 2 साल से बंद है पेंशन

कैमूर: खुद के जीवित होने के सबूत के लिए वृद्ध लगा रहे गुहार, 2 साल से बंद है पेंशन

खुद के जीवित होने के सबूत लिए उमानाथ मिश्र ने प्रखंड कार्यालय में दिया आवेदन

खुद के जीवित होने के सबूत लिए उमानाथ मिश्र ने प्रखंड कार्यालय में दिया आवेदन

बुजुर्ग उमानाथ मिश्र ने प्रखंड कार्यालय में गुहार लगाई तो कार्यालय के बाबू ने साफ कह दिया कि आप को मृत घोषित कर दिया गया है, जब आप जिंदा होने का प्रमाण पत्र बनवाकर लाएंगे तो आपका पेंशन चालू किया जाएगा.

    बिहार के कैमूर में एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है. यहां एक जीवित व्यक्ति को सरकारी दस्तावेजों में मृत घोषित कर दिया गया है और अब वह खुद के जिंदा होने का सबूत लेकर अधिकारियों से गुहार लगा रहा है.

    मामला भगवानपुर प्रखंड के उमापुर गांव का है. यहां के उमानाथ मिश्र नाम के एक बुजुर्ग का वृद्धावस्था पेंशन बंद कर दिया गया है. वह अपनी गुहार लेकर कई बार बैंक से लेकर प्रखंड कार्यालय तक पहंचे हैं, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई है.  उन्होंने जब प्रखंड कार्यालय में गुहार लगाई तो कार्यालय के बाबू ने साफ कह दिया कि आप को मृत घोषित कर दिया गया है, जब आप जिंदा होने का प्रमाण पत्र बनवाकर लाएंगे तो आपका पेंशन चालू किया जाएगा.

    ये भी पढ़ें-  बिहार NDA ने 17+17+6+1 फॉर्मूले पर लगाई मुहर, सीटों के चयन पर अभी नहीं हुआ फैसला

    बाबू की बात से आहत वृद्ध उमानाथ मिश्र ने अपने जीवित होने के सबूत के लिए भगवानपुर प्रखंड के BDO मयंक कुमार सिंह को अपना आवेदन भी दिया है, लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है. हालांकि उन्होंने ये जरूर कहा है कि तकनीकी कारणों से गलती हुई इसे ठीक कर लिया जाएगा.

    ये भी पढ़ें-  RJD के शासनकाल में अपराधियों को मिलता था संरक्षण, अब होती है कार्रवाई: नित्यानंद राय

    जाहिर है सवाल उठ रहे हैं कि आखिर ये कैसा सिस्टम है जहां एक व्यक्ति को अपने ही जीवित होने का सबूत देने के लिए कार्यालयों के चक्कर लगाने पड़ रहे हैं. बहरहाल मंदिर में पूजा पाठ करवाकर गुजर करने वाला यह गरीब तो सरकारी सिस्टम का शिकार बना महज एक उदाहरण है. न जाने और भी कितने लोग खुद के ही जीवित होने का सबूत लोग सरकारी कार्यालयों के चक्कर लगा रहे होंगे.

    इनपुट- प्रमोद कुमार

    ये भी पढ़ें-  मुंगेर: लापता बेटे की बरामदगी के लिए अनिश्चितकालीन अनशन बैठी मां, हत्या की आशंका

    Tags: Bihar News

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर