Home /News /bihar /

this bihar village become drug narcotic hub from adult to child consume liquor cannabis women say we are on the brink of destruction nodmk3

बिहार के इस गांव में शाम होते ही जम जाती है शराबियों की महफिल, बच्‍चे भी करते हैं नशा का सेवन

कैमूर के सरियांव गांव शराबियों का अड्डा बन चुका है. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

कैमूर के सरियांव गांव शराबियों का अड्डा बन चुका है. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

Kaimur News: बिहार में सख्‍त शराबबंदी कानून लागू है. इसके बावजूद शराब पीना आम बात है. कैमूर जिले का एक गांव तो शराबियों और गंजेड़ियों का अड्डा बन चुका है. यहां युवा से लेकर बच्‍चे तक नशे का सेवन करने लगे हैं. इससे खासतौर पर महिलाओं की समस्‍याएं काफी बढ़ गई हैं. उन्‍होंने स्‍थानीय प्रशासन से अविलंब कार्रवाई करने की मांग की है.

अधिक पढ़ें ...

अभिनव कुमार सिंह

कैमूर. बिहार में यूं तो सख्‍त शराबबंदी कानून लागू है, लेकिन प्रदेश में शराब पीने की घटनाएं लगातार सामने आती रहती हैं. राजधानी पटना से लेकर दूर-दराज के जिलों में शराबबंदी कानून का मखौल उड़ाने वाली घटनाएं अक्‍सर ही देखने और सुनने में मिलती रहती हैं. ऐसा ही एक मामला बिहार के कैमूर जिले में सामने आया है. जिले के एक गांव में शराब, गांजा, चरस जैसे मादक पदार्थों को सरेआम बेचा जा रहा है. हालत यह है कि गांव के बच्‍चे से लेकर बूढ़े तक नशे की गिरफ्त में आ चुके हैं. शाम होते ही गांव में शराबियों की महफिल जम जाती है. इससे खासतौर पर महिलाओं का जीना दूभर हो गया है. ग्रामीणों ने स्‍थानीय प्रशासन से अविलंब कार्रवाई की मांग की है, ताकि गांव में अमन और शांति कायम की जा सके.

कैमूर जिले में नशे का हब बने गांव का नाम सरियांव है. सख्‍त शराबबंदी कानून लागू होने के बावजूद यहां सरेआम नशाखोरी की जाती है. कैमुर के दुर्गावती प्रखंड के सरियांव गांव के ग्रामीणों ने गांव में धड़ल्ले से बिक रही अवैध शराब, चरस और गांजा कि खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. ग्रामीणों ने धंधेबाजों की गिरफ्तारी के लिए सरकार और प्रशासन से कार्रवाई करने की गुहार लगाई है. बताते चलें कि थाने से महज 4 किलोमीटर की दूरी पर सरियांव गांव स्थित है. यहां धंधेबाजों द्वारा शराब, गांजा और चरस की खुलेआम बिक्री की जाती है.

बिहार में शराब की सप्लाई करने वाले तीन बड़े माफिया दिल्ली से गिरफ्तार 

Bihar Drug Hub Village

सरियांव गांव में शराब के बोतल और पाउच दिखना आम बात है. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

बेखबर प्रशासन
बताया जाता है कि इस गांव से तस्कर दूसरे गांव में भी नशीले पदार्थों की सप्‍लाई करते हैं. इतना सब होने के बावजूद प्रशासन के कानों में जूं तक नहीं रेंगता है. अवैध शराब की बिक्री से गांव के समाज और छोटे-छोटे बच्चों पर बुरा असर पड़ रहा है. गांव की आधी आबादी को शराब की लत लग चुकी है. ग्रामीणों ने बताया कि यहां पर छोटे-छोटे बच्चे भी शराब और गांजा का सेवन करने लगे हैं. गांव की गलियों में जहरीली शराब की खाली बोतलें फेंकी जाती हैं. यह सब बिहार में शराबबंदी मुहिम की पोल खोलती हैं.

महिलाओं की अपील
महिलाएं भी नशे के धंधेबाजो की गिरफ्तारी को लेकर प्रशासन से गुहार लगाई है. महिलाओं का कहना है कि शाम होते ही शराबियों की महफिल जम जाती है. शराब पीकर लोग घर में हंगामा करते हैं. पत्‍नी, बेटी, बहुओं आदि के साथ मारपीट करते हैं. यही नहीं शराब की नशे में लोग चोरी की घटनाओं को भी अंजाम दे रहे हैं. महिलाओं का कहना है कि समय रहते यदि प्रशासन ने ध्यान नहीं दिया तो हमारा गांव विनाश के कगार पर पहुंच जाएगा.

Tags: Bihar News, Liquor Ban

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर