• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • चारे के अभाव में भूखे मर रही है गायें, सुध लेने वाला कोई नहीं

चारे के अभाव में भूखे मर रही है गायें, सुध लेने वाला कोई नहीं

बिहार के सीमांचल क्षेत्र में हार-जीत का मुद्दा तय करने वाली गाय का क्या हाल है, इसकी सच्चाई कटिहार के श्रीकृष्ण गौशाला में साफ झलक रही है. यहां दाना-पानी के आभाव में गायें तिल-तिल कर मर रही हैं, लेकिन सुध लेने वाले कोई नहीं है.

  • Share this:
बिहार के सीमांचल क्षेत्र में हार-जीत का मुद्दा तय करने वाली गाय का क्या हाल है, इसकी सच्चाई कटिहार के श्रीकृष्ण गौशाला में साफ झलक रही है. यहां दाना-पानी के आभाव में गायें तिल-तिल कर मर रही हैं, लेकिन सुध लेने वाले कोई नहीं है.

ठंड आते ही खुले आसमान के नीचे गायों का बुरा हाल होने लगा है. चारे का स्टॉक भी अब जवाब देने लगा है. ऐसे में सवाल उठना लाजमी है कि क्या गाय सिर्फ राजनीति के लिए बनी है?

अचानक फैली खुरा बीमारी का कहर पहले ही जानलेवा बन चूकी है. गाय की बदौलात राजनीति चमकाने वाले भी इस हकीकत को देख कर लज्जित हो जाएंगे कि गौशाला में ही लगभग 20 घंटे के भीतर दो गायों की जान चली गई और अंतिम संस्कार के लिए भी कोई व्यवस्था नहीं थी.

यह हाल कटिहार शहर के सबसे पुराने और प्रतिष्ठित श्रीकृष्ण गौशाला की है. मंत्री से लेकर सांसद तक शहर के इस निजी गौशाला का कई बार दौरा कर चुके हैं. चुनाव के बाद शायद किसी ने गौशाला की सुध लेना जरूरी नहीं समझा. हालांकि दो गायों के मरने के बाद राजनीतिक संभावनाएं तलासते हुए कुछ रहनुमा जरूर यहां पहुंचे और गौशाला को उनकी देखरेख में देने की मांग करने लगे.

श्रीकृष्ण गौशाला कमेटी के लोग वर्तमान सरकार को उसकी नीतियों पर घेरने की कोशिश कर रहे हैं. एनसीपी नेता सह गौशाला संचालन समिति से जुड़े ओपी सिंह कहते हैं कि अचानक गौ भक्तों की टोली गायों को पकड़कर गौशाला तो भेज देती है, लेकिन इसके लिए ना तो सरकारी स्तर पर कोई व्यवस्था है और ना ही संगठन विशेष के लोगों का ध्यान

हालांकि उन्होंने गायों की मौत का कारण खुरा रोग को बताया, लेकिन संख्या से अधिक गाय हो जाने से व्यवस्था में कमी की बात को भी वह मान रहे हैं. वहीं इस मामले पर जिला भाजपा के मुख्य प्रवक्ता भी कहते हैं कि राजनीती से ऊपर उठकर गौ माता की सेवा के लिए कुछ करना चाहिये, जो शायद यहां नहीं हो रहा है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज