• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • मालिक से ऑटो मांगकर कटिहार पहुंचा राजेश, बोला- वापस दिल्ली जाउंगा लेकिन सिर्फ ऑटो लौटाने

मालिक से ऑटो मांगकर कटिहार पहुंचा राजेश, बोला- वापस दिल्ली जाउंगा लेकिन सिर्फ ऑटो लौटाने

दिल्ली से कटिहार का सफर ऑटो से तय करने वाले राजेश अपने दोस्तों के साथ

दिल्ली से कटिहार का सफर ऑटो से तय करने वाले राजेश अपने दोस्तों के साथ

राजेश ने बताया कि वो दिल्ली (Delhi) में प्रति दिन 400 रुपए की दिहाड़ी पर ऑटो चलाता था. कोरोना बंदी (Corona Lockdown) में जब सब कुछ बंद होकर भुखमरी की समस्या होने लगी तो वो मालिक से ऑटो लेकर दिल्ली से कटिहार के सफर पर निकल पड़े.

  • Share this:
कटिहार. कोरोना महामारी (Corona Epidemic) के बाद लॉकडाउन (Lockdown) में काम बंद होने से रोजी-रोटी की तलाश में परदेस गए मजदूर अब लगातार अलग-अलग माध्यमों से घर लौटने लगे हैं. घर लौटने वालो की संख्या कटिहार (Katihar) में हज़ारों में हैं ऐसे में जिसे ट्रेन या बस की सेवा मिली है वो बेहद किस्मत वाले हैं लेकिन अब हालात ऐसे हैं कि लोग किसी तरह परदेस में रुकने के लिए तैयार नही है और जिसके पास जो सुविधा है उसी के सहारे बस निकल पड़े हैं घर के लिए.

चार दिन में पूरा किया सफर

इसी बीच कटिहार हसनगंज के रहने वाले राजेश कुमार शर्मा ने ऑटो से ही "दिल्ली टू कटिहार" का सफर पूरा कर लिया. चार दिन के इस सफर के बारे में राजेश ने बताया कि वो दिल्ली में प्रति दिन 400 रुपए की दिहाड़ी पर ऑटो चलाता था. कोरोना बंदी में जब सब कुछ बंद होकर भुखमरी की समस्या होने लगी तो वो मालिक से ऑटो लेकर दिल्ली से कटिहार के सफर पर निकल पड़े. राजेश ने कहा कि वो न सिर्फ़ ऑटो से सफर करके कटिहार पहुंचे बल्कि साथ में दिल्ली में रहने वाले अपने गांव के अन्य मजदूर चंदन यादव, मनोज कुमार मण्डल, विनोद मण्डल, रवि साह और संतोष जो कि दिल्ली में सरिया बांधने का काम करते थे, उन लोगों को भी ले आया.

एक कमरे में रह रहे थे छह लोग

राजेश ने कहा कि लॉकडाउन में सब काम बंद होने से रोजी-रोटी पर संकट हो गया. अब तो वहां घर से बाहर निकलना मुश्किल हो गया था. एक कमरे के रूम में किसी तरह सभी छह लोग रहने पर विवश थे. सरकार द्वारा मजदूरों को वापसी की घोषणा से कुछ राहत मिला परन्तु आने का कोई उपाय नही मिलने से जिस मालिक का ऑटो चलाते थें उससे ही घर निकलने का मन बना लिया और चार दिन चल कर दिल्ली से कटिहार पहुंचे.

चेकपोस्ट पर होती रही जांच

राजेश ने कहा कि रास्ते मे जगह-जगह बने चेकपोस्ट पर जांच भी हुई लेकिन सब को सच बयां करते गया तो किसी ने नहीं रोका और अब कटिहार हसनगंज पहुंच चुके है. राजेश कहते हैं कि हालात ठीक होते ही मालिक का ऑटो दिल्ली पहुंचा दूंगा लेकिन अब परदेस में काम नही करूंगा.

ये भी पढ़ें- मर्डर की दोहरी वारदातों से सहमा रोहतास, RJD नेता के बाद अब किसान की हत्या

ये भी पढ़ें- लॉकडाउन 4.0: जानिए पटना में क्या-क्या खुलेगा और किन चीजों पर जारी रहेगी पाबंदी

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज