बेटे की तरह 9 साल तक साथ रहा तोता, मौत के बाद अब घरवाले कर रहे श्राद्ध

मिठ्ठु की मौत के बाद से पूरा परिवार सदमे में है, खास कर मनोज की पत्नी रंजीता की हालत तो बेहद खराब है. वो उसके साथ हर लम्हे को याद कर बार-बार फफक पड़ती हैं. मनोज मिठ्ठु के आत्मा की शांति के लिए पूरे विधि विधान से श्राद्धकर्म करने की बात कह रहे हैं.

Subrata Guha | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: October 22, 2017, 1:44 PM IST
बेटे की तरह 9 साल तक साथ रहा तोता, मौत के बाद अब घरवाले कर रहे श्राद्ध
तोते की तस्वीर
Subrata Guha | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: October 22, 2017, 1:44 PM IST
अक्सर घर के पालतू पशु पक्षियों से लोगों को बेहद प्रेम होता है. खासकर बात अगर पक्षी तोता की हो तो क्या कहना. बिहार के कटिहार का एक ऐसा ही परिवार है जो अपने पालतू तोते की मौत से न केवल सदमें है बल्कि उसे अपना बेटा मानकर पूरे विधि विधान के साथ श्राद्धकर्म की तैयारी में जुटा है.

परिवार के सदस्य मिठ्ठु की मौत से इस कदर सदमें में हैं कि खाना-पीना तक छोड़ दिया है. कटिहार के जगदीश नगर के रहने वाले मनोज गोस्वामी के घर में 9 सालों से एक तोता रह रहा था. घर के लोग उसे बेटे के तौर पर मानते थे. सभी सदस्यों के साथ घुल मिल कर रहने वाले मिठ्ठु की मौत दीपावली के दिन पंखे से लग कर हो गई.

मिठ्ठु की मौत के बाद से पूरा परिवार सदमे में है, खास कर मनोज की पत्नी रंजीता की हालत तो बेहद खराब है. वो उसके साथ हर लम्हे को याद कर बार-बार फफक पड़ती हैं. मनोज मिठ्ठु के आत्मा की शांति के लिए पूरे विधि विधान से श्राद्धकर्म करने की बात कह रहे हैं.

समाज के लोग भी "गोस्वामी परिवार के इस दुख की घड़ी में ढाढ़स बढ़ते हुए साथ खड़े दिखते हैं और कहते हैं कि वाकई इस परिवार के लिए मिठू तोता नहीं बेटा था.

श्राद्धकर्म करती परिवार की महिलात


मनोज के मुताबिक बचपन में खुद से उड़ कर गोस्वामी परिवार तक पहुंचने वाले मिठ्ठु 9 सालों तक इस परिवार के साथ रह रहा और एक रिश्ता बना लिया था जिससे बिछड़ने का गम वाक्य बेहद दुखद है लेकिन सम्मान गोस्वामी परिवार के इस पक्षी प्रेम का भी करना होगा जो इस संवेदन हिन् समाज को भी एक सिख जरूर देता है ,जो छोटे -छोटे कारणों से बिछड़ कर अपने को अपना नहीं समझते है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कटिहार से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 22, 2017, 1:43 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...