कटिहारः कैसे एक फरमान को ट्रैफिक पुलिस ने बना लिया अवैध कमाई का नया जरिया

आरक्षी अधीक्षक के आदेश के बाद ई-रिक्शा चालकों को एक सुविधा नंबर प्रदान किया है ताकि शहर में ई-रिक्शा का संचालन सुचारू ढंग से हो सके, लेकिन कटिहार पुलिस के उक्त फरमान को ट्रैफिक पुलिस ने वसूली प्लान में बदल दिया है.

News18 Bihar
Updated: October 31, 2018, 11:44 AM IST
News18 Bihar
Updated: October 31, 2018, 11:44 AM IST
कटिहार जिले में हाल ही में आरक्षी अधीक्षक के आदेश के बाद ई-रिक्शा चालकों को एक सुविधा नंबर प्रदान किया है ताकि शहर में ई-रिक्शा का संचालन सुचारू ढंग से हो सके, लेकिन कटिहार पुलिस के उक्त फरमान को ट्रैफिक पुलिस ने वसूली प्लान में बदल दिया है.

यह भी पढ़ें-बिहार के इस गांव में पीएम नरेंद्र मोदी को मिला 'भगवान' का दर्जा, मंदिर में लगाई प्रतिमा

दरअसल, ई-रिक्शा में नंबर वाले स्टिकर निःशुल्क बांटने का आदेश जारी किया गया था, जिसमें ई-रिक्शा मालिक का नाम, पता और मोबाइल नंबर दर्ज रहता है. सोच यह थी कि इसके जरिए ई-रिक्शा को आसानी से ट्रैक किया जा सके, लेकिन यातायात पुलिस ने इसके जरिए अवैध वसूली शुरू कर दी है.

यह भी पढ़ें-शराब ने नशे में फायरिंग करने लगा रेल पुलिस कांस्टेबल, ट्रेन के यात्रियों ने छिप कर बचाई जान

रिपोर्ट के मुताबिक शहर में चल रहे कुल 500 ई रिक्शा चालकों और हजारों ऑटो चालकों को परिवहन लाइसेंस के अलावा उक्त नंबर जारी करने का प्रस्ताव है, लेकिन ट्रैफिक पुलिस नंबर वाले स्टिकर के बदले कुछ पैसा लेने की बात स्वीकार कर रही है जबकि ई -रिक्शा चालकों की मानें तो ट्रैफिक पुलिस स्टिकर के बदले उनसे 150 रुपए और उससे अधिक वसूल रही है.

यह भी पढ़ें-PHOTOS: मिस पॉपुलर इंटरनेशनल बनीं बिहार की सिरजन कौर, सिंगापुर में सिर पर सजा ताज

वहीं, पूरे मामले पर कटिहार पुलिस के आलाधिकारियों ने जारी किए गए नबंर वाले स्टिकरों को ई-रिक्शा चालकों के लिए पूरी तरह निशुल्क बताया है, लेकिन आज भी ट्रैफिक पुलिस स्टिकर वाले KP नंबरों के बदले अवैध वसूली कर लगातार पुलिस विभाग पर बट्टा लगा रहा है.
Loading...

(रिपोर्ट-सुब्रत, कटिहार)
First published: October 31, 2018, 11:44 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...